Thursday, Nov 15 2018 | Time 18:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लिवर की बीमारियों से हर साल दो लाख लोगों की मौत
  • राफेल की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट एसआईटी गठित करे: येचुरी
  • पंजाब पुलिस ने जम्मू जाकर की टैक्सी ऑपरेटर की पूछताछ
  • भूपेश ने एक निजी टीवी चैनल के स्टिंग ऑपरेशन पर पूछी भाजपा नेताओं की राय
  • कैट की सरकार से ई कॉमर्स पोर्टल शुरू करने की मांग
  • विद्यार्थियों के लर्नर/स्थायी ड्राईविंग लाईसेंस बनेंगे विश्वविद्यालय/कॉलेज में
  • आस्ट्रेलिया ने भड़काया तो जवाब मिलेगा: विराट
  • जीएसटी के बाद दवा उद्योग में छह प्रतिशत की वृद्धि
  • जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को और अधिक सशक्त करने की जरूरत:शाही
  • दो माह के उच्चतम स्तर पर पहुंचा रुपया
  • लिवर की बीमारियों से हर साल दो लाख लोगों की मौत
  • सोने के आभूषण पर हाॅलमार्क को अनिवार्य बनायेगी सरकार :पासवान
  • सोने के आभूषण पर हाॅलमार्क को अनिवार्य बनायेगी सरकार :पासवान
  • साबरमती जेल में बंद 2600 करोड़ के बैंक रिण घोटालेबाज बंधुओं के पास से मिला मोबाइल
  • भारत हमारी मातृभूमि है,हम सबको इसका सम्मान करना चाहिए:नाईक
दुनिया Share

एमिस ने कहा कि पेमेनांग की ध्वस्त हुई दो मंजिली मस्जिद की ईंट और स्टील के छड़ों के मलबे से हल्की आवाज आती हुई सुनी। यहां चार लोगों के फंसे होने की आशंका है।
बसरनास के एक अधिकारी टेडी आदित्य ने रायटर से कहा, “ हम वहां तक पहुंचने के प्रयास में हैं। हमारे पास एक मशीन है जो कंक्रीट में छेद कर सके या उसे काट सके। हम भारी औजार की प्रतीक्षा कर रहे हैं।”
बीएनपीपी ने कहा कि भूकंप के कारण 13,000 से ज्यादा मकानों को नुकसान पहुंचा है और इससे 20,000 से ज्यादा लोगों को अपना ठिकाना बदलना पड़ा है। इनमें से अधिकतर लोग खुली जगहों पर रह रहे हैं और उनको भोजन, दवाइयां और अन्य सहायता की जरूरत है।
अपने मकान के मलबे से दस्तावेज ढूंढने के प्रयास में जुटे 45 वर्षीय रिदुआन ने कहा कि उन्हें अभी तक किसी भी प्रकार की सहायता नहीं मिली है और उन्होंने खुद से ही भोजन खरीदा है। उन्होंने कहा, “ हमें कुछ नहीं मिलता है।” उनके मकान का कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है।
सहायता मुहैया कराने वाली एजेंसी ओक्सफैम ने कहा कि वह 5,000 लोगों को पेयजल और तिरपाल मुहैया करा रही है, लेकिन इससे कहीं ज्यादा सहायता मुहैया कराए जाने की जरूरत है।
उसने एक बयान में कहा, “हजारों लोग खुले आसमान के नीचे हैं। उन्हें पेयजल, भोजन, दवाइयां और कपड़ों की जरूरत है। बहुत ज्यादा रुखा मौसम होने के कारण पेयजल की कमी है। यह एक बड़ी मुसीबत है।”
अमित.श्रवण
रायटर
More News
अफगान में हवाई हमले में 20 आतंकवादी मारे गए

अफगान में हवाई हमले में 20 आतंकवादी मारे गए

15 Nov 2018 | 3:06 PM

गजनी (अफगानिस्तान), 15 नवंबर (शिन्हुआ) अफगानिस्तान के गजनी प्रांत में पिछले 24 घंटों के दौरान तालिबान आतंकवादियों के गुप्त ठिकानों पर हुए हवाई हमले में कम से कम 20 आतंकवादी मारे गए तथा चार घायल हुए।

 Sharesee more..
image