Tuesday, Oct 20 2020 | Time 17:39 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हिम्मत के नाबाद 94 रनों जीता रण स्टार
  • हिम्मत के नाबाद 94 रनों जीता रण स्टार
  • परिचालक भर्ती पेपर लीक मामले में एसआईटी गठित
  • बागेश्वर पुलिस ने किया चरस तस्कर को गिरफ्तार
  • सिरसा में पराली जलाने वालेे किसानों पर 45 हजार रुपये जुर्माना
  • कोच लालचंद राजपूत के बिना पाकिस्तान पहुंची जिम्बाब्वे क्रिकेट टीम
  • कोच लालचंद राजपूत के बिना पाकिस्तान पहुंची जिम्बाब्वे क्रिकेट टीम
  • दुमका : छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म कर हत्या करने के मामले में एक गिरफ्तार
  • देश में ऑक्सीजन सपोर्ट वाले बेड और मेडिकल ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता: स्वास्थ्य सचिव
  • बिहार में प्रधानमंत्री की प्रस्तावित रैली से घबराया राजद-कांग्रेस : शाहनवाज
  • प्याज, टमाटर समेत सब्जियों के भाव एक बार फिर आसमान की ओर
  • पुलवामा में मुठभेड़ में दो आतंकवादी ढेर
  • चालू वित्त वर्ष में एफडीआई 13 प्रतिशत बढ़ा
  • हंगरी में ओलंपिक कोटा हासिल करने उतरेंगे भारतीय जूडोका
राज्य » उत्तर प्रदेश


पांच साल की संविदा नियुक्ति का नियम नौजवानों के साथ छलावा:अभिषेक मिश्रा

झांसी 29 सितम्बर (वार्ता) प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय सचिव अभिषेक मिश्रा ने प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि इस सरकार ने रोजगार के नाम पर नौजवानों के साथ बड़ा छलावा किया है और पांच साल की संविदा नियुक्ति का नियम बना दिया।
सपा के राष्ट्रीय सचिव ने यहां पत्रकार वार्ता में प्रदेश सरकार पर सीधा निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश सरकार में समाजवादी सरकार द्वारा जनता के हित में किये गये कार्यों को अधूरा छोड़कर बंद किया जा रहा है। कहीं ना कहीं जनता अपने को ठगा सा महसूस कर रही है। रोजगार के नाम पर पांच साल की संविदा नियुक्ति का नियम नौजवानों के साथ छलावा है। प्रदेश में समाजवादी सरकार आते ही पहली कैबिनेट बैठक में इस नियम को समाप्त कर दिया जाएगा।
हम लोग अलग-अलग क्षेत्रों में समाजवादी सरकार के समय लाई गई जन कल्याणकारी योजनाओं की जमीनी हकीकत जानने के लिए जनता के बीच जा रहे हैं। उनसे अलग अलग क्षेत्रों में बात कर रहे हैं कि जो योजनाएं लागू की गई थी उस पर कितना कार्य हुआ, और किस योजना को बंद कर दिया गया। वर्तमान भाजपा सरकार ने 4 वर्षों में कोई विकास कार्य नहीं किए जिससे जनता को लाभ मिल सके। अब महज 6-8 माह बचे हैं। जो सरकार जनहित में 4 वर्षों में कोई कार्य न कर सकी वह चन्द महीनों में क्या करेगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश का हर वर्ग भाजपा सरकार से खफा है। हम लोग 2022 में समाजवादी पार्टी सरकार बनाने की तैयारी कर रहे हैं। हमारी सरकार बनते ही हमें क्या करना है इस पर हम अभी से कार्य कर रहे हैं ताकि सरकार बनने के बाद हमें योजनाएं खोजनी न पडे।
वर्तमान समय में हर वर्ग, जाति, धर्म के लोग परेशान हैं अपने को ठगा सा महसूस समझ रहे हैं। बेरोजगारों के साथ छलावा किया जा रहा है। रोजगार के नाम पर 5 साल संविदा के नियम को समाजवादी पार्टी की सरकार बनते ही हम लोग ने यह तय किया है की कैबिनेट की पहली बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से बात करके इस नियम को ध्वस्त करवाया जाएगा। हम समाजवादियों ने इंफ्रास्ट्रक्चर इंस्टिट्यूशन डेवलपमेंट पर कार्य किए। मेडिकल में इलाज के लिए सुविधाएं दी। झांसी में 120 बेड के मेडिकल कॉलेज को एक झटके में 600 करोड़ का बजट देकर 500 बैडांे का अस्पताल बना दिया। इसके बाद वर्तमान सरकार ने उस पर कोई भी डेवलपमेंट नहीं किया। इससे कोई भी ब्रांच नहीं जोड़ी। यही हाल झांसी के ऐतिहासिक जीआईसी की इमारत का है।
श्री मिश्रा ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार ने समाजवादी पार्टी द्वारा कराए गए कार्यों के अलावा कोई कार्य नहीं कराया है। हां सपा द्वारा शुरु किए गए कार्यों को रोका जरुर है। यदि भाजपा ने लखनऊ में एक पुलिया का ही निर्माण कराया हो तो बताए। किसान बाजार को उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की किसानों के हित में लाई गई बड़ी योजना बताया। जब उनसे पूछा गया कि किसान बाजार में किसानों को छोड़कर सभी के कार्यालय हैं और ये कार्यालय उनकी सपा सरकार से ही फल फूल रहे हैं। किसानों ने तो इस ओर मंहगी दुकानों को देख रुख तक नहीं किया तो इस पर उन्होंने चुप्पी साध ली।
सोनिया
वार्ता
More News
उप्र में सात विधानसभा सीटों पर चुनाव प्रचार तेज,  88 उम्मीदवार मैदान में

उप्र में सात विधानसभा सीटों पर चुनाव प्रचार तेज, 88 उम्मीदवार मैदान में

20 Oct 2020 | 5:29 PM

लखनऊ, 20 अक्टूबर (वार्ता) नामांकन प्रक्रिया पूरी होने के बाद उत्तर प्रदेश में सात विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव के लिए सभी दलों ने प्रचार तेज कर दिया है। इन सात सीटों पर तीन नवंबर को मतदान होगा जबकि दस नवंबर को परिणाम घोषित किए जाएंगे। इस उपचुनाव को वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव का सेमीफाइनल माना जा रहा है।

see more..
image