Monday, May 25 2020 | Time 12:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कामकाज के घंटे बढ़ाने के फैसले को वापस लेने का स्वागत किया मजदूरों ने
  • रिजिजू ने बलबीर को दी श्रद्धांजलि
  • रिजिजू ने बलबीर को दी श्रद्धांजलि
  • हिमाचल में कोरोना से एक और मौत, संख्या हुई चार
  • किसानों को मुफ्त बिजली की सुविधा हो सकती है समाप्त
  • मानसिक रुप से परेशान एक व्यक्ति ने की आत्महत्या की
  • अक्षय कुमार ने बलबीर के निधन पर जताया शोक
  • अक्षय कुमार ने बलबीर के निधन पर जताया शोक
  • कुलगाम में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी ढेर
  • विराट और शास्त्री ने बलबीर को दी श्रद्धांजलि
  • विराट और शास्त्री ने बलबीर को दी श्रद्धांजलि
  • पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर ने बलबीर के निधन पर शोक जताया
  • पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर ने बलबीर के निधन पर शोक जताया
  • बूंदी जिला कोराना से अछूता
राज्य » उत्तर प्रदेश


प्रयागराज में एक बार फिर उफनाई गंगा और यमुना

प्रयागराज में एक बार फिर उफनाई गंगा और यमुना

प्रयागराज,12 सितम्बर (वार्ता) मध्य प्रदेश में हो रही मूसलाधार बारिश के कारण केन और बेतवा नदियों के अलावा कानपुर और नरौरा बैराज से छोडे गये पानी के कारण प्रयागराज में गंगा और यमुना का जलस्तर करीब डेढ़ मीटर बढ गया है।

सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता बृजेश कुमार ने गुरूवार को यहां बताया कि दोनों नदियों का जलस्तर बढ़ रहा है और बुधवार सुबह क्रमश: फाफामऊ में गंगा 79.35 मीटर, छतनाग 78.47 मीटर और नैनी में यमुना 79.07 मीटर था। गुरूवार सुबह आठ बजे फाफामऊ में गंगा का जलस्तर 81.17 मीटर, छतनाग में 80.39 मीटर और नैनी में यमुना 81.02 मीटर दर्ज किया गया है।

उन्होंने बताया कि दोनों नदियों का जलस्तर छह सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही है। हालांकि सुबह जलस्तर बढ़ने की रफ्तार अधिक थी। उन्होंने बताया कि पानी बढ़ तो रहा है लेकिन चिंता की बात नहीं हैं।

इस बीच जिला प्रशासन ने दोनों नदियों के निचले क्षेत्रों में अलर्ट घोषित कर दिया है। बाढ़ चौकियों पर नियुक्त कर्मचारियों को सतर्क रहने काे कहा है। गंगा-यमुना का जल फिर से मंदिर के मुहाने तक पहुंच गया है। कुछ श्रद्धालु तो गंगा और हनुमान मंदिर में का दर्शन निमित्त पहुंचे हैं तो कुछ पर्यटक दोनो नदियों के बढ़ते जलस्तर का नजारा देखने हनुमान मन्दिर के पास पहुंचे हैं।

गौरतलब है कि गंगा बंधवा पर लेटे बड़े हनुमान का जलाभिषेक कर पांव पखारने के बाद धीरे धीरे शांत हो गयी थी लेकिन पिछले 48 घंटे से जलस्तर में बृद्धी शुरू हो गयी जिससे नदियों का पानी मंदिर के मुहाने पर पहुंच गया है।

दिनेश त्यागी

वार्ता

image