Wednesday, Sep 26 2018 | Time 20:16 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चार दिन के अभियान में गिर में दिखे 460 शेर, मृत शावकों में सीडी विषाणु नहीं
  • ओलम्पिक मेजबानी के लिए तैयार हो रही है अमरावती स्पोटर्स सिटी
  • राजीव रौतला ने जी बी पंत विश्वविद्यालय के कुलपति का कार्यभार संभाला
  • त्रिपुुुरा के धलाई जिले में मलेरिया का प्रकोप बढ़ा
  • आधार पर शीर्ष न्यायालय का फैसला आम लोगाें के लिए बड़ी राहत :ममता
  • आभूषण, रिफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन, फुटवेयर होंगे महँगे
  • ---
  • धार्मिक मेले के दौरान जहरीला दाना खाने से 30 मोर मरे
  • खेल उपकरणों की खरीद के लिये 50 करोड़ रूपये मंजूर
  • आतंकी फंडिंग मामला: दिल्ली से तीन गिरफ्तार, डेढ करोड रूपये बरामद-एनआईए
  • दूरबीन लेकर ढूंढने जैसी कांग्रेस की स्थिति-शाह
  • हरियाणा में खेल उपकरणों की खरीद के लिये 50 करोड़ मंजूर
  • झारखंड सरकार का पर्यावरण अनुकूल विकास पर जोर : रघुवर
  • हाईकोर्ट ने स्टेशनों पर भीख मांगने वालों के खिलाफ सख्त कदम उठाने को कहा
दुनिया Share

एनएबी ने शरीफ से संबंधित मामलों को दूसरी अदालत में भेजने का किया विरोध

इस्लामाबाद 07 अगस्त (वार्ता) पाकिस्तान की शीर्ष भ्रष्टाचार विरोधी संगठन राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने मांग की है कि पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के खिलाफ दो लंबित मामलों की सुनवाई उसी अदालत में होनी चाहिए जिसमें पिछले महीने एवेनफील्ड संपत्ति मामले में उनके, उनकी बेटी मरियम नवाज और दामाद सेवानिवृत्त कैप्टन मुहम्मद सफदर को दोषी ठहराया था।
एनएबी के अतिरिक्त डिप्टी अभियोजक जनरल सरदार मुजफ्फर अब्बासी ने दोनों मामलों को स्थानांतरित करने के लिए शरीफ की याचिका पर सुनवाई करने वाले इस्लामाबाद हाईकोर्ट की खंड पीठ के समक्ष कहा कि न्यायाधीश मोहम्मद बशीर इस्लामाबाद की अधीनस्थ न्यायपालिका में सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश हैं। चूंकि न्यायाधीश बशीर ने 10 महीनों के दौरान शरीफ के खिलाफ तीन मामलों की सुनवाई की है। न्याय के हित में मामलों को किसी अन्य अदालत में स्थानांतरित नहीं करना चाहिए।
एनएबी अभियोजक ने तर्क दिया कि लंबित मामलों में समानता के बावजूद सुनवाई करने वाले न्यायाधीश को बदलना नहीं चाहिए।
एनएबी ने पिछले वर्ष सितंबर में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर इस्लामाबाद की जवाबदेही अदालत में इन मामलों को दायर किया था।
न्यायाधीश बशीर को इन मामलों को सौंपा गया था जो वर्ष 2012 से जवाबदेही अदालत के न्यायाधीश के रूप में काम कर रहे हैं। उन्हें तीन वर्षों के लिए न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किया गया था लेकिन वर्ष 2015 में उनका कार्यकाल बढ़ा दिया गया था।
मार्च 2018 में दूसरा कार्यकाल पूरा होने के बाद मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर उनका कार्यकाल तीन वर्ष के लिए फिर से बढ़ा दिया गया था।
न्यायाधीश बशीर ने 6 जुलाई को एवेनफील्ड मामले में नवाज शरीफ, उनकी बेटी मरियम और दामाद सफदर को दोषी ठहराया था और उन्हें क्रमश: 10, सात और एक वर्ष की सजा सुनाई गयी थी। इसके अलावा उनपर भारी जुर्माना लगाया गया था और उन्हें 10 साल के लिए सार्वजनिक पद के लिए अयोग्य घोषित किया गया था।
श्री शरीफ और मरियम और दामाद सफदर के वकीलों ने न्यायालय के फैसले को चुनौती दी और मामले को अन्य न्यायाधीश की अदालत में स्थानांतरित करने की अपील की।
प्रियंका, उप्रेती
वार्ता
More News
माडल टाउन मामले में नवाज शरीफ को तलब करने की याचिका खारिज

माडल टाउन मामले में नवाज शरीफ को तलब करने की याचिका खारिज

26 Sep 2018 | 6:30 PM

लाहौर 26 सितंबर (वार्ता) लाहौर हाई कोर्ट ने माडल टाउन मामले में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ को तलब करने संबंधी याचिका बुधवार को खारिज कर दी।

 Sharesee more..
मैक्रों ने राफेल सौदे पर की मोदी की प्रशंसा,सौदे को  बताया  महत्वपूर्ण

मैक्रों ने राफेल सौदे पर की मोदी की प्रशंसा,सौदे को बताया महत्वपूर्ण

26 Sep 2018 | 5:48 PM

न्यूयॉर्क 26 सितम्बर (वार्ता) फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने राफेल सौदे को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रशंसा करते हुए बुधवार को कहा कि यह सौदा दो देशों की सरकारों के बीच हुया था और यह सामरिक दृष्टि से बेहद महत्वपूर्ण है।

 Sharesee more..

बंगलादेश में विमान का आपात लैंडिंग

26 Sep 2018 | 5:41 PM

 Sharesee more..
image