Tuesday, Sep 25 2018 | Time 23:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कृषि हमारी मूल संस्‍कृति है : उप राष्‍ट्रपति
  • रामपुर-उधमसिंह नगर जिले के बीच तीन महीने में हो सीमा निर्धारण: न्यायालय
  • शिक्षा खो रही है अपनी प्रासंगिकता: उप राष्‍ट्रपति
  • फर्जी बैंक शाखा प्रबंधक गिरफ्तार
  • गरीबी से लडने के भारत के प्रयासाें की ट्रंप ने की सराहना
  • उत्तर प्रदेेश निवासी सीआरपीएफ जवान श्रीनगर में लापता
  • बीएचयू में तनावपूर्ण शांति, कक्षाएं निलंबित एवं छात्रावास खाली करने के आदेश
  • मौदहा में झांकिया निकालने को लेकर तनाव, पुलिस ने की हवाई फायरिंग
  • भारत-उज्बेकिस्तान संबंधों पर प्रदर्शनी शुरू
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • फिरोजाबाद में श्रद्वालुओं से भरी टैक्टर-ट्राली पलटी, पांच की मृत्यु
  • कश्मीर में पंचायत और यूएलबी चुनाव के लिए केन्द्रीय बलों की 400 कंपनियां होंगी तैनात : मुख्य सचिव
  • सीबीआई अदालत ने तीन अधिकारियाें सहित पांच लोगों को दी सश्रम कारावास की सजा
  • ताज मामला : दृष्टिपत्र सौंपने की समय सीमा एक माह बढ़ी
  • केंद्रीय मंत्री के दौरे से पहले आंगनवाड़ी केंद्र से मिले कीड़े वाले चने, जांच के आदेश
राज्य » उत्तर प्रदेश Share

झांसी में बंद रहा बेअसर

झांसी 06 सितम्बर (वार्ता)। अनुसूचित जाति एवं जनजाति (संशोधन) विधेयक के खिलाफ गुरुवार को आयोजित ‘भारत बंद’ उत्तर प्रदेश के झांसी में बेअसर रहा हालांकि इस दौरान कुछ संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया।
यहां सुबह से ही हो रही जबरदस्त बरसात के बीच विधेयक के विरोध में प्रदर्शनकारी शहर के मुख्य चौराहे पर नारेबाजी करते पहुंचे और केन्द्र सरकार से अनुसूचित जाति एवं जनजाति (संशोधन) विधेयक और आरक्षण को समाप्त करने की मांग की है। पूरे देश में आरक्षण और विधेयक का विरोध किया जा रहा है और इससे झांसी भी अछूता नहीं रहा ।
भारी बारिश के बीच प्रदर्शनकारी ईलाइट चौराहे पर जमा हुए और शहर के व्यस्तम इलाकों में से एक इस चौराहे पर जाम लग गया । इसकी जानकारी मिलते ही पुलिस बल और अधिकारी मौके पर पहुंचे और उन्होंने प्रदर्शनकारियों को शांत कराया तथा जाम खुलवाया।
प्रर्दशन कर रही एक महिला ने कहा कि आरक्षण से आज की पीढ़ी मानसिक रुप से परेशान है। काफी तैयारी करने के बाद भी उनको नौकरी नहीं मिल रही है। आरक्षण जाति के आधार पर नहीं बल्कि गरीबी के आधार पर होना चाहिए। उन्हें केन्द्र की मोदी सरकार से काफी उम्मीद थी कि उनकी सरकार आने के बाद आरक्षण समाप्त हो जायेगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। इसके साथ ही इस विधेयक का दुरुप्रयोग हो रहा है। इसके माध्यम से लोगों को फर्जी फंसाया जा रहा है। इसलिए वह सभी सरकार से मांग करते हैं कि विधेयक और आरक्षण को खत्म किया जाये।
वहीं दूसरी ओर भारत बंद के असर की बात करें तो झांसी में इसका कोई खासा असर नहीं आया। पूरा बाजार खुला रहा है हालांकि इस दौरान किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए पुलिस बल ने पूरी तैयारी की थी। जगह-जगह पुलिस तैनात थी जो हर गतिविधि पर नजर रखे हुए थी।
सोनिया
वार्ता
image