Saturday, Mar 2 2024 | Time 08:47 Hrs(IST)
image
राज्य » उत्तर प्रदेश


आजमगढ़ के हॉकी मैदान पर 11 हजार दीये जलाकर मनाया गया दीपोत्सव

आज़मगढ़ ,11 नवंबर (वार्ता) दीपावली का पर्व यूं तो देशभर में पारंपरिक हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है लेकिन उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में पिछले 7 वर्षों से लगातार चौरी बेलहा पीजी कालेज तरवा के हॉकी खिलाड़ी कुछ अलग ही अंदाज में मनाते हुए पर्व से एक दिन पूर्व दीपोत्सव का आयोजन करते हैं।
जिले के हॉकी के खिलाड़ियों ने कुछ अलग अंदाज में मैदान पर 11 हजार दीपक रोशन कर हॉकी के खिलाड़ियों ने दीपोत्सव मनाया। खिलाड़ियों ने खेल के मैदान को दीपों से सजाया और अलग तरह से दीप जलाया ।इस दीपोत्सव महापर्व पर कालेज के प्रबंधक प्रभाकर सिंह के अलावा शिक्षकों, हाॅकी के प्रशिक्षकों व खिलाड़ियों के अलावा कुछ समाजसेवियों ने प्रतिभाग किया।इस पीजी कॉलेज में एक हॉकी अकादमी चलाई जाती है। यह उसी हॉकी अकादमी के छात्र हैं ।इन खिलाड़ियों ने दीप भी ऐसे जलाये कि कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी की अंधेरी रात में मैदान की खूबसूरती कुछ अलग ही खेल का सन्देश बयां कर रही थी |
हाॅकी मैदान के आयताकार सीमा रेखा को ,सेंटर लाइन को ,गोल पोस्ट की सीमा रेखा 11 को ,पेनाल्टी स्ट्रोक के स्पॉट को तथा सूटिंग सर्कल को दीपों से ऐसे सजाया गया था कि पूरा दृश्य दीपावली के मौके पर जीवन को प्रकाश में बनाने का संदेश दे रहा था |
महाविद्यालय से जुड़े हॉकी अकादमी के खिलाडियों ने कहा कि उनके खेल का जीवन भी ऐसे ही प्रकाशमय बना रहे इसी उद्देश्य से इस मैदान को सजा कर पूजन किया गया | इस तरह की सोच के अनुरूप इस महाविद्यालय परिसर में सातवीं बार ऐसी दीवाली मनाई गयी |
प्रबंधक प्रभाकर सिंह ने कहा कि 11 हज़ार दीपक जलाकर इस दीवाली पर्व पर ऐसा सन्देश देने का प्रयास किया जाता है कि यहां से निकलने वाले प्रत्येक छात्रों का जीवन ऐसे ही प्रकाशयुक्त रहे ।
इस 11 हज़ार दीयों को जलाने में चौरी बेलहा महाविद्यालय हाँकी एकेडमी के छात्रों के अलावा जिन लोगों ने अपना अमूल्य समय व् सहयोग दिया उन लोगों में प्रमुख रूप से ,,खेल सचिव रामानंद राजभर ,विजय यादव,दिनेश चंद्र मिश्र ,देवेंद्र सिंह प्रमोद सिंह ,चंचल यादव ,प्रबंध समिति के सदस्य गण,के अलावा प्राचार्य डाक्टर सतीश कुमार सिंह ,प्रमुख खेल प्रशिक्षक रणजीत केसरी,डाक्टर संतोष सिंह , राणा सिंह सहित सभी लोग उपस्थित रहे ।
सं सोनिया
वार्ता
image