Saturday, Jul 11 2020 | Time 16:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • टेबल टेनिस विश्व टीम चैंपियनशिप 2021 की शुरुआत तक स्थगित
  • बंगाल में छात्र की गोली मार कर हत्या
  • हिमाचल में बस किराया बढ़ाने पर अभी फैसला नहीं, कर रहे हैं विचार: ठाकुर
  • रूस में कोरोना मामले 7 20 लाख के पार, रिकवरी दर 69 फीसदी
  • जिंसों में टिकाव
  • तालिबान ने की पुलिस अधिकारी की हत्या, छह अधिकारी अगवा
  • जिंसों में टिकाव
  • चेतन चौहान ने सूद क्रिकेट में युवा खिलाड़ियों को किया था प्रोत्साहित
  • सहरसा में कोरोना संक्रमित एक व्यक्ति की मौत
  • पैरोल पर रिहा अपराधी पिस्तौल के साथ गिरफ्तार
  • प्रो लीग से ओलंपिक तैयारियों में मदद मिलेगी: रीड
  • डीयू के शिक्षकों, कर्मचारियों के वेतन का जल्द हो भुगतानःविधूड़ी
  • कैमूर में लूटकांड में शामिल होमगार्ड जवान समेत आठ अपराधी गिरफ्तार
राज्य » उत्तर प्रदेश


औरैया में प्रवासी मजदूरों को काम न मिलने से रोजी रोटी का संकट

औरैया, 24 मई (वार्ता) कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये लगाये गये राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के चलते औरैया में गैर प्रांतों व शहरों से लौट रहे प्रवासियों के लिए जहां प्रदेश की योगी सरकार के द्वारा तमाम सुविधाओं का दावा किया है लेकिन जिले में स्थिति इससे कुछ इतर नजर आ रही है।
उत्तर प्रदेश के औरेया में गांव में आए प्रवासियों को मनरेगा के तहत काम न मिलने से उनके सामने परिवार के भरण पोषण की समस्या उत्पन्न हो रही है। लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों की यह कहानी विकासखंड भाग्यनगर की ग्राम पंचायत टीकमपुर की है। जहां पर अन्य राज्यों से वापस आये विनोद कुमार, विजय बहादुर, आशा देवी, पवन कुमार, सुभाष चंद्र, सुरजीत कुमार, राम कैलाश, राजेश कुमार, पप्पू सिंह, राम दास, श्याम सुंदर, अनिल कुमार, राजकुमार समेत कई प्रवासी मजदूरों का कहना है कि हमारे पास मनरेगा जॉब कार्ड उपलब्ध है। इसके बाद भी पंचायत सचिव व रोजगार सैवक उन्हें मनरेगा के तहत काम न देकर जानबूझकर परेशान कर भुखमरी के लिए मजबूर कर रहे हैं, मजदूरी का काम न मिलने से हम लोग बहुत परेशान है।
उन्होंने कहा कि प्रधान रामबाबू से बात करने पर वह कहते हैं कि तुम लोग काम पर जाओ और जब हम लोग काम पर जाते हैं तो वहां से पंचायत सचिव व रोजगार सेवक यह कहकर लौटा देता है कि टीकमपुर के लोगों को काम नहीं मिलेगा केवल माखनपुर के लोगों को काम मिलेगा, जहां शिकायत करनी हो करो जाके।
मजदूरों ने जिलाधिाकरी अभिषेक सिंह से मांग करते हुए कहा कि हम लोगों को मनरेगा से काम दिलाया जाये जिससे हम सभी अपने परिवारों का भरण पोषण कर सकें।
समाजसेवी प्रशांत त्रिपाठी ने बताया है कि टीकमपुर गांव के दर्जनों गरीब मजदूर परिवार अपने बच्चों का पेट पालने के खातिर हरियाणा, दिल्ली, नोएडा, फरीदाबाद, लुधियाना जैसे शहरों से इस उम्मीद के साथ अपने गांव वापस लौट थे कि सरकार ने सभी को मनरेगा से काम देने की बात कही है जिसमें वह काम करके अपने परिवारों का भरण पोषण कर सकेंगे। काम के लिए जब वे ग्राम प्रधान रामबाबू राजपूत व ग्राम पंचायत विकास अधिकारी प्रेमचंद के यहां जाते हैं और अपनी पीड़ा को बयां कर काम देने की बात कहते हैं तो वह साफ मनाकर देते हैं। जिससे इन मजदूरों की बदकिस्मती यहां भी पीछा नहीं छोड़ रही है।
सं भंडारी
वार्ता
More News
घर-घर जाकर की जाय संदिग्ध मराजों की जांच: योगी

घर-घर जाकर की जाय संदिग्ध मराजों की जांच: योगी

11 Jul 2020 | 3:09 PM

लखनऊ, 11 जुलाई(वार्ता)उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घर-घर मेडिकल स्क्रीनिंग में संदिग्धों का सैम्पल लेकर टेस्ट कराने के निर्देश देते हुए कहा कि जांच के पश्चात अस्वस्थ मिले लोगों के समुचित उपचार की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

see more..
image