Wednesday, Sep 19 2018 | Time 06:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • यमन के लाल सागर में 17 मछुआरों की हत्या
  • अमेरिका और पोलैंड करेंगे सैन्य और खुफिया संबंधों को सुदृढ़
  • आईसीसी ने शुरू की म्यांमार से रोहिंग्याओं के पलायन की जांच
  • हांगकांग को हराने में भारत के पसीने छूटे
  • गाजा में प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी, दो की मौत 46 घायल
  • प्रधानमंत्री से सिक्किम दौरा स्थगित करने की मांग
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

मौसम - बारिश कहर दो अंतिम झांसी

बबीना क्षेत्र के ही गणेशपुरा में रतिराम यादव का मकान भी लगातार बरसात में गिर गया और मलबे में रतिराम की बेटी रक्षा यादव और उसका बेटा दब गया। जिसकी जानकारी होने पर थाने की पुलिस समेत स्थानीय लोगों ने किसी प्रकार रक्षा यादव और उसके बेटे को बाहर निकालकर अस्पताल भेजा। जहां डॉक्टर ने रक्षा यादव (16)को मृत घोषित कर दिया है। पुलिस ने सभी शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।
बुंदेलखंड में गर्मियों में पहले सूखे और पानी नहीं होने से विभिन्न क्षेत्रों से मृत्यु की खबरें आतीं थीं और अब मानसून सत्र मे जब अच्छी बरसात हो रही है तो प्रशासन की पहले से आवश्यक तैयारी करने में असफलता के कारण अब पानी में डूबकर लोगों की मृत्यु का सिलसिला शुरू हो गया है। सूखे और बारिश दो सर्वथा विपरीत मौसमों में आम लोगों की मृत्यु का सिलसिला बादस्तूर जारी रहने से प्रशासन की संवेदनहीनता और लापरवाही साफ नजर आती है।
टहरौली तहसील में लगाता बारिश के कारण कई मकान गिर गये हैं और बहुत से गांवों और मकानों में पानी भर गया है । चारों ओर जलभराव से जन जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया है लोग घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं । खेतों के लबालब भर जाने से फसल पूरी तरह से बरबाद हो चुकी है। यहां खिल्लावरी गांव में सुबह तड़के मकान गिरने से शगुन दुलैया (70) की मलबे में दबने से मृत्यु हो गयी। इस तहसील में खजराहा, पिपरा, नौटा ,विजयगढ, दादपुरा,बिजना, दरबटआऊ , टहरौली खास और टहरौली किला गांव में कई मकान जमींदोज हो गये हैं।
बुंदेलखंड में बाढ के हालात और लगातार हो रही बारिश से लोगों को हो रही परेशानियों के बारे में पूछे गये सवाल पर जिलाधिकारी शिव सहाय अवस्थी ने कहा कि कुछ गांवों में लगातार बारिश के कारण जलभराव की स्थिति पैदा हुई है लेकिन स्थिति को चिंताजनक नहीं कहा जा सकता। कंट्रोल रूप 24 घंटे के लिए बना दिया गया है सभी को एलर्ट पर रखा गया है । सारी तैयारी पूरी है लेकिन अभी कहीं बाढ जैसी समस्या नहीं है। एक देा जगहों पर ही घर गिरने की जानकारी मिली है लेकिन कोई जनहानि या पशुहानि नहीं हुई है ऐसे लोगों को 24 घंटे के भीतर आर्थिक मदद दिलाने का प्रयास किया जायेगा। केवल एक ही गांव ककरवारा से कच्चे घर गिरने की जानकारी प्राप्त हुई है वहां तहसीलदार की टीम सर्वे कर रही है और जल्द ही मदद मुहैया करायी जायेगी।
सोनिया मुसन्ना
वार्ता
image