Wednesday, Nov 21 2018 | Time 19:42 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • बिजली क्षेत्र को लाभ में लाने के लिए उच्च स्तरीय अधिकारित समिति ने दिए सुझाव
  • आलोकनाथ के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज
  • अक्षय कुमार से पूछताछ समय की बर्बादी : शिअद
  • सिख कत्लेआम के मुख्य आरोपियों के खिलाफ भी हो कार्रवाई-छीना
  • मुख्यमंत्री, मंत्री और विधायक लेंगे गुरू नानक दिवस समारोहों में भाग
  • पीडीपी, नेशनल कांफ्रेंस, कांग्रेस ने जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने का फैसला किया: बुखारी
  • अतिपिछड़ों को कोई चुनौती नहीं दे सकता : नीतीश
  • भाजपा ही एससी-एसटी की सच्ची हितैषी : विनोद सोनकर
  • फोटो कैप्शन-पहला सेट
  • गाजियाबाद में जैन मुनि के खिलाफ मामला दर्ज
  • छठा वेतन आयोग कर्मियों के लिये मंहगाई भत्ता बढ़ा
  • हरियाणा भाजपा में लोकसभा प्रभारियों और संयोजकों की नियुक्तियां
  • राजस्थान को मिली 75 रन की बढ़त
  • अपनी विफलताओं से ध्यान बंटाने के लिए कांग्रेस सरकार कर रही उग्रपंथियों का इस्तेमाल : बादल
  • दिल्ली हवाई अड्डे ने छुआ एक लाख टन माल ढुलाई का आँकड़ा
दुनिया Share

बृहस्पति के 12 नये चंद्रमा खोजेे गये

वाशिंगटन, 18 जुलाई (वार्ता) खगोलशास्त्रियों ने सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति के 12 नये चंद्रमाओं की खोज की है और इसके साथ ही इस विशाल ग्रह के कुल चन्द्रमाओं की संख्या 79 हो गयी है जो सौर मंडल के किसी भी ग्रह की तुलना में सबसे अधिक है।
सबसे ज्यादा चांद के मामले में बृहस्पति के बाद शनि दूसरे पायदान पर है, जिसके 61 चांद हैं।
अमेरिका कार्नेगी विज्ञान संस्थान की आेर से जारी समाचार विज्ञप्ति के मुताबिक संस्थान के स्कॉट एस शेपर्ड की अगुआई में प्लूटो से आगे विशाल ग्रह की मौजूदगी की तलाश के दौरान सौर मंडल के बाहरी हिस्सों में खगोलीय पिंडों की खोज कर रहे शोधकर्ताओं ने पिछले साल पहली बार इन चंद्रमाओं को देखा था।
श्री शेपर्ड ने कहा, “आकाश में बृहस्पति हमारी उस खोज क्षेत्र के नजदीक स्थित था जहां हम बहुत दूर स्थित सौर मंडल के पिंड को तलाश रहे थे। इसी बीच हमें बृहस्पति के चारों तरफ नये चंद्रमा नजर आये।”
इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉमिकल यूनियन के माइनर प्लानेट सेंटर के गैरेथ विलियम्स ने नये चंद्रमाओं की कक्षाओं की गणना के लिए शोधकर्ताओं के आकलनों का इस्तेमाल किया। उन्होंने बताया कि बृहस्पति के चारों तरफ कक्षा में एक पिंड के घूमने की पुष्टि के लिए कई बार अवलोकन किया गया, इसलिए पूरी प्रक्रिया में एक साल लग गया।”
नये चंद्रमा में से नौ तो एक ही झुंड में मिले जो बृहस्पति के घूमने की विपरीत दिशा में चल रहे थे. वहीं, दो नये चंद्रमा बृहस्पति के घूमने की दिशा में ही चल रहे थे।
यामिनी.श्रवण
वार्ता
image