Saturday, Apr 13 2024 | Time 03:29 Hrs(IST)
image
राज्य


आर्य समाज एक राष्ट्रवादी संस्था है और देश का विकास उसका लक्ष्य: देवव्रत

मोरबी, 12 फरवरी (वार्ता) गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने सोमवार को कहा कि आर्य समाज एक राष्ट्रवादी संस्था है और प्रारंभ से ही उसका लक्ष्य देश का विकास ही रहा है।
श्री देवव्रत ने आगे कहा कि आर्य समाज के नियमों में संस्कारों का सिंचन, शारीरिक और सामाजिक विकास तथा देश की उन्नति का उल्लेख है। संसार का उत्थान करना ही आर्य समाज का मुख्य लक्ष्य है।
राज्यपाल ने कहा कि स्वामी दयानंद ने एक मुश्किल समय में देश में महिला शिक्षा, दलित और आदिवासी उत्कर्ष की हिमायत कर पूरी मानव जाति को समरसता का पाठ सिखाया था। उन्होंने गौ कृषि आदि रक्षिणी सभा की स्थापना कर देश की आर्थिक व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के प्रयास किए थे। उन्होंने स्वदेशी के नारे के साथ आजादी का बिगुल फूंककर देश में क्रांतिकारी सेना का निर्माण किया था।
उन्होंने कहा कि दयानंद जी ने भारत की आध्यात्मिक चेतना को जगाकर अज्ञान-पाखंड को दूर करने का भगीरथ कार्य किया है। गुजरात की धरती ने समय-समय पर राष्ट्र के महापुरुषों को जन्म दिया है। गुजरात की धरती पर जन्में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में देश में हो रहे ढांचागत विकास की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि, आज भारत में बेहतरीन सड़कें, विश्वस्तरीय हवाई अड्डे और सुदृढ़ रेलवे कनेक्टिविटी उपलब्ध है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने जा रहा है। भारत अपनी आज़ादी के अमृत काल में वर्ष 2047 यानी आजादी के सौ वर्ष पूरे होने तक विकसित राष्ट्र बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री ने भारत के गौरव और महिमा को विश्व फलक तक पहुंचाने का कार्य किया है। उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल के नेतृत्व में हो रहे विकास कार्यों की भी प्रशंसा की।
उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु द्वारा आज मोरबी जिले के टंकारा में महर्षि दयानंद सरस्वती के 200वें जन्मोत्सव- स्मरणोत्सव कार्यक्रम में उद्घाटन किया और श्री देवव्रत इसी समारोह में बोल रहे थे।
अनिल,संतोष
वार्ता
image