Wednesday, Sep 19 2018 | Time 20:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नक्सलियों ने गडचिरोली में पर्चे, बैनर लगाये
  • शिव सेना विधायक ने की नयी पार्टी बनाने की घोषणा
  • भारत ने पाकिस्तान को 162 पर समेटा
  • फोटो कैप्शन पहला सेट
  • बिहार में एनएच107 का होगा चौड़ीकरण : नंदकिशोर
  • अफगानिस्तान के प्रति पाकिस्तान की नीति में कोई बदलाव नहीं : गनी
  • पूनम के चौके से भारतीय महिलाओं ने श्रीलंका को हराया
  • भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी संजीव निलंबित
  • सेना ने पाकिस्तानी रेंजर्स की अकारण फायरिंग पर जताया कड़ा विरोध
  • खादी का उत्पादन बढाने के लिए दिए जायेंगे सोलर चरखे: सत्यदेव पचौरी
  • धान खरीद के लिए निबंधन शुरू, 48 घंटे में होगा भुगतान
  • इरकॉन के आईपीओ को साढ़े नौ गुणा अभिदान
  • छोटे उद्योगों के विकास के लिये सरकार प्रयासरत: गिरिराज
  • जवानों को सांस लेने की सही विधि बताने के लिए पुस्तक
  • हिमाचल में स्थापित होगी सेना भर्ती अकादमी: ठाकुर
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

मिर्जापुर में पंडों के हत्याभियुक्त को आजीवन कारावास

मिर्जापुर 01 सितम्बर(वार्ता)उत्तर प्रदेश में मिर्जापुर की एक अदालत ने विश्व प्रसिद्ध बिन्ध्याचल धाम में यजमान को दर्शन कराने को लेकर हुये आपसी विवाद में दो पंडों की हुई हत्या के मामले मेें एक अभियुक्त को उम्रकैद की सजा तथा तीन लाख 27 हजार रुपये का जुर्माने की सजा सुनाई।
अदालत ने जुर्माने की धनराशि मृतक की विधवाओं को आधा आधा दिए जाने का आदेश दिया गया है।
अभियोजन पक्ष के अनुसार 11 दिसंबर 2014 को बिन्ध्याचल कोतवाली क्षेत्र के पुरानी वीआईपी रोड़ पर सुबह दस बजे मंदिर के पंडा मृत्युंजय दूबे, उनका भाई धनंजय और करीबी रिस्तेदारर शिवशंकर गिरी कुछ यजमानो को लेकर विश्व प्रसिद्ध बिन्ध्याचल धाम दर्शन कराने जा रहे थे। रास्ते में उन्हे ज्ञानशंकर पांडे और उनका किशोर पुत्र मिल गये। ज्ञानचन्द्र ने यजमानों को अपना बताया और कहा कि उन्हे वह दर्शन करायेंगे। इसी बात पर पंडो के बीच विवाद बढ़ गया। विवाद बढ़ने पर ज्ञानचन्द्र ने अपनी लाइसेन्सी बन्दूक से तीनों पर फायरिंग कर दी। इस घटना में मृत्युंजय दुबे और शिवशंकर की गोली लगने सेे मौके पर ही मौत हो गयी जबकि धन्जय बच गया। इस मामले में मृतक के भाई ने पिता तथा पुत्र के खिलाफ नामदज रिपोर्ट दर्ज करायी।
अपर सत्र न्यायाधीश देवकान्त शुक्ल ने शुक्रवार को मामले की सुनवाई के बाद ज्ञानचन्द्र को दोषी करार देते हुये उम्रकैद की सजा के तथा तीन लाख 27 हजार रूपये जुर्माने की सजा सुनाई। न्यायाधीन ने कहा कि छोटी सी बात पर तीन लोगों जान से मारने की घटना किसी भी तरह से क्षमा के काबिल नहीं है।
सं भंडारी
वार्ता
image