Wednesday, Jun 26 2019 | Time 19:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरियाणा खिलाड़ियों को देता है सर्वाधिक पुरस्कार राशि, नहीं किया कभी अपमान: विज
  • गहलोत ने दिखायी मादक पदार्थ निरोध दौड़ को हरी झंडी
  • मधुमक्‍खी पालन विकास समिति ने प्रधानमंत्री को रिपोर्ट सौंपी
  • एईएस से हो रही मौत के मुद्दे पर विधानमंडल में सरकार को घेरेगी राजद
  • झांसी पुलिस ने 13 किलो गांजे के साथ गिरफ्तार किये दो तस्कर
  • उत्तराखण्ड सड़क हादसे में सहारनपुर की महिलाओं एवं दो बच्चों की मृत्यु
  • पलायन रोकने के लिए गांवों का हो विकास: गडकरी
  • स्वाधीनता सेनानी का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार
  • डिश टीवी इंडिया ने लॉन्‍च किया क्रिकेट वर्ल्‍ड कप एंथम
  • डिश टीवी इंडिया ने लॉन्‍च किया क्रिकेट वर्ल्‍ड कप एंथम
  • भाजयुमो ने नशा विरोधी दिवस पर जिला उपायुक्तों को सौंपा मांगपत्र
  • बिहार के पांच शहरों में छत पर बागवानी के लिए सरकार देगी अनुदान
  • आकाश विजयवर्गीय को अदालत ने जेल भेजने के आदेश दिए
  • स्टर्लिंग बॉयोटेक मामले में 9778 करोड़ की विदेशी संपत्ति जब्त
  • हरवीन सराओ ने जीता 10 मीटर एयर पिस्टल का स्वर्ण
दुनिया


श्री मोदी ने कहा कि विश्व को अफ्रीका के पूर्वी तट और पूर्वी हिंद महासागर में प्रतिस्पर्धा की नहीं बल्कि सहयोग की जरूरत है, इसलिए हिंद महासागर की सुरक्षा को लेकर भारत का दृष्टिकोण सहयोगात्मक और समावेशी है तथा यह क्षेत्र के सभी देशों की सुरक्षा और प्रगति में समाहित है।
प्रधानमंत्री ने अफ्रीका के विकास, बेहतर जन सेवाएं प्रदान करने, शिक्षा एवं स्वास्थ्य को बढ़ावा देने, डिजिटल साक्षरता के प्रसार, वित्तीय समावेशन और हाशिये पर मौजूद लोगों को मुख्यधारा में लाने के लिए डिजिटल क्रांति में भारत के अनुभव का लाभ उठाने की पेशकश की। उन्होंने कहा कि भारत अफ्रीका की कृषि के विकास में मदद करेगा। दुनिया की कुल कृषि याेग्य भूमि का 60 फीसदी अफ्रीका में है लेकिन वैश्विक उत्पादन का केवल 10 फीसदी हिस्सा यहां उपजता है।
श्री मोदी ने कहा कि भारत जलवायु परिवर्तन की समस्या के समाधान, जैव विविधता के संरक्षण के लिए काम और ऊर्जा के स्वच्छ एवं प्रभावी स्रोतों को अपनाने में अफ्रीका की मदद करेगा। उन्होंने कहा, “ हम आतंकवाद और चरमपंथ से लड़ाई में सहयोग और आपसी क्षमताओं को मजबूत बनाएंगे।
वैश्विक संस्थाओं के लोकतांत्रीकरण का आह्वान करते हुए श्री मोदी ने कहा कि भारत की इन संगठनों में सुधार की चाह तब तक अधूरी रहेगी जब तक कि अफ्रीका में उसे समान जगह नहीं मिलती। यह भारत की विदेश नीति का एक मुख्य उद्देश्य है।
यामिनी.श्रवण
वार्ता
image