Wednesday, Nov 21 2018 | Time 23:15 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विधायकों के वेतन में बढ़ोतरी गरीबों के साथ क्रूर मजाक : भाकपा-माले
  • राज्यपाल ने जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग की
  • बंदी ने फांसी लगाकर की आत्महत्या
  • रेल परियोजनाओं के कार्य में लायें तेजी : रघुवर
  • नवीन ने मोदी को पोलावरम परियोजना बंद करने के लिए पत्र लिखा
  • मसानजोर टूरिस्ट कॉम्पलेक्स का शीघ्र होगा लोकार्पण
  • मिर्जापुर में दूसरे दिन भी अराजक तत्वों ने किया कई जगह पथराव
  • अमित शाह ने किया बीकानेर में रोड शो
  • ट्रैक्टर से कुचलकर एक की मौत
  • गुजरात में नदी से मिले जनधन योजना के खातों के 350 से अधिक एटीएम कार्ड
  • अखनूर में पाकिस्तानी सेना ने संघर्ष विराम का उल्लंघन किया
  • अखनूर में पाकिस्तानी सेना ने संघर्ष विराम का उल्लंघन किया
  • एसटीएफ ने मुठभेड़ में किए दो पेशेवर लुटेरे गिरफ्तार
  • कांग्रेस के नेता सत्ता का मक्खन खाने को बेकरार: तोमर
दुनिया Share

असम की नागरिक सूची से नहीं खराब होंगे बंगलादेश के साथ रिश्ते: श्रृंगला

ढाका 02 अगस्त (वार्ता) बंगलादेश में भारत के उच्चायुक्त हर्षवर्धन श्रृंगला ने गुरुवार को यहां कहा कि असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का मुद्दा भारत का निजी मामला है और इससे बंगलादेश के साथ भारत के रिश्तों पर कोई असर नहीं पड़ेगा।
श्री श्रृंगला ने कहा, “ यह चिंता का विषय नहीं है। यह भारत का आंतरिक मामला है कि कौन भारतीय नागरिक है और कौन नहीं? हम इसे पारदर्शी तरीके से कर लेंगे और हम आश्वस्त करते हैं कि इससे हमारे द्विपक्षीय रिश्ते खराब नहीं होंगे।”
वह बंगलादेश के सड़क परिवहन तथा पुल मंत्री ओबैउल कादर से मुलाकात के बाद हाल में प्रकाशित असम में एनआरसी के मुद्दे पर संवाददाताओं के सवालों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा वह भारत में सितंबर में आयोजित होने वाले सम्मेलन के बारे में बातचीत करने के लिए श्री कादर के बुलावे पर यहां आए थे।
उल्लेखनीय है कि असम में नागरिक मसौदे की सूची 30 जुलाई 2018 को प्रकाशित हुई थी। एनआरसी की सूची में शामिल होने के लिए लोगों को यह साबित करना था कि वे 24 मार्च 1971 से पहले असम में आये थे। एनआरसी की सूची में राज्य के 40 लाख लोगों के नाम नहीं हैं।
उन्होंने कहा, “ यह सिर्फ एक मसौदा सूची है। असम के हरेक नागरिक को अपना उचित दस्तावेज जमा करने और राज्य सरकार के समक्ष अपनी नागरिकता का दावा करने के लिए काफी समय दिया गया है।”
उन्होंने कहा,“ भारत के उच्चतम न्यायालय ने इस प्रक्रिया को अनिवार्य बनाया है। भारत सरकार तथा असम सरकार का कर्तव्य है कि वह उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करे। यह राजनीतिक प्रक्रिया नहीं है।”
संतोष.श्रवण
वार्ता
More News
दुनिया भर में भारतीयों का डंका: राष्ट्रपति

दुनिया भर में भारतीयों का डंका: राष्ट्रपति

21 Nov 2018 | 8:09 PM

सिडनी/नयी दिल्ली 21 नवंबर (वार्ता) राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बुधवार को भारतीय समुदाय के सदस्यों के कठोर परिश्रम एवं प्रतिभा की सराहना करते हुए कहा कि भारतीय व्यवसायी दुनियाभर में प्रगति कर रहे हैं।

 Sharesee more..

अफगानिस्तान में 13 तालिबानी आतंकवादी ढेर

21 Nov 2018 | 4:26 PM

 Sharesee more..

सीरिया में अमेरिका नीत गठबंधन के हवाई हमले

21 Nov 2018 | 3:57 PM

 Sharesee more..

गुटेरेस ने की काबुल हमले की कड़ी निंदा

21 Nov 2018 | 3:00 PM

 Sharesee more..
image