Wednesday, Jun 19 2019 | Time 08:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पोम्पियो और मोघरीनी ने अमेरिका-यूरोपीय संघ की साझा चुनौतियों पर की चर्चा
  • माली में आतंकवादी हमले में 38 लोगों की मौत
  • ईरान के मुद्दे पर सहयोगियों के साथ मिलकर काम करेगा अमेरिका: पोम्पियो
  • मार्क एस्पर होंगे अमेरिका के नए कार्यकारी रक्षा मंत्री
  • झारखंड में होगी केवल एक जल योजना : रघुवर
  • केरल माकपा प्रमुख के बेटे पर दुष्कर्म का मामला दर्ज
  • किसानों को प्रति बूंद अधिक फसल योजना का लाभ देने में झारखंड अव्वल
राज्य » उत्तर प्रदेश


जौनपुर में देश की प्रथम महिला न्यायाधीश अन्ना चांडी को श्रंद्धाजलि अर्पित

जौनपुर ,04 मई (वार्ता) उत्तर प्रदेश के जौनपुर में सरावां स्थित शहीद लाल बहादुर गुप्त स्मारक पर शनिवार को हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकंन आर्मी एवं लक्ष्मीबाई ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं ने देश की प्रथम महिला न्यायाधीश अन्ना चांडी की 114 वीं जयंती पर उन्हें याद करते हुए श्रंद्धाजलि अर्पित की।
इस अवसर पर कार्यकर्ताओं ने शहीद स्मारक पर मोमबत्ती एवं अगरबत्ती जला कर तीनों महान क्रान्तिकारियो को दो मिनट का मौन रखकर अपनी श्रंद्धाजलि अर्पित की।
शहीद स्मारक पर उपस्थित लोगो को संबोधित करते हुए लक्ष्मीबाई ब्रिगेड की अध्यक्ष मंजीत कौर ने कहा कि 04 मई 1905 को अन्ना चांडी का जन्म त्रिवेंद्रम में हुआ था । वह सीरियाई ईसाई थीं । उन्होंने कहा कि अन्ना चांडी ने 1926 में वकालत की पढ़ाई शुरू की और राज्य में वकालत की डिग्री प्राप्त करने वाली पहली महिला बनीं थी।
उन्होंने कहा कि अन्ना चांडी जीवनभर महिलाओं की आवाज उठाती रहीं । उन्होंने कहा कि 1937 में त्रावणकोर के दीवान ने उन्हें मुंसिफ बनाया, इससे वह देश की पहली महिला न्यायाधीश बनीं और 09 फ़रवरी 1959 को वह केरल हाइकोर्ट की न्याया धीश बनीं , यह पद भी पहली बार किसी महिला को मिला था । देश के लॉ कमीशन में भी उन्होंने अपनी सेवाएं दी थीं । बीस जुलाई 1996 को उनका निधन हो गया था ।
इस अवसर पर डॉ0 धरम सिंह , मैनेजर पांडेय , अनिरुद्ध सिंह सहित आने गणमान्य लोग मौजूद रहे ।
सं त्यागी
वार्ता
image