Friday, Sep 21 2018 | Time 20:02 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भारत ने जीते 3 स्वर्ण सहित 7 पदक
  • सर्जिकल स्ट्राइक दिवस पर उठा विवाद,सरकार ने किया बचाव
  • एससी एसटी एक्ट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे सवर्णों पर लाठीचार्ज
  • जम्मू कश्मीर में हाल की घटनाओं ने राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फिर तूल पकड़ा
  • यूनान में हवाई अड्डा बनायेगी जीएमआर
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • भारत ने राफेल सौदे के लिए दिया था केवल रिलायंस का नाम: ओलांद
  • थर्ड जेनेरेशन ईवीएम मशीन में गड़बड़ी ना के बराबर: रावत
  • प्रधानमंत्री मोदी कल छत्तीसगढ़ के एक दिवसीय दौरे पर
  • भारत अंडर-16 लड़कियों को मंगोलिया से मिली हार
  • चीफ खालसा दीवान के प्रधान संतोख सिंह को पांच साल की कैद
  • भारत-पाकिस्तान विदेश मंत्रियों की बैठक रद्द
  • भाजपा की छत्तीसगढ़ सहित तीन राज्यों में सत्ता में वापसी तय – शाह
  • अकाली दल अपनी हार देख बौखलाई : अमरिंदर
  • सीलिंग कर दिल्ली सरकार छीन रही है पूर्वांचल के लोगों की रोजी-रोटी: मनोज
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

आईपीएस को नया जीवन देने कानपुर पहुंचे डा ओझा

कानपुर, 06 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के कानपुर में बुधवार को जहर खाकर आत्महत्या का प्रयास करने वाले आईपीएस अधिकारी सुरेन्द्र कुमार दास की हालत स्थिर बनी हुयी है। मुबंई से तड़के डा प्रणव ओझा के नेतृत्व में यहां पहुंचा डाक्टरों का एक दल पुलिस अधिकारी को बचाने की पुरजोर कोशिश में जुटा है।
पुलिस अधीक्षक (पूर्व) के तौर पर कानपुर में तैनात श्री दास का इलाज यहां एक निजी अस्पताल में चल रहा है। उन्होने बुधवार तड़के करीब चार बजे कथित रूप से पारिवारिक कलह के चलते जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया था। श्री दास को पहले उर्सला अस्पताल ले जाया गया मगर हालत में सुधार ना होता देख पुलिस अधिकारी को निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।
अस्पताल सूत्रों ने गुरूवार को बताया कि श्री दास को वेंटिलेटर पर रखा गया है। उनकी नब्ज असामान्य है मगर दिल की हालत फिलहाल दुरूस्त है। डॉ प्रणव ओझा तड़के करीब ढाई बजे चार्टड प्लेन से यहां पहुंच गये। श्री दास की सारी रिपोर्ट देखने के बाद उन्होंने अपनी टीम के साथ मिलकर उनका इलाज शुरू कर दिया है और साथ ही साथ अस्पताल के फिजीशियन, इन्टेन्सिविस्ट व कार्डियोलॉजिस्ट की टीम अपना भरसक प्रयास कर रही है।
सूत्रों ने बताया कि डा. ओझा अपनी टीम के साथ जीवन रक्षक प्रणाली (एकमो) लेकर आये है जिससे मरीज के रक्त शोधन करने के साथ अन्य उपचार संभव है। आईपीएस अधिकारी के स्वास्थ्य को लेकर अस्पताल प्रशासन ने अभी कोई मेडिकल बुलेटिन जारी नही किया है।
विश्वस्त सूत्रों के अनुसार वर्ष 2014 बैच के आईपीएस अधिकारी ने पारिवारिक कलह के चलते यह कदम उठाया है। वह पिछले कुछ समय से काफी परेशान थे। श्री दास मूलत: बलिया के निवासी हैं। पुलिस अधिकारी ने इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग में बीटेक किया है। श्री दास के बडे भाई एवं उनके परिवार के साथ मां अस्पताल में कल से हैं। साथी पुलिस कर्मियों के अनुसार बेहद सौम्य एवं मृद स्वाभाव के आईपीएस अधिकारी के जीवन के लिये समूचा पुलिस विभाग और उन्हे जानने वाले ईश्वर से दुआ मांग रहे है।
सं प्रदीप
वार्ता
image