Tuesday, Apr 23 2019 | Time 17:40 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हथियार लेकर चलने पर पूर्ण पाबंदी के आदेश
  • हरियाणा में बड़ी मात्रा में शराब और नकदी बरामद, 19 काबू
  • गेहूं की खरीद के लिए किए गए उचित प्रबंध::उपायुक्त
  • विशेष दस्ते ने किया एक क्विंटल फल और सब्जियां को नष्ट
  • मोदी सरकार की उद्योग, कृषि विकास की कोई नीति नहीं: पवार
  • हरियाणा पुलिस का छह बदमाशों पर एक-एक लाख रुपये का ईनाम घोषित
  • मोदी सरकार ने राजनीतिक परिभाषा बदलने का काम किया - बृजेंद्र सिंह
  • मध्य फिलीपींस में छह सैनिक मरे
  • वियतनाम में सैन्य विमान दुर्घटनाग्रस्त, सैनिक घायल
  • बैंकिंग, ऑटो में बिकवाली से तीसरे दिन टूटा बाजार
  • कांग्रेस प्रत्याशी औजला ने दाखिल किया नामांकन
  • उम्मीदवारों को चुनावी नैया पार लगाने के लिये डेरों का सहारा
  • पीयरलेस से 1514 करोड़ रुपए की वसूली
  • कांग्रेस की न्याय योजना करेगी गरीबी का खात्मा : कुलदीप बिश्नोई
  • कांग्रेस ने शिवराज सहित भाजपा के चार नेताओं के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत
दुनिया


नवाज ने अस्प्ताल में भर्ती होने से मना किया

इस्लामाबाद 24 जुलाई (वार्ता) भ्रष्टाचार के मामले में रावलपिंडी की अदियाला जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने चिकित्सकों की सलाह के बावजूद अस्पताल में भर्ती होने से मना कर दिया है। वह जेल में रहकर ही इलाज करवाना चाहते हैं।
समाचार पत्र डॉन को अदियाला जेल के एक अधिकारी ने नाम गुप्त रखने की शर्त पर यह जानकारी दी है। श्री शरीफ ने जेल में ही अपना इलाज शुरू किये जाने की बात कही है लेकिन जेल प्रशासन इस संबंध में जारी सरकार के निर्देशों का पालन करेगा।
पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल सांइसेंज के चिकित्सकों की एक टीम ने मंगलवार को श्री शरीफ के स्वास्थ्य की जांच की थी। पूर्व प्रधानमंत्री दिल और मघुमेह की बीमारी से ग्रस्त हैं। टीम के डाॅक्टर कियानी ने डॉन को बताया था कि श्री शरीफ के खून में यूरिया का स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है। फिलहाल वह डिहाइड्रेशन में भी पीड़ित हैं। उन्हाेंने कहा कि जब श्री शरीफ को जेल लाया गया था तब उनकी हालत बेहतर थी। अधिक पसीना निकलने और नींद में कमी के कारण श्री शरीफ की तबीयत बिगड़ी। जेल प्रशासन ने अब उनके बैरक में एसी लगवाया है।
उल्लेखनीय है कि मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में जवाबदेही ब्यूरो ने श्री शरीफ को 10 साल और उनकी बेटी मरियम को सात साल की सजा सुनाई। इसके अलावा मरियम के पति कैप्टन (अवकाश प्राप्त ) सफदर को भी एक साल की सजा हुई है। वर्ष 2016 में पनामा पेपर मामले में नाम आने के बाद श्री शरीफ को जुलाई 2017 में प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। जांच के बाद पिता-पुत्री पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस चलाया गया था।
आशा आजाद
वार्ता
image