Wednesday, Sep 19 2018 | Time 23:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आंध्र विधानसभा का मानसून सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित
  • लोकतंत्र,मानवाधिकार पर पाकिस्तान से शिक्षा की जरुरत नहीं: भारत
  • इंदिरा गांधी हवाईअड्डे में फर्जी टिकट से घुसने वाला विदेशी गिरफ्तार
  • क्रांतिकारी नेता कोटेश्वरम्मा का निधन
  • लुईस मरांडी ने चलाया स्वच्छता अभियान
  • त्रिपुरा में भाजपा के दो समूहों में झडप, आठ घायल
  • हैदराबाद में अंतरजातीय विवाह करने वाले युगल पर हमला
  • जम्मू-कश्मीर में पंचायत-शहरी निकाय चुनाव लड़ेगी कांग्रेस
  • भारत की दबंगई के आगे पाकिस्तान ने घुटने टेके
  • भारत की दबंगई के आगे पाकिस्तान ने घुटने टेके
  • भारत की दबंगई के आगे पाकिस्तान ने घुटने टेके
  • जरूरत पर नहीं मिलती खिलाड़ियों को मदद: योगेश्वर
  • राफेल सौदे पर राष्ट्रव्यापी बहस हो: आजाद
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

अखिलेश के सिपहसलार ने थामा शिवपाल का हाथ

झांसी 04 सितम्बर (वार्ता) समाजवादी पार्टी (सपा) के कद्दावर नेता रहे शिवपाल सिंह यादव के सेक्यूलर मोर्चा के गठन की घोषणा का असर अब जिलों में दिखायी देने लगा है। झांसी की गरौठा विधानसभा के पूर्व विधायक दीपनारायण सिंह यादव के रिश्तेदार जिला पंचायत सदस्य दीपेन्द्र यादव ने मंगलवार को तमाम सहयोगियों के साथ मोर्चा का दामन थाम लिया।
सपा में उपेक्षा के शिकार श्री शिवपाल सिंह यादव के समर्थकों में नयी पार्टी के गठन की घोषणा के बाद नया जोश है और अब वह सपा का साथ छोड समाजवादी सेक्यूलर मोर्चा का दामन थामने लगे है। झांसी की जिला पंचायत सदस्य दीपेंद्र यादव ने मोर्च में शामिल होने के बाद स्पष्ट कहा कि वह हमेशा शिवपाल यादव के साथ रहेंगे।
संस्कारों को नकार कर ताकत के बल पर खड़ी की गयी सेना में फूट का उदाहरण इस समय समाजवादी कुनबे में देखने को मिल रहा है। 2017 में विधानसभा चुनाव के पहले से ही पार्टी में उपेक्षित चल रहे शिवपाल सिंह यादव द्वारा अलग पार्टी गठन करने की चर्चाएं जोरों पर रहीं लेकिन शिवपाल पार्टी में बड़ी जिम्मेदारी मिलने की आशा बनाये रखे रहे। प्रदेश के तमाम जिलों में बैठे उनके शुभचिंतक भी यही सोचकर चुप्पी साधे थे कि अब शायद सत्ता जाने के बाद उनके चहेते नेता को सम्मान वापस दिया जाएगा।
जिले में पूर्व मुख्यमंत्री के चाचा के चहेतों की कमी नहीं है। पूर्व एमएलसी, सपा के मौजूदा जिलाध्यक्ष के अलावा कुछ चर्चित नाम हैं जिन्होंने सपा शासन में शिवपाल सिंह के सहयोग में काफी तरक्की की है। ऐसा माना जा रहा है कि यदि उनके पक्ष में सब कुछ ठीक न रहा तो जल्द ही वे सेक्यूलर मोर्चा का दामन थाम सकते हैं। यदि ऐसा हुआ तो समाजवादी पार्टी को जनपद में खासा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।
सोनिया प्रदीप
वार्ता
image