Thursday, Sep 20 2018 | Time 22:44 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हाई-प्रोफाइल सुसाइड मामले में पैरवी करने पहुंचे चिदम्बरम
  • ओडिशा विधानसभा का मानसून सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित
  • ओडिशा में कई परियोजनाओं का लोकार्पण करेंगे मोदी
  • हाई-प्रोफाइल सुसाइड मामले में पैरवी करने पहुंचे चिदम्बरम
  • झारखंड में हो रहा 60 हजार करम पौधों का रोपण : रघुवर
  • मायावती ने दिया विपक्षी एकता के कांग्रेस के प्रयासों को करारा झटका
  • सफाईकर्मी करेंगे 21 से 25 सितम्बर तक भूख हड़ताल
  • आनंदपुर साहिब -नैना देवी रोपवे प्रोजेक्ट को मंजूरी
  • मायावती ने दिया विपक्षी एकता के कांग्रेस के प्रयासों को करारा झटका
  • कार और ट्रक की टक्कर में तीन की मौत
  • राजकीय सम्मान के साथ शहीद नरेंद्र सिंह का अंतिम संस्कार
  • नदीम ने 10 ओवर में 10 रन पर झटके आठ विकेट
  • एस्मा के तहत निलम्बन के खिलाफ रोडवेज कर्मियों की भूख हड़ताल
  • हरियाणा में 23-25 अक्तूबर तक होगा खेल महाकुम्भ
  • अफगानिस्तान ने बंगलादेश को दी 256 की चुनौती
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

उत्तर प्रदेश नाईक शिक्षक दो अंतिम लखनऊ

श्री नाईक ने सम्मान प्राप्त शिक्षकों को बधाई देते हुये कहा कि शिक्षक दिवस के अवसर पर समस्त शिक्षक शिक्षा क्षेत्र को सर्वोत्तम बनाने का संकल्प करें। संकल्प सिद्धि के लिये शिक्षकों को केवल शिक्षक ही न रहकर उससे आगे बढ़कर नई भूमिका निभानी होगी। शिक्षक ऐसा आदर्श उदाहरण बनें जिससे भावी पीढ़ी अनुप्राणित हो। युवा पीढ़ी को गुणवत्तायुक्त शिक्षा, बौद्धिक क्षमता और दक्षता देकर आत्मनिर्भर बनाने के लिये शिक्षकों पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी है।
श्री योगी ने समस्त शिक्षकों को शिक्षक दिवस की बधाई देते हुये कहा कि शिक्षक राष्ट्र के विधाता हैं। शिक्षक स्वयं को डाॅ0 राधाकृष्णन के अनुरूप ढालने का प्रयास करें। आदरणीय बनने के लिये अच्छाई को आत्मसात करें। अनुशासनहीन समाज उज्जवल भविष्य का निर्माण नहीं कर सकता। शिक्षक ही अनुशासन का निर्माण करते हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था को ऐसे प्रस्तुत करें जो दूसरों के लिए अनुकरणीय हो। मुख्यमंत्री ने शिक्षक नियुक्ति तथा उच्च शिक्षा के शिक्षकों को सातवें वेतन आयोग के अनुसार वेतन की भी बात रखी।
डाॅ0 शर्मा ने कहा कि गुरू के माध्यम से जीवन में संस्कार मिलते हैं। डाॅ0 राधाकृष्णन के जन्मदिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। उनके 17 माह के कार्यकाल में शिक्षा के क्षेत्र में सफल परिवर्तन हुआ है। राज्यपाल के नेतृत्व में उच्च शिक्षा नई ऊंचाईयों तक पहुंची है। उन्होंने शिक्षकों की नियुक्ति, चयन, उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन हेतु दी जाने वाले पारिश्रमिक में वृद्धि, शुल्क विनियमन, पठन-पाठन गुणवत्ता के साथ-साथ शिक्षा के क्षेत्र में अन्य योजनाओं पर भी विस्तार से प्रकाश डाला।
तेज
वार्ता
image