Tuesday, Sep 25 2018 | Time 20:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आधार की अनिवार्यता मामले में फैसला बुधवार को
  • झारखंड ने तमिलनाडु को आठ रन से हराया
  • कश्मीर की वर्तमान समस्या कांग्रेस की समझौतावादी नीतियों का कारण-माधव
  • लाभ पद मामला: आप विधायकों का अनुरोध चुनाव आयोग ने ठुकराया
  • एमएसएमई को मिलेगा मात्र 59 मिनट में एक करोड़ रुपये तक के ऋण
  • जेटली ने लाँच किया वित्तीय समावेशन सूचकांक
  • सौहार्द्र के लिए युवाओं काे हुनरमंद बनाना जरूरी : नीतीश
  • रक्षा और सुरक्षा क्षेत्र में सहयोग बढायेंगे भारत और मोरक्को
  • हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश के कारण तीन लाेगों की मौत, चार घायल
  • कांग्रेस का मप्र में ई-निविदा घोटाले का आरोप,आयोग से हस्तक्षेप की मांग
  • उपराष्ट्रपति दो दिवसीय यात्रा पर जयपुर पहुंचे
  • आगे आगे देखिये कैसे खुलती है भाजपा के भ्रष्टाचार की पोल:राहुल
  • विश्वास मत साबित नहीं कर पाए स्वीडन के प्रधानमंत्री
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

राजनीति-कांग्रेस भाजपा दो अंतिम इलाहाबाद

श्रीमती चर्तुवेदी ने कहा कि श्री मोदी ने ऑफसेट कांट्रैक्ट के तहत एक लाख 30 हजार करोड़ रुपये का सीधा फायदा अपने दोस्त को उनकी निजी कंपनी के जरिए पहुंचाने का काम किया है। यह पैसा आम जनता का है, इसलिए उनकी जवाबदेही बनती है कि वह इसका हिसाब दें।
कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा “ इस सरकार ने जनता से संवाद बंद कर दिया है और इसमें केवल मन की बात होती है। हमारा मोदी जी से आग्रह है कि आप मन की बात में ही इस बारे में बता दीजिए। देश के प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री संसद में यह झूठ बोलते हैं कि गोपनीयता की शर्तों के तहत हम इस सौदे का मूल्य नहीं बता सकते।”
उन्होंने भारत और फ्रांस के बीच हुए समझौते की प्रति दिखाते हुए कहा कि इसमें कहीं नहीं लिखा है कि दाम बताना भी गोपनीयता का अंग है। वहीं डसाल्ट एविएशन ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में बताया है कि ये लड़ाकू विमान कितने में खरीदे गए हैं।
उन्होंने कहा कि सिर्फ दसाल्त ही नहीं, बल्कि उनके निजी दोस्त की कंपनी रिलायंस डिफेंस की प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि 23 सितंबर 2016 को भारत और फ्रांस ने एक खरीद समझौता किया जिसमें 7.87 अरब यूरो में 36 लड़ाकू विमान खरीदे जाने का जिक्र किया गया है।
सुश्री प्रियंका ने कहा कि जब आपके दोस्त की कंपनी बता सकती है कि कितने में ये विमान खरीदे जा रहे हैं और जिससे खरीदा जा रहा है वह मूल्य बता सकता है तो प्रधानमंत्री जी को यह बताने में क्या ऐतराज है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने इस सौदे को जल्दी करने की होड़ में विमान की टेक्नोलाजी लेने से मना कर दिया।
दिनेश प्रदीप
वार्ता
image