Friday, Sep 21 2018 | Time 19:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • यूनान में हवाई अड्डा बनायेगी जीएमआर
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • भारत ने राफेल सौदे के लिए दिया था केवल रिलायंस का नाम: ओलांद
  • थर्ड जेनेरेशन ईवीएम मशीन में गड़बड़ी ना के बराबर: रावत
  • प्रधानमंत्री मोदी कल छत्तीसगढ़ के एक दिवसीय दौरे पर
  • भारत अंडर-16 लड़कियों को मंगोलिया से मिली हार
  • चीफ खालसा दीवान के प्रधान संतोख सिंह को पांच साल की कैद
  • भारत-पाकिस्तान विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द
  • भाजपा की छत्तीसगढ़ सहित तीन राज्यों में सत्ता में वापसी तय – शाह
  • अकाली दल अपनी हार देख बौखलाई : अमरिंदर
  • सीलिंग कर दिल्ली सरकार छीन रही है पूर्वांचल के लोगों की रोजी-रोटी: मनोज
  • पांचवां इंडिया सीएसआर शिखर सम्मेलन एवं प्रदर्शनी दिल्ली में
  • कांग्रेस ने हर वर्ग को लड़ाने का काम किया-वसुंधरा
  • नासिक में स्वाइन फ्लू से तीन और लोगों की मौत
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

राष्ट्रीय जनमाष्टमी मथुरा तीन अंतिम मथुरा

श्रीकृष्ण जन्मस्थान में जहां सुबह से ही दर्शन करने के लिए तीर्थयात्रियों की लम्बी लम्बी कतार लगी रही जो पूरे दिन छोटी होने का नाम नही ले रही थी वही जन्मस्थान के प्रत्येक प्रवेश द्वार की ओर सामानघर एवं आराम करने के लिए पंडाल लगाकर तीर्थयात्रियों सुविधा पहुंचाने का कार्य श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान द्वारा किया गया । व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करने के लिए जन्मस्थान सेवा संस्थान के जनसंपर्क अधिकारी विजय बहादुर सिंह स्वयं मौजूद थे।
मथुरा के द्वारकाधीश मंदिर में प्रातः ही अभिषेक के लिए जहां अपार जनसमूह मौजूद था वहीं पर दिन में कई झांकियों में ठाकुर के दर्शन कर श्रद्धालुओं ने पुण्य कमाया।
उधर मल्लपुरा स्थित प्राचीन केशवदेव मंदिर में रविवार को ही जन्माष्टमी मनाई गई ।मंदिर की प्रबंध समिति के अध्यक्ष सोहनलाल कातिब ने बताया कि जन्म के दर्शन के बाद रात 12 बजे श्रद्धालुओं में जहां प्रसाद वितरित किया गया वहीं मंदिर में सुबह से ही दर्शनार्थियों का तांता लगा रहा।
तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए आज ब्रजवासियों ने जगह जगह न केवल भंडारे लगाए बल्कि आग्रह के साथ तीर्थयात्रियों में पूड़ी ,कचोड़ी, हलुआ, चाय, पकौड़ी, व्रत का सामान आदि इस प्रकार वितरित किया कि वास्तव में अपने पराये का भेद ही खत्म हो गया। कुल मिलाकर ब्रज के विभिन्न तीर्थों में जन्माष्टमी के आयोजन एवं गिरिराज की परिक्रमा करने से ब्रज का कोना कोना भक्ति से रंग गया है।
सं प्रदीप तेज
वार्ता
image