Saturday, Sep 22 2018 | Time 16:31 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सैमसंग ने लॉन्च किये गैलेक्सी जे6 प्लस और जे4 प्लस
  • अब सारा ध्यान विश्व चैंपियनशिप पर लगाऊंगा: बजरंग
  • उत्तरी क्षेत्रों के जलाशयों में कम जल स्तर चिंता का विषय
  • तूफान देया के कमजोर पड़ने के बाद बने निम्न दबाव के असर से गुजरात में बरसात
  • पंजाब में जिला परिषद और पंचायत समितियों में कांग्रेस जीत की ओर
  • राफ़ेल पर ओलांद के बयान पर सफाई दें मोदी : हम
  • उत्तराखंड-हिमाचल की सीमा पर वाहन खाई में गिरने से 13 की मौत
  • पांच किलोग्राम हेरोइन के साथ तीन विदेशी गिरफ्तार
  • राफेल मामले की जांच संसद की संयुक्त समिति से करायी जाए: माकपा
  • राजनाथ की राहुल को सलाह- गंभीर आरोप लगाने से पहले चार बार सोचे
  • ईरान में सैन्य परेड के दौरान आतंकवादी हमले 24 मरे
  • नवीन फाइनल में, स्वर्णिम इतिहास से एक कदम दूर
  • नवीन फाइनल में, स्वर्णिम इतिहास से एक कदम दूर
  • राफेल सौदे में ‘चौकीदार’ ही बन गया ‘चोर’: राहुल
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

राष्ट्रीय मंदिर शंकराचार्य तीन अंतिम मथुरा

राममंदिर निर्माण को लेकर भाजपा के वादे के संबंध में पूछे गये सवाल के जवाब में उन्होने कहा कि वास्तव में भाजपा का उद्देश्य सनातन धर्म का उत्कर्ष नही है। उसका उद्देश सनातन धर्मावलम्बियों का समर्थन लेकर सत्तारूढ़ होना है। भाजपा आरएसएस से संबद्ध है। आर एस एस के बहुत अच्छे सरसंघचालक हुए हैं माधव सदाशिवराव गोलवरकर। गोलवरकर ने कहा था कि हिंदुओं की सबसे बड़ी कमजोरी है कि अपने महापुरूषों को ईश्वर की श्रेणी में ढकेल देते हैं। उन्होंने पहले लोकमान्य तिलक का उदाहरण दिया था और फिर राम का उदाहरण देते हुए कहा था कि रावण द्वारा सीताहरण के बाद राम उसी प्रकार से विलाप कर रोये थे जैसे मनुष्य करते है। इस प्रकार उन्होंने यह सिद्ध कर दिया था कि राम भी मनुष्य थे। उन्होनें कहा कि जो राम को मनुष्य मानता है वह उनका मंदिर क्यों बनवाएगा।
शंकराचार्य ने कहा कि उन्होंने स्वयं कुछ लोगों से कहा कि’’ साईं हिंदुओं का पूज्य नही है। हिंन्दू धर्म में सांई को शास्त्रोक्त देवता नही माना है हैं। इसलिए उन्हें अपना आराध्य नही बना सकते। न वह ईश्वर है और न गुरू है न संत है।’’ इस पर आरएसएस के भइया जी जोशी कहते हैं कि ’’ शंकराचार्य को सांई का विरोध नही करना चाहिए क्योकि उनके अनेकों स्वयंसेवक सांई के भक्त हैं। सांई में भी ईश्वर का अंश है। ’’सवाल यह है कि जब आपको सांई में भी ईश्वर दिखाई पड़ता है और राम में दिखाई पड़ता है तो फिर शिरडी में सांईं मंदिर बनेगा या अयोध्या में राम मंदिर बनेगा पहले इसका खुलासा होना चाहिए।
उन्होने कहा कि अयोध्या में जो जीर्णशीर्ण हालत में मस्जिद है उसे मुसलमान भव्य रूप दे दें इसमें उन्हें कोई एतराज नही लेकिन हिंदू तो इसलिए नही हठ सकते क्योंकि वह राम की जन्मभूमि है । मस्जिद पास बनाने में झगडे की संभावना है। इसलिए मुसलमानों को रामजन्मभूमि पर मस्जिद बनाने के दुराग्रह को छाेड़ देना चाहिए।
सं प्रदीप
वार्ता
More News
प्रतापगढ़ में ताजिया हाइटेंशन लाइन से छुआ सात झुलसे

प्रतापगढ़ में ताजिया हाइटेंशन लाइन से छुआ सात झुलसे

22 Sep 2018 | 12:02 PM

प्रतापगढ़ 22 सितम्बर (वार्ता) उत्तर प्रदेश में प्रतापगढ़ के हथिगवां क्षेत्र में बिजली के तार में ताजिया छू जाने से करंट की चपेट में आने से सात लोग झुलस गये।

 Sharesee more..
image