Monday, Sep 24 2018 | Time 15:59 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कुपवाड़ा में घुसपैठ का बड़ा प्रयास विफल, पांच आतंकवादी ढेर, एक जवान शहीद
  • राफेल विमान घोटाले में केंद्र सरकार शामिल - दिग्विजय
  • फडनवीस ने लिया मीरा-भयंदर मेट्रो का श्रेय
  • एनबीएफसी में पर्याप्त तरलता सुनिश्चित करने पर काम कर रही है सरकार: जेटली
  • फ्रांस की नौका ने कमांडर टॉमी को बचाया
  • शारदा घोटाला: सीबीआई ने घोष-दत्त से की पूछताछ
  • राहुल को प्रधानमंत्री बनाने के लिए पाकिस्तान से चल रहा है अभियान:भाजपा
  • जीवन सुगमता में प्रथम रहा पुणे
  • कांग्रेस की सीवीसी से राफेल मामले की जांच की गुहार
  • पितृऋण से मुक्त होने का अवसर देता है “ पितृपक्ष”
  • टैफ़े ने लॉँन्च किया ट्रैक्टर रेंटल प्‍लेटफॉर्म ‘जेफार्म सर्विसेज’
  • राहुल भारत के अगले प्रधानमंत्री: रहमान मलिक
  • मुंबई में पेट्रोल 90 के पार दिल्ली में 83 रुपये के निकट
  • टीवीएस स्टार सिटी प्लस का नया संस्करण लांच
  • अपराधियों ने किराना व्यवसायी को मारी गोली
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

उत्तर प्रदेश-योगी बिजली दो अंतिम लखनऊ

मुख्यमंत्री ने कहा कि मजरों में विद्युतीकरण के संतृप्तीकरण के लिए प्रारम्भ में वे मजरे लिए जाएं, जिनमें किसी नए इन्फ्रास्ट्रक्चर की आवश्यकता नहीं है अथवा काफी कम इन्फ्रास्ट्रक्चर की जरुरत है। उन्होंने कहा कि लगभग 35 लाख इन्फाॅर्मल विद्युत संयोजनों को फाॅर्मल संयोजनों में परिवर्तित करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए विशेष अभियान चलाया जाए।
उन्होंने कहा कि विद्युत संयोजनों और विद्युतीकरण के साथ-साथ उपभोक्ताओं को विद्युत आपूर्ति भी सुनिश्चित की जाए। प्रत्येक परिवार को विद्युत संयोजन और शत-प्रतिशत विद्युतीकरण के लिए टीम भावना के साथ प्रभावी कार्य किया जाए। इसके लिए धनराशि की कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में पर्याप्त धनराशि उपलब्ध कराई जा चुकी है।
श्री योगी ने मैनपावर और मटीरियल की कमी को दूर किए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि कार्यदायी संस्थाएं और एजेन्सियां विद्युतीकरण एवं विद्युत संयोजन के कार्यों में तेजी लाएं। उन्होंने कहा कि जिन जनपदों, विकासखण्डों, तहसीलों, मजरों में शत-प्रतिशत विद्युतीकरण और संयोजन सुनिश्चित किया जा चुका है, वहां पर प्रदर्शनियां लगाकर समारोह आयोजित किए जाएं। इनमें स्थानीय जनप्रतिनिधियों की भागीदारी भी सुनिश्चित हो।
इस अवसर पर ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव आलोक कुमार ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि सौभाग्य योजना के तहत 11 अक्टूबर, 2017 से अब तक उत्तर प्रदेश में देश में सर्वाधिक 28.37 लाख विद्युत संयोजन हुए हैं। पिछले साल एक अप्रैल से कुल 47.60 लाख विद्युत संयोजन दिए जा चुके हैं।
उन्होंने कहा कि माह सितम्बर एवं अक्टूबर में जिला प्रशासन के सहयोग से आंकलित लगभग 35 लाख इनफाॅर्मल विद्युत संयोजनों में से अधिकाधिक घरों को विद्युत संयोजन उपलब्ध कराया जाएगा। सभी मजरों में विद्युतीकरण का कार्य चरणबद्ध ढंग से पूर्ण किया जाएगा। माह सितम्बर व अक्टूबर में अविद्युतीकृत एवं आंशिक विद्युतीकृत मजरों में इन्फ्रास्ट्रक्चर सृजन के लिए अभियान चलाया जाएगा। दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना के तहत वर्ष 2017-18 में 61058 मजरों का विद्युतीकरण किया गया।
इस अवसर पर ऊर्जा मंत्री श्रीकान्त शर्मा, नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 महेन्द्र सिंह, अपर मुख्य सचिव लोक निर्माण संजय अग्रवाल, अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज राजेन्द्र तिवारी, प्रमुख सचिव नगर विकास श्री मनोज कुमार सिंह, सचिव मुख्यमंत्री मृत्युंजय कुमार नारायण सहित पावर कारपोरेशन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
त्यागी तेज
वार्ता
image