Wednesday, Jun 19 2019 | Time 07:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • माली में आतंकवादी हमले में 38 लोगों की मौत
  • ईरान के मुद्दे पर सहयोगियों के साथ मिलकर काम करेगा अमेरिका: पोम्पियो
  • मार्क एस्पर होंगे अमेरिका के नए कार्यकारी रक्षा मंत्री
  • झारखंड में होगी केवल एक जल योजना : रघुवर
  • केरल माकपा प्रमुख के बेटे पर दुष्कर्म का मामला दर्ज
  • किसानों को प्रति बूंद अधिक फसल योजना का लाभ देने में झारखंड अव्वल
राज्य » उत्तर प्रदेश


बीटीसी ट्रेनिंग सेंटर में गलत तरीके से प्रवेश के मामले में 13 मई को सुनवाई

प्रयागराज, 09 मई (वार्ता) इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने भारतीय पुनर्वास परिषद द्वारा श्रीमती फुलेहरा विशिष्ट बीटीसी प्रशिक्षण केंद्र कमटैला, रसरा, बलिया के 43 छात्रों ने संस्थान के प्रवेश को अमान्य करने का खिलाफ उच्च न्यायालय की शरण ली है।
याचियों का कहना है कि प्रेक्टिकल टेस्ट 20 मई 2019 तथा परीक्षा 24 जून 2019 को होने जा रही है। बलिया के राकेश कुमार यादव एवं 42 अन्य की याचिका को न्यायमूर्ति नीरज तिवारी ने सुनवाई के लिए 13 मई सोमवार को अन्य पीठ के समक्ष पेश करने का आदेश दिया है।
परिषद ने इस वर्ष 14 मई 2018 को सर्कुलर जारी कर आनलाइन परीक्षा से संस्थानों में प्रवेश का आदेश जारी किया। गत वर्ष 22 जून तक आनलाइन पंजीकरण किए गए और 30 जून को परीक्षा हुई। उन्हें 30 जुलाई तक प्रवेश लेने को कहा गया था। वर्ष 2018-19 सत्र में आनलाइन टेस्ट से ही प्रवेश की छूट दी गयी और संस्थाओं द्वारा सीधे या अन्य तरीके से प्रवेश को अवैध करार दिया गया। ऐसा शिक्षा की गुणवत्ता कायम रखने के लिए किया गया।
एक याचिका पर न्यायालय के आदेश पर परिषद ने आठ नवम्बर से 7 दिसम्बर 2018 तक लेट फीस 500 एवं 8 दिसम्बर से 15 दिसम्बर तक एक हजार लेट फीस के साथ पंजीकरण की छूट दी गयी। याचियों का प्रवेश इसके बाद लेकर पंजीकरण को भेजा गया तो परिषद ने देरी करने के कारण निरस्त कर दिया। छात्रों के भविष्य को लेकर यह याचिका दाखिल की गयी है।
सं दिनेश त्यागी
वार्ता
More News
गंगा जल आचमन लायक बनाने का संकल्प होगा पूरा: शेखावत

गंगा जल आचमन लायक बनाने का संकल्प होगा पूरा: शेखावत

18 Jun 2019 | 10:43 PM

वाराणसी,18 जून (वार्ता) केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने मंगलवार को यहां कहा कि गंगा की निर्मलता एवं अविरतला से जुड़ी तमाम परियोजनाओं पर तेजी से काम चल रहे हैं, जिससे आने वाले वर्षों में इसके पानी को आचमन लायक बनाने का सरकार का संकल्प निश्चित तौर पर पूरा होगा।

see more..
image