Friday, Sep 21 2018 | Time 12:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • रेस-3 की स्क्रिप्ट में कमियां थीं : रेमो डिसूजा
  • उत्तर कश्मीर में सुरक्षा बलों का खोज अभियान फिर शुरू
  • वियतनाम के राष्ट्रपति कुआंग का निधन
  • मोदी ने अजय माकन के जल्द स्वस्थ होने की कामना की
  • अमेरिका के साइराक्यूस शहर में गोलीबारी, सात घायल
  • स्वामी विवेेकानंद के भाषण को स्कूली पाठ्यक्रम में किया जाएगा शामिल
  • दक्षिण कश्मीर में कांस्टेबल और तीन एसपीओ का अपहरण
  • जापान और अमेरिका के बीच व्यापारिक वार्ता 24 सितंबर को
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 22 सितंबर)
  • आबे और ट्रम्प 26 सितंबर को करेंगे शिखर बैठक
  • आबे और ट्रम्प 26 सितंबर को करेंगे शिखर बैठक
  • अमेरिका में गोलीबारी, चार की मौत, तीन घायल
  • तंजानिया में नाव पलटने से कम से कम 42 की मौत
  • तंजानिया में नाव पलटी,200 से अधिक लोगों के डूबने की आशंका
  • कांग्रेस हथकंडे अपनाने की बजाए मैदान में आकर लड़े चुनाव - राकेश
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

उत्तर प्रदेश आई बैंक दो अंतिम गोरखपुर

मुख्यमंत्री ने कहा कि इंसेफलाइटिस बीमारी से पीड़ित बच्चों की मृत्यु दर 20 से 25 प्रतिशत है और जो बच्चे बचते है उसमें अधिकांश बच्चे शारीरिक रूप से दिव्यांगता के शिकार होते है। इस स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए सी.आर.सी. की स्थापना की जा रही है। यह मासूमों के सुनहरे भविष्य के लिए बेहतर सिद्ध होगा।
उन्होंने कहा कि प्रदेश में 250 करोड़ की लागत से आठ सुपर स्पेसलिटी अस्पताल बनकर तैयार हो गया है जिसे अगले माह लोकार्पित किया जायेगा। इसके अतिरिक्त जिले में एम्स की प्रगति काफी तीव्र है और वर्ष 2020 तक एम्स पूर्ण रूप से संचालित हो जायेगा। उन्होंने बताया कि शीघ्र ही 500 बेड का बाल रोग संस्थान भी प्रारम्भ हो जायेगा।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश के लिए 13 नये मेडिकल कालेज दिये है। उन्होंने कहा कि बी.एच.यू. को एम्स के स्तर का बनाने के लिए भी कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इंसेफलाइटिस पर काफी नियंत्रण पाया गया है और इसके उन्मूलन के लिए आवश्यक है कि सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाये और स्वास्थ्य एवं स्वच्छता के प्रति लोगों में जागरूकता अति आवश्यक है तभी इस बीमारी को नियंत्रित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि यदि टीमवर्क होगा तो निश्चित रूप से उसके बेहतर परिणाम होंगे।
इसके पूर्व मुख्यमंत्री ने स्थानीय सीतापुर चिकित्सालय में अस्थायी रूप से निर्मित समेकित क्षेत्रीय केन्द्र (दिव्यांग जन) का लोकार्पण किया तथा विभिन्न कमरों में जाकर वहां की व्यवस्थाओं का भी निरीक्षण किया। यह केन्द्र अभी अस्थायी रूप से सीतापुर नेत्र चिकित्सालय में संचालित होगा और मेडिकल कालेज में भवन तैयार होने के उपरान्त वहां पर शिफ्ट होगा। सी.आर.सी. के संचालन से आज से ही दिव्यांग जनों को बेहतर सुविधाएं मिलने में आसानी होगी।
उदय मुसन्ना तेज
वार्ता
image