Monday, Sep 24 2018 | Time 12:03 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिल्म निर्माण की विशिष्ट शैली बनायी थी फिरोज़ खान ने
  • कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त भाजपा नेत्री ने छोड़ी पार्टी, कांग्रेस में होंगी शामिल
  • अस्पताल में साथी महिला डाक्टर से दुष्कर्म करने वाला रेजिडेंट डाक्टर निलंबित, गिरफ्तार
  • मोदी ने किया सिक्किम के पहले हवाई अड्डे का उद्घाटन
  • रणवीर के साथ काम करना बेहतरीन अनुभव: कृति खरबंदा
  • रणवीर के साथ काम करना बेहतरीन अनुभव: कृति खरबंदा
  • अंतरिक्ष यात्री का किरदार निभायेंगे अक्षय कुमार
  • अंतरिक्ष यात्री का किरदार निभायेंगे अक्षय कुमार
  • डोडा में भूस्खलन से पांच की मौत
  • दो दिन की वर्षा से गुजरात में मानसून के औसत में ढाई प्रतिशत का इजाफा
  • पाकिस्तान के दो मुख्य दल हो रहे हैं एकजुट
  • मूसलाधार बारिश से सहारनपुर में धान की फसल को भारी नुकसान
  • गंदेरबल में पुलिस की नाका टीम पर हमला
  • इम्फाल में विस्फोट, तीन घायल
  • अमेरिका और चीन के बीच तेज हुयी व्यापारिक जंग
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

मध्य गंगा नहर परियोजना को हर हाल में 2019 तक होगी पूरी : सिंह

लखनऊ 05 सितम्बर, (वार्ता) उत्तर प्रदेश के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने मध्य गंगा नहर परियोजना को हर-हाल में अगले साल के अंत तक पूरा करने के निर्देश अधिकारियों को दिये र्है।
उन्होंने कहा कि निर्धारित समय सीमा के अन्दर लक्ष्य को मानक के अनुरूप पूरा करना अधिकारियों की जिम्मेदारी है और इसमें लापरवाही को किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने अधिकारियों को चेतावनी दी कि मध्य गंगा नहर परियोजना के द्वितीय चरण के कार्यों में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी।
श्री सिंह बुधवार को विधान भवन स्थित कार्यालय में मध्य गंगा नहर परियोजना (द्वितीय चरण) की गहन समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने प्रमुख सचिव को निर्देश दिया कि बैठक में अनुपस्थित अधीक्षण अभियन्ता एस0के0 गुप्ता तथा भारतेन्दु गौड से तत्काल स्पष्टीकरण मांगे तथा उचित जवाब न मिलने पर नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही करें।
प्रमुख सचिव टी0 वेंकटेश ने सिंचाई मंत्री को आश्वस्त किया कि परियोजना को निर्धारित समय में पूर्ण करने का हर सम्भव प्रयास किया जायेगा। उन्होंने सिंचाई मंत्री को अवगत कराया कि यह अत्यन्त महत्वपूर्ण परियोजना है। इसमें जो भी अधिकारी ढिलाई करेगा उसके विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी।
उन्होने बताया कि इस परियोजना के पूरा होने से 410347 किसान लाभान्वित होंगे। परियोजना पर वर्ष 2018-19 में बजट व्यवस्था 1698.4325 करोड़ रुपये के सापेक्ष रुपये 375.93 करोड़ अवमुक्त किया जा चुका है। परियोजना पर अवमुक्त धनराशि के सापेक्ष अब तक 110 करोड़ रुपये व्यय किये जा चुके है।
प्रदीप
वार्ता
image