Tuesday, Sep 18 2018 | Time 23:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नागा विधायकों ने संयुक्त विधायक फोरम का गठन किया
  • नागा विधायकों ने संयुक्त विधायक फोरम का गठन किया
  • राजमार्ग घोटाले में दो गिरफ्तार, 18 के खिलाफ समन जारी
  • उत्तराखंड में बाघ ने ली एक व्यक्ति की जान
  • चुनाव में पक्षपातपूर्ण कार्रवाई को गंभीरता से लिया जाएगा-रावत
  • पटना उच्च न्यायालय में पांच न्यायाधीशों ने ली शपथ
  • झारखंड के तीन स्कूलों को स्वच्छ विद्यालय का पुरस्कार
  • पटना में राष्ट्रीय सैंबो प्रतियोगिता कल से
  • राजनाथ ने केंद्रीय एजेंसियाें के दुरुपयोग के आरोपों को नकारा
  • नाबालिग के साथ बलात्कार के दोषी के मृत्युदंड पर अंतरिम रोक
  • ट्रेन की चपेट में आने से बच्ची की मौत
  • भारत बंगलादेश ने किया दो परियोजनाओं का शिलान्यास
  • 2019 में रांची बने देश का सबसे स्वच्छ शहर : रघुवर
  • एनबीई दीक्षांत समारोह में शरीक होंगे नायडू
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

उत्तर प्रदेश नाईक पुस्तक मेला दो अंतिम लखनऊ

राज्यपाल ने कवि स्वर्गीय गोपाल दास ‘नीरज’ को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुये कहा कि उनकी कविता बहुत श्रेष्ठ होती थी तथा उनके गीत भी बहुत लोकप्रिय है। गोपाल दास ‘नीरज’ ने पांच दशक तक कविता के मंच पर राज किया। कालजयी रचनाएं उन्हें सदा जीवित रखेंगी तथा लोग उनकी रचनाओं से साहित्य का महत्व समझेंगे।
पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी को याद करते हुए उन्होंने कहा कि दोनों आपस में मित्र थे और कविता के कारण उनमें जुड़ाव था। उन्होंने कहा कि स्वर्गीय अटल जी का व्यक्तित्व बहुआयामी था और उन्होंने विभिन्न भूमिकाओं में समाज की सेवा की।
इस अवसर पर विधि मंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि पुस्तकों का अपना महत्व है। मेले में एक ही पंडाल के नीचे विभिन्न प्रकार की रूचि रखने वालों की पुस्तक मिल सकती है। उन्होंने कहा कि पुस्तक व पुस्तक मेला ज्ञान का स्रोत हैं।
इस अवसर पर कवि सुनील जोगी, सर्वेश अस्थाना, भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता राजेश त्रिपाठी, पुस्तक मेला के आयोजक देवराज अरोरा व बड़ी संख्या में साहित्यकार और पुस्तक प्रेमी उपस्थित थे। 5 से 14 सितम्बर तक चलने वाला पुस्तक मेला स्वर्गीय कवि गोपाल दास ‘नीरज’ को समर्पित है।
तेज
वार्ता
image