Friday, Nov 22 2019 | Time 00:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
राज्य » उत्तर प्रदेश


उत्तर प्रदेश-योगी जनशिकायत तीन अंतिम लखनऊ

मुख्यमंत्री ने नगर विकास विभाग के संदर्भ में आईजीआरएस पर मिलने वाली शिकायतों के प्रभावी निस्तारण की स्थिति की समीक्षा करते हुए कहा कि नगरों की सफाई के दृष्टिगत प्लास्टिक बैन को प्रभावी रूप से लागू किया गया है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन की सफलता के लिए प्लास्टिक एवं थर्मोकोल को पूरी तरह से बैन करना होगा। यह बैन पहले से ही लागू है और जहां-जहां इसे ठीक से लागू किया गया है, वहां स्वच्छता में 50 प्रतिशत तक सुधार हुआ है। उन्होंने प्लास्टिक की बिक्री एवं उत्पादन पर प्रभावी रोक लगाने के भी निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि इसके लिए व्यापारियों से संवाद बनाया जाए। शादी-विवाह में प्लास्टिक/थर्मोकोल के प्रयोग को रोका जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि अधिकारीगण फील्ड का दौरा भी करें। नगरों की सफाई के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की जिम्मेदारी भी तय की जाए। इसके अलावा, नगर आयुक्त/अपर नगर आयुक्त जन सम्पर्क कर जनसमस्याओं का समाधान करें।
श्री योगी ने 05 असंतोषजनक निस्तारण वाले मण्डलों, जिनमें देवीपाटन, कानपुर, आजमगढ़, बरेली तथा वाराणसी शामिल हैं, के मण्डलायुक्तों सहित जिलो के वरिष्ठ अधिकारियों को समयबद्धता के साथ स्थिति सुधारने के निर्देश दिए। उन्होंने असंतोषजनक निस्तारण वाले 05 जिलो जिनमें बिजनौर, गाजीपुर, सीतापुर, गोण्डा तथा मेरठ सम्मिलित हैं, के नगर आयुक्तों एवं अधिशासी अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए कि स्थिति में समयबद्धता के साथ सुधार किया जाए, अन्यथा दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।
उन्होंने गृह एवं गोपन विभाग के संदर्भ में आईजीआरएस पोर्टल पर मिलने वाली शिकायतों के निस्तारण की स्थिति की समीक्षा करते हुए इसमें सुधार लाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पांच असंतोषजनक निस्तारण वाले मण्डलों, जिनमें प्रयागराज, मुरादाबाद, अलीगढ़, लखनऊ तथा चित्रकूट शामिल हैं, के पुलिस उप निरीक्षकों को स्थिति में तत्काल सुधार के निर्देश दिए। उन्होंने आईजीआइएस में असंतोषजनक निस्तारण वाले जनपदों के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों को भी तत्काल स्थिति सुधारने के निर्देश दिए। इनमें प्रमुख रूप से महोबा, प्रतापगढ़, खीरी, श्रावस्ती तथा कानपुर देहात शामिल हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस के रेंज और जोन स्तरों को प्रभावी बनाया जाए। साथ ही, भ्रष्ट थानाध्यक्षों को चिन्हित करते हुए उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। जो पुलिस कर्मी एक ही स्थान पर लम्बे समय से तैनात है, उन्हे फौरन स्थानांतरित किया जाए। उन्होंने पुलिस महानिदेशक को निचले स्तर तक पुलिस की कार्यप्रणाली की समीक्षा करने के भी निर्देश दिए। सभी आईजी एवं डीआईजी अपने रेंज के जिलो का दौरा करना सुनिश्चित करें। अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि अपराधी जेलों से अपनी गतिविधियां संचालित न कर सकें। उन्होंने अभियोजन की कार्रवाई तेज करने के भी निर्देश दिए। पेशेवर अपराधियों के खिलाफ प्राथमिकता पर सख्त कार्रवाई की जाए। राज्य सरकार की प्राथमिकता जनता को हर हाल में सुरक्षा प्रदान करना है।
उन्होंने समीक्षा में शामिल सभी 06 विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों को जनसमस्याओं के प्रभावी निस्तारण के सम्बन्ध में अपना-अपना सिस्टम बनाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जनसमस्याओं का ठोस निस्तारण किया जाए और कृत कार्रवाई से शासन तथा विभाग को निरन्तर सूचित किया जाए।
बैठक में मुख्य सचिव डाॅ0 अनूप चन्द्र पाण्डेय, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, अध्यक्ष राजस्व परिषद दीपक त्रिवेदी, प्रमुख सचिव ग्राम्य विकास अनुराग श्रीवास्तव, प्रमुख सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
त्यागी
वार्ता
image