Tuesday, Oct 22 2019 | Time 02:09 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • यमन में हवाई हमले में चार लोगों की मौत
  • रुस की अदालत ने बांध टूटने के मामले में तीन लोगों को हिरासत में भेजा
  • घाना में कार दुर्घटनाग्रस्त, छह की मौत, 12 घायल
  • बंगाल में एनआरसी लागू नहीं किया जाएगा : ममता
  • आदर्श चुनाव संहिता उल्लंघन मामले में कांग्रेस सांसद जमानत पर छूटे
राज्य » उत्तर प्रदेश


मानवाधिकार आयोग ने पत्रकार के उत्पीड़न मामले में किया जवाब तलब

लखनऊ 14 जून (वार्ता) उत्तर प्रदेश के शामली में पत्रकार के उत्पीड़न संबंधी रिपोर्ट को संज्ञान में लेते हुये राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने शुक्रवार को राज्य के पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी किया है।
आयोग ने इस संबंध में विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। उसने पूछा है कि दोषी सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ क्या कार्रवाई की गयी और उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी की स्थिति क्या है। आयोग ने चार सप्ताह के भीतर जवाब मांगा है।
मीडिया रिपोर्ट की सुओ मोटो ध्यान में रखते हुये आयोग ने नोटिस जारी किया जिसमें बताया गया है कि पत्रकार को उच्चतम न्यायालय के आदेश के कुछ घंटों बाद रिहा कर दिया गया। शामली में 11 जून को टीवी पत्रकार की जीआरपी के थाना प्रभारी ने पिटाई की।
घटना की वीडियो वायरल होने के बाद पत्रकार से अभद्र व्यवहार करने वाले थाना प्रभारी और एक कांस्टेबल को निलंबित कर दिया गया था। शामली रेलवे स्टेशन पर मालगाड़ी की दो बाेगियों के पटरी से उतरने की घटना की रिपोर्टिंग के लिये गये पत्रकार की पुलिस ने पिटाई की और उसे हवालात में बंद कर दिया। घटना की सूचना मिलते ही वहां पत्रकारों का समूह एकत्र हो गया जिनकी पुलिस कर्मियों से तीखी नोकझोंक हुयी। पीडित पत्रकार का आरोप है कि पुलिस कर्मियों ने उसके मुंह में पेशाब की।
आयोग का मानना है कि मीडिया रिपोर्ट में अगर सच्चाई है तो सरकारी कर्मचारियों का रवैया बेहद गैर जिम्मेदाराना और सभ्य समाज को कंलकित किये जाना वाला है। इस मामले में दोषी पुलिसकर्मियों को ऐसी सजा मिलनी चाहिये जाे भविष्य में अन्य कर्मियों के लिये एक सबक हो।
प्रदीप
वार्ता
More News
जौनपुर जिले में 30 नवम्बर तक धारा 144 लागू

जौनपुर जिले में 30 नवम्बर तक धारा 144 लागू

21 Oct 2019 | 10:20 PM

जौनपुर, 21 अक्टूबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले दीपावली एवं अन्य पर्वो के अलावा अयोध्या प्रकरण में 17 नवम्बर के पहले आने वाले निर्णय के मद्देनजर जिले में निषेधाज्ञा लागू कर दी जो 30 नवम्बर तक जारी रहेगी।

see more..
किसान फसल अवशेष नहीं जलाएं,जैविक खाद के रुप में करें इस्तेमाल:राजपूत

किसान फसल अवशेष नहीं जलाएं,जैविक खाद के रुप में करें इस्तेमाल:राजपूत

21 Oct 2019 | 9:31 PM

औरैया, 21 अक्टूबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के कृषि राज्यमंत्री लाखन सिंह राजपूत ने कहा कि किसान भाई फसल अवशेषों को जलाने बजाय कर उनका उचित प्रबंधन कर, उनसे जैविक खाद बनाएं जिससे उनके खेतों में उर्वरा क्षमता बढ़ेगी और साथ ही पर्यावरण भी संरक्षित होगा।

see more..
image