Tuesday, Nov 20 2018 | Time 22:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चित्रकूट में सरकार की नीतियों के खिलाफ मंच साझा करेंगे शत्रुघ्न एवं हार्दिक
  • उत्तराखंड नगर निकाय चुनाव में भाजपा लगातार आगे
  • मिर्जापुर में जुलूस पर पथराव के बाद तनाव, कई घायल
  • मराठा समुदाय के साथ मुसलमानों को भी आरक्षण दिया जाय: पवार
  • रघुवर ने दिव्यांग युवा लेखिका की पुस्तक का किया लोकार्पण
  • रायबरेली से अपहृत युवक मुक्त, चार बदमाश गिरफ्तार
  • अजय राजनीतिक नहीं पुत्र मोह दल बना रहे हैं:अभय चौटाला
  • दुमका में चार कट्टर नक्सली गिरफ्तार,भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद
  • नोटबंदी की दवाई से भ्रष्टाचार का दीमक नहीं बल्कि निर्दोष मरे: कमलनाथ
  • बिलासपुर जिले की मरवाही में सर्वाधिक मतदान
  • सबरीमला मामले में केरल सरकार महिलाओं पर अत्याचार कर रही है: विहिप
  • सेना का मनोबल तोड़ने वाले आप नेता पाकिस्तान से मिले: विज
  • बेटियों को ‘सम्मान’ समझने के लिए कन्या उत्थान योजना : नीतीश
  • राहुल ने मिजोरम के लोगों से की भावनात्मक अपील
दुनिया Share

जापान में वर्षाजनित घटनाओं में मृतकों की संख्या 200 हुई, कई लापता

कुराशिकी 12 जुलाई (रायटर) जापान के पश्चिमी हिस्सों में 36 वर्ष के बाद पहली बार आयी भीषण बाढ़ और वर्षाजनित घटनाओं के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर लगभग 200 हो गयी है तथा तेज गर्मी और पानी की किल्लत के कारण बीमारियों के फैलने का खतरा उत्पन्न हो गया है।
सरकार ने गुरुवार को बताया कि देश में मूसलाधार बारिश और भूस्खलन जैसी घटनाओं के कारण मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 195 हो गयी है और बड़ी संख्या में लाेेग अब भी लापता हैं। बारिश थमने के बाद भी लोगों की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। एक सप्ताह से 200000 से अधिक मकानों में पानी की आपूर्ति नहीं हुई है। देश में 1982 के बाद पहली बार मौसम संबंधी इतनी बड़ी आपदा आयी है।
बारिश की तीव्रता में कमी आई है और बाढ़ का पानी उतरने भी लगा है लेकिन इससे सड़काें पर कीचड़ जमा हो गया है। कुछ जगहों पर कीचड़ सूख गया है लेकिन जब राहत वाहन वहां से गुजरते हैं तो धूल का गुबार उठता है। राहत तथा बचाव दल मलबे में लाेगों की तलाश कर रहे हैं।
तापमान के 30 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंचने और आर्द्रता का स्तर बहुत अधिक होने के कारण अस्थायी शिविरों में शरण लिये लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। शिविरों में क्षमता से अधिक लोगों के रहने और बुनियादी सुविधाओं के अभाव के कारण लोग बेहाल हैं।
पानी की कमी के कारण लोगों को पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ नहीं मिल पा रहा जिससे उन्हें लू लगने का खतरा उत्पन्न हो गया है। लोग अपने हाथ भी ठीक से नहीं धो पा रहे हैं जिससे महामारी फैलने की आशंका बढ़ गयी है। सरकार ने आपदा प्रभावित इलाकों में पानी के टैंकर भेजे हैं लेकिन उन से भी सीमित मात्रा में आपूर्ति की जा रही है।
सेना और पुलिस के जवान तथा अग्निशमन विभाग के 70 हजार से अधिक कर्मचारी मलबे में लापता लोगों की तलाश कर रहे हैं।
बाढ़ के कारण लाखों मकानों में बिजली और पानी की आपूर्ति बाधित हो गयी थी जिनमें से 3500 घरों में बिजली की आपूर्ति बहाल कर दी गयी है लेकिन दो लाख से अधिक मकानों में पेयजल की आपूर्ति अब भी बाधित है।
यामिनी.संजय
वार्ता
More News
अफगानिस्तान हवाई हमले में 14 आतंकवादी ढेर

अफगानिस्तान हवाई हमले में 14 आतंकवादी ढेर

20 Nov 2018 | 4:06 PM

मजार-ए-शरीफ 20 नवंबर (शिन्हुआ) अफगानिस्तान की उत्तरी प्रांत के चारबोलक और बलख जिलों में पिछले 24 घंटों के दौरान हवाई हमलों में कम से कम 14 आतंकवादी मारे गये और 20 अन्य घायल हो गये।

 Sharesee more..

चीन में सड़क हादसे में नौ मरे, नौ घायल

20 Nov 2018 | 4:13 PM

 Sharesee more..

पाकिस्तान को यूएई से मिले एक अरब डालर

20 Nov 2018 | 4:13 PM

 Sharesee more..
image