Wednesday, Feb 24 2021 | Time 23:02 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ममता ने कोरोना टीकाकरण पर मोदी को लिखा पत्र
  • ओडिशा में लापता युवती का शव नदी से बरामद
  • लोजपा कार्यकर्ताओं ने थामा जद-यू का दामन
  • उत्तराखंड में करंट लगने से महिला, घोड़े की मौत
  • अक्षर और अश्विन ने इंग्लैंड को 112 रन पर किया ढेर, भारत ने मैच पर कसा शिकंजा
  • अक्षर और अश्विन ने इंग्लैंड को 112 रन पर किया ढेर, भारत ने मैच पर कसा शिकंजा
  • मोटेरा स्टेडियम का नाम मोदी के नाम करना अधिनायकवाद मनोवृत्ति का परिचायक-डोटासरा
  • डिजिटल कंपनी के चयन में गड़बड़ी पर सरकार से जवाब तलब
  • तीसरे टेस्ट के पहले दिन का स्कोरबोर्ड
  • बजट में वादे तो हैं, इरादे दूर दूर तक नहीं दिखाई देते - वसुंधरा
  • सरकार का 100 संपदाओं के मौद्रिकरण का लक्ष्य: मोदी
  • बलिया में बाइक पर बिजली का तार टूट गिरा,तीन दोस्तों की मृत्यु
राज्य » उत्तर प्रदेश


लोकरूचि-मेला कल्पवास तीन प्रयागराज

आचार्य ने बताया कि मत्स्यपुराण में लिखा है कि कल्पवास का अर्थ संगम तट पर निवास कर वेदाध्यन और ध्यान करना है। इस दौरान कल्पवास करने वाले को सदाचारी, शांत चित्त वाला और जितेन्द्रीय होना चाहिए। कल्पवासी को तट पर रहते हुए नित्यप्रति अधिकाधिक जप तप, हाेम और दान करना चाहिए।
समय के साथ कल्पवास के तौर तरीकों में कुछ बदलाव भी आए हैं। बुजुर्गों के साथ कल्पवास में मदद करते-करते कई युवा खुद भी कल्पवास करने लगे हैं। कई विदेशी भी अपने भारतीय गुरुओं के सानिध्य में कल्पवास करने यहां आते हैं। पहले कल्पवास करने आने वाले गंगा किनारे घास-फूस की कुटिया में रहकर भगवान का भजन, कीर्तन, हवन आदि करते थे। लेकिन समयानुसार अब कल्पवासी टेंट में रहकर अपना कल्पवास पूरा करते हैं।
उन्होंने बताया कि पौष कल्पवास के लिए वैसे तो उम्र की कोई बाध्यता नहीं है, लेकिन माना जाता है कि संसारी मोह-माया से मुक्त और जिम्मेदारियों को पूरा कर चुके व्यक्ति को ही कल्पवास करना चाहिए क्योंकि जिम्मेदारियों से बंधे व्यक्ति के लिए आत्मनियंत्रण कठिन माना जाता है।
कुम्भ, अर्द्धकुम्भ और माघ मेला दुनिया का सबसे बड़ा आध्यात्मिक और सांस्कृतिक मेला है जिसकी कोई मिसाल नहीं मिलती। इसके लिए किसी प्रकार कोई प्रचार नहीं किया जाता है। पंचांग की निर्धारित तारीख पर लाखो-करोड़ों साधु-संत, पर्यटक, कल्पवासी और श्रद्धालु यहां बिना आमंत्रण और निमंत्रण के पहुंचते है।
आचार्य ने बताया कि प्रयागराज मे जब बस्ती नहीं थी, तब संगम के आस-पास घोर जंगल था। जंगल मे अनेक ऋषि-मुनि जप तप करते थे। उन लोगों ने ही गृहस्थों को अपने सान्निध्य मे ज्ञानार्जन एवं पुण्यार्जन करने के लिये अल्पकाल के लिए कल्पवास का विधान बनाया था। इस योजना के अनुसार अनेक धार्मिक गृहस्थ ग्यारह महीने तक अपनी गृहस्थी की व्यवस्था करने के बाद एक महीने के लिए संगम तट पर ऋषियों मुनियों के सान्निध्य मे जप तप साधना आदि के द्वारा पुण्यार्जन करते थे। यही परम्परा आज भी कल्पवास के रूप मे विद्यमान है।
दिनेश विनोद
जारी वार्ता
More News
राहुल पर योगी के आरोप झूठे और हताशा का परिचायक: लल्लू

राहुल पर योगी के आरोप झूठे और हताशा का परिचायक: लल्लू

24 Feb 2021 | 10:55 PM

लखनऊ 24 फरवरी (वार्ता) कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के विधानसभा में दिये गये व्यक्तव्य को हताशा का परिचायक करार देते हुये पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की बढ़ती लोकप्रियता से तिलमिला कर श्री योगी झूठे तथ्यों को पेश कर रहे हैं।

see more..
भाजपा ने किया लोकतांत्रिक व्यवस्था का सर्वाधिक नुकसान: अखिलेश

भाजपा ने किया लोकतांत्रिक व्यवस्था का सर्वाधिक नुकसान: अखिलेश

24 Feb 2021 | 10:31 PM

लखनऊ 24 फरवरी (वार्ता) समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने लोकतांत्रिक व्यवस्था और संस्थानों का जितना नुकसान किया है उतना किसी ने नहीं किया है।

see more..
image