Saturday, Feb 16 2019 | Time 20:40 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्डस ने पाकिस्तान पर आतंकवाद को सहारा देने का आरोप लगाया
  • शहीदों की सजी चितायें, आंसुओं के सैलाब में डूबा उत्तर प्रदेश
  • मतदाता पंजीकरण के लिये हरियाणा में 23-24 फरवरी को लगेंगे विशेष शिविर
  • पाकिस्तानी विदेश सचिव ने पुलवामा हमले पर भारत के आरोपों को नकारा
  • जिम्बाब्वे में कंडोम संकट
  • अफगानिस्तान में 51 आतंकवादी ढेर, 50 घायल
  • विधायक देशराज करेंगे बाघा सीमा पर पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन
  • बागान ने आइजॉल को 2-1 से हराया
  • भारत और मॉरीशस मिलकर करेंगे गीता का प्रचार-प्रसार पूरी दुनिया में
  • भारत और मॉरीशस मिलकर करेंगे गीता का प्रचार-प्रसार पूरी दुनिया में
  • बेटी की डोली उठाने का सपना लेकर गये ‘संजय’ नहीं लौटे
  • कार के ऊपर गन्ने से भरा ट्रक पलटा, चार घायल
  • इरफान की राष्ट्रीय पैदल चाल प्रतियोगिता में हैट्रिक
  • रालोसपा महासचिव क्रांति प्रकाश का इस्तीफा
  • उच्च स्तरीय बैठक में राजनाथ ने लिया सुरक्षा स्थिति का जायजा
दुनिया Share

असम की नागरिक सूची से नहीं खराब होंगे बंगलादेश के साथ रिश्ते: श्रृंगला

ढाका 02 अगस्त (वार्ता) बंगलादेश में भारत के उच्चायुक्त हर्षवर्धन श्रृंगला ने गुरुवार को यहां कहा कि असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) का मुद्दा भारत का निजी मामला है और इससे बंगलादेश के साथ भारत के रिश्तों पर कोई असर नहीं पड़ेगा।
श्री श्रृंगला ने कहा, “ यह चिंता का विषय नहीं है। यह भारत का आंतरिक मामला है कि कौन भारतीय नागरिक है और कौन नहीं? हम इसे पारदर्शी तरीके से कर लेंगे और हम आश्वस्त करते हैं कि इससे हमारे द्विपक्षीय रिश्ते खराब नहीं होंगे।”
वह बंगलादेश के सड़क परिवहन तथा पुल मंत्री ओबैउल कादर से मुलाकात के बाद हाल में प्रकाशित असम में एनआरसी के मुद्दे पर संवाददाताओं के सवालों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा वह भारत में सितंबर में आयोजित होने वाले सम्मेलन के बारे में बातचीत करने के लिए श्री कादर के बुलावे पर यहां आए थे।
उल्लेखनीय है कि असम में नागरिक मसौदे की सूची 30 जुलाई 2018 को प्रकाशित हुई थी। एनआरसी की सूची में शामिल होने के लिए लोगों को यह साबित करना था कि वे 24 मार्च 1971 से पहले असम में आये थे। एनआरसी की सूची में राज्य के 40 लाख लोगों के नाम नहीं हैं।
उन्होंने कहा, “ यह सिर्फ एक मसौदा सूची है। असम के हरेक नागरिक को अपना उचित दस्तावेज जमा करने और राज्य सरकार के समक्ष अपनी नागरिकता का दावा करने के लिए काफी समय दिया गया है।”
उन्होंने कहा,“ भारत के उच्चतम न्यायालय ने इस प्रक्रिया को अनिवार्य बनाया है। भारत सरकार तथा असम सरकार का कर्तव्य है कि वह उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करे। यह राजनीतिक प्रक्रिया नहीं है।”
संतोष.श्रवण
वार्ता
More News

जिम्बाब्वे में कंडोम संकट

16 Feb 2019 | 8:22 PM

 Sharesee more..

अफगानिस्तान में 51 आतंकवादी ढेर, 50 घायल

16 Feb 2019 | 8:22 PM

 Sharesee more..
हसीना ने की पुलवामा हमले की निंदा

हसीना ने की पुलवामा हमले की निंदा

16 Feb 2019 | 8:14 PM

ढाका ,16 फरवरी (वार्ता) बंगलादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने पुलवामा हमले की तीखी निंदा करते हुए हताहत हुए जवानों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है।

 Sharesee more..
image