Saturday, Sep 22 2018 | Time 11:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सुरक्षाबलों ने कुपवाड़ा में घुसपैठ की कोशिश विफल की
  • पुलवामा में सुरक्षाबलों का व्यापक तलाश अभियान
  • चीन की नजर परमाणु ऊर्जा के अंतरराष्ट्रीय बाजार पर
  • ब्राजील की अदालत ने ट्विटर को दिया डाटा सौंपने का आदेश
  • पितृपक्ष मेला को लेकर प्रशासनिक तैयारियां पूरी
  • ट्रेन से कटकर दंपति की मौत
  • चीन ने कैरेबियाई देश डोमिनिकन रिपब्लिक में खोला दूतावास
  • मैक्सिको में पत्रकार की हत्या
  • मोदी ने चामलिंग को दी जन्मदिन की बधाई
  • नाफ्टा वार्ता विफल होने पर मैक्सिको कनाडा से करेगा समझौता : ओब्राडोर
  • ट्रम्प प्रशासन अंतरराष्ट्रीय शांति व सुरक्षा पर खतरा : ईरान
  • इजरायल सेना की गोलीबारी में फिलीस्तीनी की मौत
  • वेनेजुएला के खिलाफ अमेरिका करेगा कार्रवाई : पोम्पेओ
  • न्यूयॉर्क में तीन नवजात बच्चों,दो लोगों पर चाकू से हमला
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

राष्ट्रीय जनमाष्टमी मथुरा दो मथुरा

वृन्दावन के ही राधा दामोदर मंदिर के सेवायत आचार्य कृष्ण बलराम गोस्वामी ने बताया कि मंदिर में अभिषेक के बाद कृष्ण जन्म की खुशी में एक दूसरे पर हल्दी मिश्रित दही डाला गया तथा कुछ देर तक होली जैसा वातावरण बन गया था।
मथुरा में आज सुबह श्रीकृष्ण जन्मस्थान में शहनाई वादन एवं नगाड़े की आवाज पर जब मंदिर के दर्शन खुले तो लोग खुशी में नृत्य कर उठे। ’’जशोदा जायो लालना मै वेदन में सुनि आई’’ एवं ’’नन्द के आनन्द भये जै कन्हैयालाल की’’ के संवेत स्वरों से भागवत भवन का वातावरण गूंज उठा। श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा ने बताया कि तीर्थयात्रियों की खुशी का कारण यह भी था कि उन्हें ठाकुर के मंगला के दर्शन बहुत आसानी से हो सके।
पूर्वान्ह श्रीकृष्ण जन्मस्थान के लीला मंच पर आयोजित रंगारंग कार्यक्रम में जहां श्रीकृष्ण की लीलाओं से संबंधित जीवंत कार्यक्रम आरती के बाद प्रस्तुत किया गया वहीं इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पहले तीर्थयात्रियों एवं ब्र्रजवासियों को जन्माष्टमी की बधाई दी तथा बाद में उन्होने कहा कि हाल में ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ब्रज के विकास के लिए जिस प्रकार 350 करोड़ की सौगात दी। सभी का फर्ज है कि ब्रज के विकास के भागीदार बनें तथा स्वच्छता का एक आदर्श प्रस्तुत करें।
ठाकुर की आरती उतारने के बाद महान संत गुरूशरणानन्द महराज ने पहले उपस्थित समुदाय को साधुवाद दिया और कहा कि जहां मथुरा की जन्माष्टमी देखने के लिए विश्व के विभिन्न भागों में बैठे लोग आज लालाइत हैं वहीं वे भाग्यशाली है कि श्रीकृष्ण जन्मस्थान की जन्माष्टमी देख रहे हैं।
उन्होंने कहा कि जीवन में दुःख का कारण काम- क्रोध यानी राग द्वेष है। महाभारत का दृष्टांत देते हुए कहा कि परिस्थितियां ऐसी बन जाती हैं जिसके कारण मनुष्य राग द्वेष में गलती कर बैठता है अन्यथा हर एक के अंदर भगवान विराजमान हैं। उन्होंने श्रद्धालुओं से क्रेाध से बचने का आह्वान किया। जन्मस्थान पर धार्मिक कार्यक्रम के आयोजित किया गया। उन्होंने बताया कि आज जन्मस्थान में श्रीकृष्ण के जन्म से संबंधित रासलीला का भी जीवन्त प्रस्तुतीकरण किया गया।
सं प्रदीप तेज
जारी वार्ता
image