Thursday, Sep 20 2018 | Time 16:31 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत , पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की न्यूयार्क में होगी बैठक
  • साल के आखिर तक होगा उत्तर प्रदेश का कोना कोना रोशन : सिंह
  • कांग्रेस खुलासा करे कि हवाला से उसे कितना पैसा मिला :भाजपा
  • कश्मीर में मुठभेड़: एक आतंकवादी ढेर
  • वाम दलों ने तीन तलाक अध्यादेश को राजनीति से प्रेरित बताया
  • राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने खरे के निधन पर शोक जताया
  • अगले ओलम्पिक में खेलने की कोशिश है: योगेश्वर
  • अगले ओलम्पिक में खेलने की कोशिश है: योगेश्वर
  • गिर वन के पूर्वी विस्तार में 48 घंटे में तीन शेरों के शव मिलने से सनसनी
  • भारत से औपचारिक जवाब का इंतजार: पाकिस्तान
  • प्रख्यात कवि विष्णु खरे पंच तत्त्व में विलीन
  • उत्तर कोरिया से बातचीत के लिए तैयार: पोम्पियो
  • शहीद के साथ बर्बरता का करार जवाब दे सरकार : कांग्रेस
  • पिता से प्रेरणा लेते हैं शाहिद कपूर
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

अायुष्मान भारत योजना में इंश्योरेंस की जगह अब एश्योरेंस फार्मूला

लखनऊ, 04 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश सरकार ने आयुष्मान भारत योजना के तहत गरीबों को इलाज के लिये पांच लाख रूपये के इंश्योरेंस के बजाय एश्यारेंस फार्मूला देने का फैसला किया है।
राज्य सरकार की एजेंसी सांची योजना के लाभार्थियों के दावों का निपटारा करेगी। मुख्य सचिव की अगुवाई में 13 सदस्यीय दल प्रक्रिया पर निगाह रखेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में यह निर्णय लिया गया।
सरकार ने अब उन किसानों को जमीन का मुआवजा देने का फैसला लिया है जिनके खेत पर ऊर्जा विभाग पारेषण लाइन के टावर खडे करेगा। इससे पहले किसानों को टावर के कारण क्षतिग्रस्त फसल का मुआवजा दिया जाता था। इस फैसले के बाद किसान टावर के कारण कृषि उत्पाद को हुये नुकसान के मुआवजे के साथ साथ खेत के जिस हिस्से पर टावर खडा किया जायेगा, उस क्षेत्रफल के 85 फीसदी हिस्से का सर्किल रेट के हिसाब से मुआवजा भी दिया जायेगा। इस निर्णय से पारेषण लाइन की कीमत में दो प्रतिशत की बढोत्तरी होगी।
राज्य सरकार के प्रवक्ता और स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने पत्रकारों को बताया कि आयुष्मान भारत योजना का ट्रायल आज से राजधानी के बलरामपुर अस्पताल से शुरू होगा जो 13 सितम्बर तक चलेगा। योजना 25 सितम्बर से देश भर में लागू हो जायेगी। इंश्योरेंस को एश्योरेंस में तब्दील करने का फायदा लाभार्थियों को मिलेगा क्योंकि ट्रस्ट दावों में आने वाली परेशानियों को कम करना तय करेगा।
प्रदीप तेज
जारी वार्ता
image