Sunday, Feb 17 2019 | Time 19:26 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • महागठबंधन राहुल को नहीं मानता अपना नेता-मेघवाल
  • अहमदिया मुस्लिम जमाअत ने पुलवामा आतंकी हमले की कड़ी निंदा की
  • पारिवारिक कलह से परेशान युवती ने की आत्महत्या
  • बहराइच से दो महिला तस्कर गिरफ्तार, एक करोड़ 92 लाख की चरस बरामद
  • जालंधर पुलिस ने किये पांच लुटेरे गिरफ्तार
  • पीयूष हत्याकांड मामले में सरगना समेत दो गिरफ्तार
  • आरोप साबित होने पर आत्महत्या कर लूंगा: जाधव
  • निर्मल सिंह ठेकेदार चीफ खालसा दीवान के प्रधान
  • जम्मू हिंसा, पुलिस ने 10 लोगों को हिरासत में लिया
  • सिद्धू पर देश द्रोह का मामला दर्ज हो : कालिया
  • कृषि संकट, बेरोजगारी, विभाजनकारी ताकतें सबसे बड़ी चुनौती: मनमोहन
  • पुलवामा हमले के विरोध में भाजपा नेता एवं कार्यकर्ताओं ने दिया धरना
  • बाहर पढ़ने वाले कश्मीरी छात्रों की सुरक्षा की समीक्षा
  • बिहारवासियों का मेट्रो रेल का सपना हुआ पूरा
  • पुलवामा आतंकी घटना के बाद कश्मीरियों के पुलिस सत्यापन में आयी तेजी
दुनिया Share

ईरान पर प्रतिबंधों से ओपेक को खतरा

तेहरान 07 जुलाई (वार्ता) ईरान के पेट्रोलियम मंत्री के सलाहकार मोय्यद होसैनी सद्र ने अमेरिकी प्रतिबंधों को तेल उत्पादक देशों के संगठन (ओपेक) के लिए गंभीर खतरा बताया है।
श्री सद्र ने शनिवार को कहा कि ईरान के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों से ओपेक के खत्म होने की आशंका बढ़ जायेगी।
श्री सद्र ने इस्लामिक रिपब्लिक न्यूज एजेंसी से कहा, “अमेरिका का यह मानना है कि वह तेल की कमी को सऊदी अरब के जरिए पूरी कर सकता है लेकिन उसे यह समझ लेना चाहिए कि वह अपने इस कदम से ओपेक की योजना को नुकसान पहुंचा रहा है, चूंकि ईरान दुनिया के कुल तेल उत्पादन का पांच प्रतिशत उत्पादन करता है।”
श्री सद्र ने कहा कि यदि ईरान पर प्रतिबंध जारी रहे तो ओपेक जैसा संगठन समाप्त हो जायेगा।
अमेरिका के परमाणु समझौते से अलग होने के बाद शुक्रवार को पहली बार ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, जर्मनी और रूस के मंत्रियों ने ऑस्ट्रिया की राजधानी वियना में ईरान के मंत्री से मुलाकात की। इस बैठक में अमेरिकी प्रतिबंधों के ऐवज में ईरान को आर्थिक पैकेज देने पर विचार किया गया।
अमेरिका ने विभिन्न देशों को चार नवंबर तक ओपेक (तेल उत्पादक देशों के संगठन) के सदस्य ईरान से तेल आयात समाप्त करने के लिए कहा है। ऐसा नहीं करने वालों को अमेरिका ने आर्थिक प्रतिबंधों का सामना करने के लिए तैयार रहने की चेतावनी दी है।
श्री सद्र ने कहा कि अमेरिकी प्रतिबंध के कारण ईरान के तेल की बिक्री में गिरावट आ सकती है लेकिन विभिन्न कंपनियों द्वारा तेल की खरीद से इस नुकसान की पूर्ति की जा सकती है।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मई में इस ऐतिहासिक अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते से अमेरिका के अलग होने की घोषणा की थी। इस समझौते के तहत ईरान ने उस पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने पर सहमति जताई थी।
गौरतलब है कि वर्ष 2015 में ईरान ने अमेरिका, चीन, रूस, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन के साथ एक अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।
रवि.संजय
वार्ता
More News

चीन में मकान ढहने से तीन लोगों की मौत, 14 घायल

17 Feb 2019 | 4:10 PM

 Sharesee more..

बंगलादेश में आग से नौ लोगों की मौत

17 Feb 2019 | 2:17 PM

 Sharesee more..
कंजर्वेटिव सांसद ब्रेक्जिट पर एकजुट हों : थेरेसा

कंजर्वेटिव सांसद ब्रेक्जिट पर एकजुट हों : थेरेसा

17 Feb 2019 | 12:13 PM

लंदन 17 फरवरी (वार्ता) ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मेे ने कंजर्वेटिव पार्टी के सांसदों को पत्र लिखकर अपनी ‘व्यक्तिगत वरीयताओं’ को एक ओर रखकर ब्रेक्जिट समझौते का समर्थन करने की अपील की।

 Sharesee more..
image