Saturday, Apr 20 2019 | Time 18:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फोटो कैप्शन- पहला सेट
  • फिरोजाबाद में कार की टक्कर से बाइक सवार दम्पति की मृत्यु,दो बच्चे घायल
  • पूर्वा एक्सप्रेस ट्रेन दुर्घटना में जाँच के आदेश
  • दुष्यंत चौटाला ने भरा नामांकन
  • भिलाई में राहुल की सभा से पहले आए आंधी-तूफान से उड़ा पंडाल
  • आश्रय शर्मा मंडी लोकसभा सीट से 25 अप्रैल को करेंगे नामांकन, वीरभद्र रहेगें उपस्थित
  • न्याय से नौकरियाें का सृजन हाेगा: मनमोहन
  • अयोध्या की विश्व प्रशिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा मखौड़ा धाम से शुरू
  • मोदी की वापसी से प्रजातंत्र हो जायेगा खत्म : सिद्दीकी
  • राज ठाकरे कांग्रेस-राकांपा के लिए मुंबई में करेंगे चुनाव प्रचार
  • विरोधी दलों का एक ही मकसद है लूटो और खाओ :डा0 दिनेश शर्मा
  • कुल्लू के 100 वर्ष की आयु पूरी कर चुके मतदाता सम्मानित होंगे: यूनुस
  • मैक्सिको में बंदूकधारी ने की 13 लोगों की हत्या
  • साध्वी प्रज्ञा को कलेक्टर भोपाल का नोटिस
  • समावेशी विकास के साथ देश का सशक्तीकरण कांग्रेस का लक्ष्य: प्रियंका
दुनिया


इसी बीच, ईरान की शक्तिशाली सेना रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के प्रमुख मेजर जनरल मोहम्मद अली जाफरी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की तेहरान के साथ बातचीत की पेशकश को खारिज कर दिया है।
ईरान की फार्स समाचार एजेंसी से मंगलवार को बातचीत के दौरान रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के कमांडर मेजर जनरल मोहम्मद अली जाफरी ने कहा, “श्री ट्रम्प। ईरान उत्तर कोरिया नहीं है जो बैठक के लिए आपके प्रस्ताव को स्वीकार कर ले। आपके बाद बनने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति भी वो दिन नहीं देख पायेंगे।”
अमेरिका के ईरान परमाणु समझौते से अलग होने के बाद दोनों देशों के बीच रिश्ते काफी तल्ख हुए हैं। मई में श्री ट्रम्प ने इस अंतरराष्ट्रीय परमाणु समझौते से अमेरिका के अलग होने की घोषणा की थी।
उल्लेखनीय है कि 22 जुलाई को श्री ट्रम्प ने एक ट्वीट कर ईरानी राष्ट्रपति को चेतावनी देते हुए कहा,“अमेरिका को कभी भी धमकी न दें अथवा आप ऐसे परिणामों का सामना करेंगे, जिससे अब तक इतिहास में कुछ ही पीड़ित हुए हैं। अब हम एक ऐसा देश नहीं हैं जो हिंसा और मृत्यु के आपके विक्षिप्त शब्दों के लिए खड़े रहेंगे। सचेत रहो।”
ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने भी एक ट्वीट कर अमेरिकी राष्ट्रपति को चेतावनी दी थी कि अमेरिका ईरान के खिलाफ शत्रुतापूर्ण नीतियां न अपनाये अन्यथा ‘ईरान के साथ युद्ध नहीं महायुद्ध’ के लिए तैयार रहे।
गौरतलब है कि वर्ष 2015 में ईरान ने अमेरिका, चीन, रूस, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इस समझौते के तहत ईरान ने उस पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों को हटाने के बदले अपने परमाणु कार्यक्रम को सीमित करने पर सहमति जताई थी।
रवि
रायटर
More News
अफगानिस्तान में 10 आतंकवादी ढ़ेर, आठ गिरफ्तार

अफगानिस्तान में 10 आतंकवादी ढ़ेर, आठ गिरफ्तार

20 Apr 2019 | 2:28 PM

काबुल 20 अप्रैल (शिन्हुआ) अफगानिस्तान के पूर्वी प्रांतों में पिछले 24 घंटों के दौरान सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में 10 आतंकवादी मारे गये जबकि आठ आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

see more..
पेरू के पूर्व राष्ट्रपति को तीन साल की जेल

पेरू के पूर्व राष्ट्रपति को तीन साल की जेल

20 Apr 2019 | 2:28 PM

लीमा 20 अप्रैल (शिन्हुआ) पेरू की एक अदालत ने पूर्व राष्ट्रपति पेड्रो पाबलो कुजिंस्की को भ्रष्टाचार के मामले में तीन वर्ष कारावास की सजा सुनाई है।

see more..
image