Saturday, Mar 2 2024 | Time 08:24 Hrs(IST)
image
राज्य » उत्तर प्रदेश


मुरादाबाद:15 साल से फरार इनामी बदमाश गिरफ्तार

मुरादाबाद, 09 नवंबर (वार्ता) उत्तराखंड की देहरादून जेल से दिल्ली रोहिणी कोर्ट में पेशी के लिए ले जाते समय मसूरी एक्सप्रेस ट्रेन से कूदकर पुलिस अभिरक्षा से फरार 40 हज़ार रुपए का इनामी बदमाश को 15 साल बाद राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) मुरादाबाद ने गुरूवार को दिल्ली से गिरफ्तार किया।
पुलिस उपाधीक्षक राजकीय रेलवे पुलिस मुरादाबाद देवीलाल ने बताया कि 2005 में थाना विकासनगर देहरादून जेल में बंद राजीव उर्फ राजू उर्फ विवेक दास निवासी पुराना गिरिजाघर, टाउन हॉल समीप तहसील,सदर कोतवाली मुरादाबाद को जी4एस सिक्योरिटी में गार्ड की नौकरी पर तैनात महरौली दिल्ली से जीआरपी मुरादाबाद की टीम द्वारा आज गिरफ्तार किया गया ।
उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपी राजीव शातिर किस्म का अपराधी है।जो 15 वर्ष पूर्व पुलिस हिरासत में फरार हो जाने के बाद से लगातार पुलिस को चकमा देता चला आ रहा था। उसके बाद राजकीय रेलवे पुलिस मुरादाबाद द्वारा चालीस हजार रूपए का इनाम घोषित किया गया था।
उन्होंने बताया कि वर्ष 2001 में तिलकनगर दिल्ली थाने में आरोपी के ख़िलाफ़ आपराधिक मामले में मुकदमा दर्ज है, वहीं दूसरी ओर वर्ष 2005 में हत्या के एक मामले में भी उत्तराखंड देहरादून के विकास नगर थाने में मुकदमा पंजीकृत है, जबकि वर्ष 2008 में राजकीय रेलवे पुलिस थाना मुरादाबाद में भी मुकदमा दर्ज है। उन्होंने बताया कि 07 मार्च 2008 को आरोपी राजीव को एक मामले में देहरादून जेल से दिल्ली रोहिणी एडीजे कोर्ट - 208 में पेशी को मसूरी एक्सप्रेस ट्रेन ले जाने के दौरान सुबह के 03 बजकर 50 मिनट पर ट्रेन के चांदपुर (बिजनौर) से रवाना होने के कुछ समय बाद ट्रेन की धीमी गति होते ही पेशाब करने के बहाने चकमा देकर ट्रेन से कूदकर पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया था।
अभियुक्त ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि फरार होने के बाद वह सीधे मुजफ्फरनगर में अपने दोस्त ललित के पास पहुंचा था, छह महीने बाद कानपुर में एक महिना, उत्तराखंड के नैनीताल जिले में रामनगर की एक जूता फैक्टरी में नौकरी की। फिर मुंबई की ओर रुख़ किया जहां एक साल तक रहने के बाद उसने विवेक दास पुत्र शंकर दास निवासी हाउस नंबर 202, समीप सेंट जोन पब्लिक स्कूल मैदान गढ़ी, थाना महरौली दिल्ली में नाम पता व हुलिया बदलकर गली गली सब्जी बेची उसके बाद उसने जी4एस सिक्योरिटी कंपनी में गार्ड की नौकरी पर लग गया।
इस दौरान उसकी भेंट वैस्ट बंगाल कोलकाता हल्दिया निवासी मानसी दास नामक युवती से हो गई और उसके साथ शादी कर ली। पुलिस हिरासत से फरार होने के 15 साल बाद राजीव उर्फ राजू उर्फ विवेक दास को सर्विलांस टीम के संयुक्त प्रयास से आज जीआरपी मुरादाबाद द्वारा घोषित 40 हज़ार रुपए के इनामी बदमाश राजीव उर्फ राजू उर्फ विवेक दास को जई4एस सिक्योरिटी कंपनी दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है।
सं सोनिया
वार्ता
image