Thursday, Mar 21 2019 | Time 09:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने अपहृत ईरानी सैनिकों को मुक्त कराया
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 22 मार्च)
  • रूस जल्द वेनेजुएला को दवाइयों की आपूर्ति शुरू करेगा: मादुरो
  • सीरिया में 400 अमेरिकी सैनिक रहेंगे मौजूद: ट्रम्प
  • अफगानिस्तान में राष्ट्रपति चुनाव की नयी तारीख तय
  • सीरिया में 400 अमेरिकी सैनिक रहेंगे मौजूद: ट्रम्प
  • कांग्रेस गठबंधन ने विकास परियोजनाओं को रोका: जितेन्द्र
  • सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने ‘स्वैच्छिक आचार संहिता’ पेश की
  • ऊधमपुर में सीआरपीएफ जवान ने अपने तीन साथियों की हत्या की
विशेष » कुम्भ


श्रद्धालुओं की अक्षय वट देखने की आस रही अधूरी

श्रद्धालुओं की अक्षय वट देखने की आस रही अधूरी

कुंभ नगर, 10 फरवरी (वार्ता) आध्यात्म,संस्कृति और श्रद्धा के बेजोड़ संगम कुंभ मेले में रविवार को तीसरे और अंतिम शाही स्नान पर आस्था की डुबकी से तृप्त श्रद्धालुओं की अक्षय वट दर्शन की लालसा अधूरी ही रह गयी।

दूर दराज से तीर्थराज प्रयाग में पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलिला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती की त्रिवेणी में बसंत पंचमी के स्नान पर्व पर पुण्य की कामना से गोता लगाने की जो प्रसन्नता श्रद्धालुओं के चेहरे पर दिखलायी पड़ रही थी, अक्षय वट का दर्शन न/न कर पाने का मलाल उनको टीसता रहा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को श्रद्धालुओं ने कुंभ से पहले अक्षय वट आम लोगों के दर्शनार्थ खुलवाने के लिए जहां बुजुर्गों ने आशीष दिया और अन्य ने सराहना की वहीं भीड़ के मद्देनजर प्रशासन द्वारा उसके दर्शन पर रोक लगाने का मलाल भी हुआ। अकबर द्वारा बनवाए गये किले में सैकड़ों साल तक अक्षय वट कैद रहा।

अक्षय वट दर्शन के लिए किले के बाहर बनी चहल पहल वाली ‘जिक-जैेक’ सूनी नजर आ रही थी। बड़ी संख्या में त्रिवेणी में आस्था की डुबकी लगाने के बाद श्रद्धालु अक्षय वट देखने की लालसा लिए जब किले के बाहर पहुंचे तब पुलिस के जवानों द्वारा “अक्षय वट दर्शन बन्द है” सुनकर मायूस होते रहे।

बादशाहपुर निवासी राम सजीवन ने बताया कि बसंत पंचमी पर त्रिवेणी में स्नान कर जितनी तृप्ति मिली, अक्षय वट के न/न देखपाने की अतृप्त लालसा लिए वापस लौटना पड़ रहा है। उन्होंने बताया,‘ हमे नहीं पता कि अक्षय वट का है, कइसन है, लोग कहत रहेन कि अक्षय वटवा खुल गवा बा, त हम सोचे चला हमहूं देख लेब। अब बन्द बा ता का देखब।”

अक्षय वट देखने की लालसा केवल राम सजीवन में नहीं बल्कि लाखों श्रद्धालुओं को दर्शन की अधूरी अभिलाषा लिए अपने गंतव्य को लौटना पड़ा। किला क्षेत्र में सुरक्षा के लिए लगाई गयी पुलिस को श्रद्धालुओं को “अक्षय वट बन्द है” बताते-बताते कोफ्त आने लगी। कई बार पुलिस को श्रद्धालुओं के साथ रूखा व्यवहार करते देख गया।

दिनेश प्रदीप

वार्ता

More News
कुम्भ ने दुनिया को कराया भारतीय संस्कृति की विविधता का अहसास :राणा

कुम्भ ने दुनिया को कराया भारतीय संस्कृति की विविधता का अहसास :राणा

04 Mar 2019 | 9:55 PM

कुम्भ,04 मार्च (वार्ता) उत्तर प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी मिल मंत्री सुरेश राणा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के निर्देशन तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुशल नेतृत्व का बखान करते हुए कहा कि पूरे विश्व ने कुम्भ की प्राचीन मान्यता, आध्यात्मिकता, लौकिकता, आपसी सद्भाव को स्वीकार किया।

see more..
कुम्भ की आभा बेमिसाल : फडणवीस

कुम्भ की आभा बेमिसाल : फडणवीस

04 Mar 2019 | 9:55 PM

कुम्भनगर,04 मार्च (वार्ता) महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुम्भ की जितनी प्रशंसा की जाए,वह कम है।

see more..
महाशिवरात्रि स्नान पर एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने लगाई संगम में आस्था की डुबकी

महाशिवरात्रि स्नान पर एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने लगाई संगम में आस्था की डुबकी

04 Mar 2019 | 8:55 PM

कुम्भनगर, 04 मार्च (वार्ता) सम्पूर्ण विश्व में अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले कुम्भ के आखिरी दिन महाशिवरात्रि के पर्व पर एक करोड़ 10 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलिला स्वरूप में प्रवाहित हो रही सरस्वती में आस्था की डुबकी लगाई।

see more..
आध्यात्म,वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

आध्यात्म,वैराग्य और ज्ञान की ऊर्जा सतत प्रवाहित होती है संगम की रेत में

04 Mar 2019 | 6:04 PM

कुम्भनगर, 04 मार्च (वार्ता) पतित पावनी गंगा, श्यामल यमुना और अन्त: सलीला स्वरूप में प्रवाहित सरस्वती के त्रिवेणी की विस्तीर्ण रेती वैराग्य, ज्ञान और आध्यात्मिक शक्ति से ओतप्रोत है।

see more..
महाशिवरात्रि से पहले संगम पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

महाशिवरात्रि से पहले संगम पर उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़

03 Mar 2019 | 2:35 PM

कुंभनगर, 03 मार्च (वार्ता) दुनिया के सबसे बड़े आध्यात्मिक और सांस्कृतिक समागम कुंभ के छठे और आखिरी स्नान पर्व महाशिवरात्रि से एक दिन पहले रविवार को एक बार फिर दूर-दराज से भक्तों का रेला संगम पर आस्था के समंदर में बूंदा-बांदी को धता बताकर हिलोरें ले रहा है।

see more..
image