Wednesday, Sep 26 2018 | Time 18:11 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गेहूं नरम;चना,चावल मजबूत;दालों,खादय तेलों में टिकाव
  • रियो, गडकरी ने की समीक्षा बैठक
  • बंगलादेश में विमान का आपात लैंडिंग
  • नियोक्ताओं के लिये ऑनलाइन आवेदन करना अनिवार्य
  • मैक्रों ने राफेल सौदे पर की मोदी की प्रशंसा,सौदे को बताया महत्वपूर्ण
  • मुम्बई हाफ मैराथन में इस साल महिला पेसर्स का बोलबाला
  • बांदीपुरा में आतंकवादी मुठभेड़ के पांच दिन बाद जनजीवन सामान्य
  • छत्तीसगढ़ में 295 किमी नयी रेललाइन बिछाने काे मंजूरी
  • किसानों को 20 हजार रुपए प्रति एकड़ मुआवजा दिया जाए: खैहरा
  • लघु फिल्म कहानीबाज जारी
  • रुपया सात पैसे मजबूत
  • गुलमर्ग आैर पाटलिपुत्र अशाेक होटल राज्य सरकारों को
  • योगेश्वर बने हरियाणा स्टीलर्स के ब्रांड एम्बेसेडर
  • नासिक में सामूहिक झगडे में एक व्यक्ति की हत्या
  • सरहिंद और राजस्थान फीडर नहरों के मरम्मत के लिए 825 करोड़ मंजूर
दुनिया Share

रोहिंग्या शरणार्थियों के साथ दिखाएं एकजुटता: सं रा

संयुक्त राष्ट्र 08 अगस्त (वार्ता) शरणार्थियों से संबंधित संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त कार्यालय (यूएनएचसीआर) के प्रमुख फिलीप्पो ग्रांडी ने एशिया-प्रशांत क्षेत्र के राजनेताओं और व्यापारियों से रोहिंग्या शरणार्थियों की मदद करने का आग्रह किया है।
श्री ग्रांडी ने बुधवार को इंडोनेशिया के बाली में आयोजित सातवें मंत्री स्तरीय सम्मेलन के दौरान 26 देशों के नेताओं को संबोधित करते हुए कहा,“ मैं आपसे इस बात पर विचार करने का आग्रह करता हूं कि शरणार्थियों की समस्या का समाधान नहीं मिलने तक आपकी सरकारें बंगलादेश के साथ एकजुटता दिखाने की दिशा में क्या समर्थन दे सकती हैं।”
उल्लेखनीय है कि म्यांमार के राखिन प्रांत में गत वर्ष हुयी हिंसा के बाद से सात लाख से अधिक रोहिंग्या शरणार्थियों ने अलग-अलग देशों में शरण ली हुयी है।
श्री ग्रांडी ने कहा, “हमें राखिन प्रांत के लोगों की समस्याओं का समाधान करने के लिए एकजुट होकर काम करना चाहिए।”
बाली सम्मेलन एक ऐसा मंच है जिसमें 48 देशों की सरकारें और चार अंतरराष्ट्रीय संगठन शामिल हैं। अंतरराष्ट्रीय संगठनों में यूएनएचसीआर, प्रवास के लिए अंतरराष्ट्रीय संगठन (आईओएम) तथा मादक पदार्थ एवं अपराध से संबंधित संयुक्त राष्ट्र संगठन (यूएनओडीसी) भी शामिल हैं। बाली प्रक्रिया की स्थापना तस्करी, मानव तस्करी और अन्य आपराधिक गतिविधियों जैसे मुद्दों पर चर्चा करने के लिए की गयी थी।
गौरतलब है कि अगस्त 2017 में म्यांमार के राखिन प्रांत में अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ व्यापक पैमाने पर हिंसा के बाद दो लाख से अधिक रोहिंग्या शरणार्थी बंगलादेश के अस्थायी शिविरों में रह रहे हैं।
रवि.श्रवण
वार्ता
image