Thursday, Nov 22 2018 | Time 15:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एसीआरओएसएस की नौ उप योजनाओं को जारी रखने की मंजूरी
  • इमरान विदेश में राजनीतिक विरोधियों की आलोचना बंद कर देश का प्रतिनिधित्व करें: बिलावल
  • हवाई यात्रियों की संख्या अक्टूबर में 1 18 करोड़ के पार
  • सोना 90 रुपये चमका;चांदी 200 रुपये उछली
  • महिला ने प्रेमी का मांस मजदूरों को खिलाया
  • 17500 नये वार्डों के हर घर में उपलब्ध होगा नल का जल : मंत्री
  • उमर ने राम माधव को दी चुनौती, आरोप सिद्ध करें या माफी मांगे
  • खाद्यान्नों की पैकेजिंग सिर्फ जूट की बोरियों में, मानकों की अवधि भी बढ़ी
  • चीन में कार की चपेट में आकर पांच छात्रों की मौत
  • प्रमुख मुद्राओं की तुलना में रुपये की संदर्भ दर
  • पानीपत में निरंकारी संत समागम के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े प्रबंध
  • गुरु नानक की 550 वीं जयन्ती देश- विदेश में धूम धाम से मनायी जायेगी
  • जम्मू -कश्मीर विधानसभा भंग किया जाना अलोतांत्रिक :अखिलेश
  • विमान में तकनीकी खराबी के कारण एक घंटे तक बंद रहा अहमदाबाद हवाई अड्डे का रनवे, 10 उड़ाने प्रभावित
  • एमसीजी में सीरीज़ बचाने उतरेगा भारत
दुनिया Share

नेपाली युवाओं ने सभी निजी मेडिकल कालेजों के राष्ट्रीयकरण की मांग की

काठमांडू, 23 जुलाई (वार्ता) नेपाल में विभिन्न संगठनों से जुड़े युवाओं ने देश भर के निजी मेडिकल कालेजों के राष्ट्रीयकरण अथवा इन्हें गैर लाभकारी ट्रस्ट के रूप में परिवर्तित करने की सरकार से अपील की है। दैनिक समाचार पत्र ‘ द हिमालयन टाइम्स ’ ने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार यूथ एसोसिएशन आफ नेपाल, यंग कम्युनिस्ट लीग, आल नेपाल नेशनल फ्री स्टूडेंट्स यूनियन अौर आल नेपाल नेशनल इंडिपेंडेंट स्टूडेंट्स यूनियन (रिवोल्यूशनरी) ने रविवार को एक बैठक आयोजित कर इस तरह की मांग रखी।
आल नेपाल नेशनल इंडिपेंडेंट स्टूडेंट्स यूनियन (रिवोल्यूशनरी) के अध्यक्ष सुरेन्द्र बासनेत ने बताया कि इस बैठक में सरकार से आग्रह किया गया कि वह हर प्रांत में कम से कम एक मेडिकल कालेज की स्थापना की प्रकिया शुरू करें।
इन संगठनों ने सरकार से यह मांग भी की है चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में आने वाली दिक्कतों के समाधान के लिए एक उच्च स्तरीय चिकित्सा शिक्षा आयोग की स्थापना की जाए। संगठनों की मांग है कि डॉ गोविंद के सी की जारी भूख हड़ताल का समाधान बातचीत के जरिए निकाला जाए।
जितेन्द्र.श्रवण
वार्ता
image