Saturday, Sep 22 2018 | Time 11:35 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • खलनायकी को नया आयाम दिया प्रेम चोपड़ा ने
  • सुरक्षाबलों ने कुपवाड़ा में घुसपैठ की कोशिश विफल की
  • पुलवामा में सुरक्षाबलों का व्यापक तलाश अभियान
  • चीन की नजर परमाणु ऊर्जा के अंतरराष्ट्रीय बाजार पर
  • ब्राजील की अदालत ने ट्विटर को दिया डाटा सौंपने का आदेश
  • पितृपक्ष मेला को लेकर प्रशासनिक तैयारियां पूरी
  • ट्रेन से कटकर दंपति की मौत
  • चीन ने कैरेबियाई देश डोमिनिकन रिपब्लिक में खोला दूतावास
  • मैक्सिको में पत्रकार की हत्या
  • मोदी ने चामलिंग को दी जन्मदिन की बधाई
  • नाफ्टा वार्ता विफल होने पर मैक्सिको कनाडा से करेगा समझौता : ओब्राडोर
  • ट्रम्प प्रशासन अंतरराष्ट्रीय शांति व सुरक्षा पर खतरा : ईरान
  • इजरायल सेना की गोलीबारी में फिलीस्तीनी की मौत
  • वेनेजुएला के खिलाफ अमेरिका करेगा कार्रवाई : पोम्पेओ
  • न्यूयॉर्क में तीन नवजात बच्चों,दो लोगों पर चाकू से हमला
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

उत्तर प्रदेश-योगी ओडीएफ दो अंतिम लखनऊ

श्री योगी ने कहा कि जिलों में शौचालय निर्माण तथा ओडीएफ के लक्ष्यों की प्राप्ति में अभी एक माह का समय बाकी है। अतः इन लक्ष्यों की प्राप्ति में पिछड़ रहे जिले अतिरिक्त प्रयास करके इस कार्य को पूरा करें। उन्होंने शौचालय निर्माण तथा ओडीएफ में धीमी प्रगति वाले श्रावस्ती, फतेहपुर, जौनपुर, आजमगढ़, सीतापुर, गोण्डा सहित अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को काम में तेजी लाते हुए निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के निर्देश दिये।
उन्होंने कहा कि जिस जिले में धनराशि की कमी हो वे अपनी डिमाण्ड शासन को भेजें। उन्होंने जिलों में स्वच्छाग्रहियों के भुगतान तथा राजमिस्त्रियों की ट्रेनिंग के विषय में भी जिलाधिकारियों से जानकारी ली और निर्देश दिये कि इनका भुगतान समय से कराया जाए। उन्होंने विभिन्न जिलों में स्वच्छाग्रहियों की तैनाती की संख्या की भी जानकारी ली।
वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के दौरान अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज राजेन्द्र तिवारी ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत वर्ष 2012 में किये गये बेसलाइन सर्वे के अनुसार प्रदेश में 2.6 करोड़ से अधिक परिवारों को शौचालय (इज्जतघर) निर्माण से आच्छादित किया जाना था, जिसके सापेक्ष अब तक 2.39 करोड़ से अधिक परिवारों को इज्जतघर मुहैया कराये जा चुके हैं।
श्री तिवारी ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2018-19 में इज्जतघर निर्माण में पूरे देश में 1,25,23,118 इज्जतघरों का निर्माण कराया गया है, जिसमें से 82,31,333 इज्जतघरों का निर्माण प्रदेश में कराया गया है। इस प्रकार वित्तीय वर्ष 2018-19 में इज्जतघर निर्माण में उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्तर पर पहले स्थान पर है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में 26,845 ग्राम खुले में शौचमुक्त घोषित किये गये हैं। प्रदेश के कुल 11 जिले शामली, हापुड़, बिजनौर, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर, अमरोहा, इटावा एवं सहारनपुर को खुले में शौचमुक्त घोषित किया गया है। प्रदेश में क्यू0सी0आई0 संस्था के माध्यम से इज्जतघर निर्माण एवं खुले में शौचमुक्त ग्रामों का सत्यापन का कार्य किया जा रहा है।
नगर विकास विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार सिंह ने स्वच्छ भारत मिशन (नगरीय) के विषय में मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि इसके तहत प्रदेश की 4.45 करोड़ नगरीय आबादी को आच्छादित किया जा रहा है। उन्होंने प्रदेश के 18 मण्डलों की ओडीएफ की प्रगति के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि इन मण्डलों में कुल 12,007 वार्ड हैं, जिनमें से 10,727 को ओडीएफ घोषित किया जा चुका है। उन्होंने इन मण्डलों के तहत आने वाले जिलों की ओडीएफ की स्थिति के विषय में भी जानकारी दी।
इस अवसर पर नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, ऊर्जा मंत्री श्रीकान्त शर्मा, ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 महेन्द्र सिंह, अपर मुख्य सचिव लोक निर्माण संजय अग्रवाल, प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार, सचिव मुख्यमंत्री मृत्युंजय कुमार नारायण सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
त्यागी तेज
वार्ता
image