Thursday, Feb 2 2023 | Time 19:43 Hrs(IST)
image
राज्य » उत्तर प्रदेश


देवरिया में वकील की पत्नी ने राज्य मंत्री पर लगाया जमीन कब्जाने का आरोप

देवरिया, 08 नवंबर (वार्ता) उत्तर प्रदेश के देवरिया में एक वकील की पत्नी ने मंगलवार को प्रदेश सरकार के एक महिला राज्य मंत्री पर उसकी जमीन पर कब्जा करने का आरोप लगाते हुए न्याय की गुहार लगाई है।
जिले के रूद्रपुर तहसील के ग्राम नकईल निवासी राम प्रवेश सिंह यहां अधिवक्ता हैं और उन्होंने शहर के देवरिया खास मोहल्ले में पत्नी उषा देबी के नाम से जमीन का बैनामा कराया हुआ है। वकील की पत्नी का आरोप है कि सलेमपुर सुरक्षित सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) विधायक एवं प्रदेश सरकार में राज्य मंत्री विजय लक्ष्मी गौतम अपने पद का दुरुपयोग करते हुए उसकी जमीन पर कब्जा करना चाहती हैं।
अधिवक्ता की पत्नी ने आरोप लगाते हुए कहा कि उक्त जमीन का हमारे नाम से बैनामा है। पीड़ित महिला का आरोप है कि जब भी वह अपनी जमीन पर जाती है, तो उसे भगा दिया जाता है। पीड़ित महिला के मुताबिक 06 नवंबर को मंत्री ने उसके जमीन पर कब्जा करने के लिये पिलर लगवा कर कब्जा कर रही थीं। महिला का आरोप है कि मंत्री अपने पद का दुरुपयोग कर हमारी जमीन कब्जा करने में लगी हैं। पीड़ित महिला का कहना है कि हम न्याय के लिए सभी जगह गुहार लगा रहे हैं पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।
वहीं राज्य मंत्री गौतम का कहना है कि यह जमीन हमारी परिवारिक जमीन है। जो महिला अपने जमीन का नंबर बता रही है। वह नंबर इस जमीन का नहीं है। उन्होंने कहा कि मामला न्यायालय में चल रहा है और यह जमीन हमारी पुश्तैनी है। हमें न्यायालय पर भरोसा है।
पत्रकारों ने सवाल किया जब मामला न्यायालय में चल रहा है तो आपने पिलर क्यों गड़वा दिये। इस पर मंत्री ने कहा कि वह जमीन मेरी है और जमीन पर बचपन में हम खेले हैं। वह महिला हमारी छवि को खराब करना चाहती हैं।
गौरतलब है कि विजय लक्ष्मी गौतम ने भाजपा के बैनर तले सक्रिय राजनीति की शुरूआत की। वह एक बार भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति की सदस्य भी रहींं। पार्टी ने उन पर भरोसा करते हुए 2012 में सलेमपुर सुरक्षित सीट से टिकट दिया, लेकिन वह समाजवादी पार्टी के मनबोध प्रसाद से हार गई थीं। वर्ष 2017 में भाजपा ने इनका टिकट काटकर काली प्रसाद को मैदान में उतारा था। टिकट कटने के बाद विजयलक्ष्मी सपा में शामिल हो गईं थी और सपा ने उन्हें सलेमपुर क्षेत्र टिकट देकर मैदान में उतारा लेकिन वह भाजपा के काली प्रसाद से चुनाव हार गई थीं।
वर्ष 2022 विधानसभा चुनाव के ठीक पहले वह भाजपा में एक बार फिर से शामिल हुई और पार्टी ने उनको यहां से मैदान में उतारा और वह अब यहां से विधायक हैं।
सं. उप्रेती
वार्ता
image