Tuesday, Apr 23 2024 | Time 09:20 Hrs(IST)
image
राज्य » उत्तर प्रदेश


उत्तर प्रदेश प्रतिभा सम्मान दो अंतिम लखनऊ

योगी ने कहा कि आज यहां पर हम लोग प्रदेश की उन सभी विभूतियों को सम्मानित करने का प्रयास कर रहे हैं, जिन्होंने खेल के क्षेत्र में, कला के क्षेत्र में, संस्कृति के क्षेत्र में अपना कुछ विशिष्ट योगदान दिया है। इसमें खेल से संबधित पुरस्कारों में पुरुष वर्ग में प्रदेश का सर्वोच्च पुरस्कार लक्ष्मण पुरस्कार तो महिला वर्ग में रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार दिया जाता है। सामान्य वर्ग में अखिल को शूटिंग, राज कुमार पाल को हॉकी के लिए लक्ष्मण पुरस्कार दिया गया है, जबकि किरन बाल्यान को एथलेटिक्स का रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार प्रदान किया गया है। यह पुरस्कार 2022-23 के लिए उपलब्ध कराया गया है।
इसी प्रकार से पैरा खेल सामान्य में अजीत सिंह पैराएथलेटिक्स को लक्ष्मण पुरस्कार और दिव्यांगजन सामान्य वर्ग में सिमरन (पैराएथलेटिक्स) और जैनब खातून (पैरापावरलिफ्टिंग) को रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार प्रदान किया गया है। प्रदेश के इन सभी उत्कृष्ट खिलाड़ियों का अभिनंदन करता हूं। उन्होंने कहा कि संस्कृति विभाग के द्वारा कला जगत की विभूतियों को सम्मानित किया जाता है। इनमें डॉ मनीष कुमार जैन को जैन संस्कृति के संवर्धन का सम्मान प्रदान किया गया है। डॉ. शरणदास शास्त्री को संत कबीर अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। माया कुलश्रेष्ठ को बिरजू महाराज कत्थक सम्मान, प्रो मंजुला चतुर्वेदी, डॉ ईश्वर चंद्र गुप्त एवं डॉ सुनील विश्वकर्मा को बाबा योगेंद्र कला सम्मान से सम्मानित किया गया।
प्रो. मंगला कपूर तथा मानवेंद्र कुमार त्रिपाठी को उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी का आचार्य भरत मुनि सम्मान यहां प्रदान किया गया। श्रीराम चंद्र योगी को उत्तर प्रदेश लोक एवं जनजाति संस्कृति संस्थान लखनऊ का लोक संस्कृति पुरस्कार, कथारू को बिरसा मुंडा पुरस्कार, डॉ. उमा शंकर व्यास, प्रो. काशी, डॉ चंद्र कीर्ति को बौद्ध संस्थान लखनऊ का बौद्ध संस्कृति संवर्धन सम्मान, अतुल सत्य कौशिक, अतुल श्रीवास्तव, रोजी दुबे को भारतेंदु नाट्य अकादमी लखनऊ का भारतेंदु हरिश्चंद्र सम्मान प्रदान किया गया है। इन सभी कलाकारों को जिन्होंने अलग-अलग विधा को अपनी प्रतिभा के माध्यम से अलंकृत किया है, उनका अभिनंदन करता हूं।
योगी ने कहा कि ये हमारा सौभाग्य है कि नए भारत का नया उत्तर प्रदेश जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। राजभवन में भी आपको बहुत कुछ परिवर्तन देखने को मिला होगा। राजभवन का थीम सांग पहली बार आपने सुना होगा। राजभवन के ऐसे अनेक कार्यक्रम सुबह गणतंत्र दिवस की परेड में भी देखने को मिले हैं। भिक्षा से शिक्षा का एक नया अनुभव देखने को मिला है। जो बच्चे भिक्षावृत्ति में लिप्त थे,उन बच्चों को कैसे शिक्षा के साथ जोड़कर राष्ट्र की मुख्य धारा में जोड़ा जा रहा है ये आज उस झांकी में उन बच्चों के प्रदर्शन में स्पष्ट रूप से देखा जा सकता था।
उन्होने कहा कि राजभवन केवल संविधान की व्यवस्था तक सीमित न रहे, बल्कि समाज के साथ जमीनी स्तर पर जुड़कर भी कार्य करेगा ये आज उत्तर प्रदेश राजभवन ने राज्यपाल के मार्गदर्शन में करके दिखाया है। आपने देखा होगा कि गणतंत्र दिवस की परेड में विभिन्न परेड के साथ-साथ राजभवन की परेड भी चल रही थी। यह सब यहीं के बच्चे हैं, यहीं पढ़ते हैं। एक रचनात्मकता का अभ्युदय कैसे होता है, आज उसका केंद्र बिंदु उत्तर प्रदेश का राजभवन बना है।
अलंकरण समारोह में प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, खेल और युवा कल्याण मंत्री गिरीश चंद्र यादव, मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र, मुख्यमंत्री के सलाहकार अवनीश अवस्थी, अपर मुख्य सचिव राजभवन सुधीर बोबड़े, अपर मुख्य सचिव खेल और युवा कल्याण आलोक कुमार, प्रमुख सचिव पर्यटन एुवं संस्कृति मुकेश मेश्राम और पुरस्कृत विभूतियां उपस्थित रहे।
प्रदीप
वार्ता
More News
परिवार की खातिर अखिलेश कार्यकर्ताओं को भूले: भूपेंद्र चौधरी

परिवार की खातिर अखिलेश कार्यकर्ताओं को भूले: भूपेंद्र चौधरी

22 Apr 2024 | 8:58 PM

लखनऊ 22 अप्रैल (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी ने सोमवार को कहा कि परिवारवाद और वंशवाद समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव की असली पहचान है और उनका समाजवाद से दूर दूर तक कोई रिश्ता नहीं है।

see more..
सपा ने घोषित किये दो उम्मीदवार

सपा ने घोषित किये दो उम्मीदवार

22 Apr 2024 | 8:53 PM

लखनऊ, 22 अप्रैल (वार्ता) समाजवादी पार्टी (सपा) ने सोमवार को कन्नौज और बलिया निर्वाचन क्षेत्रों से अपने उम्मीदवार घोषित किये हैं।

see more..
image