Monday, Jun 24 2019 | Time 18:47 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दिमागी बुखार के मामले में बिहार और उत्तर प्रदेश को उच्चतम न्यायलय ने दिया नोटिस
  • अभिभाषण में महापुरूषों के राष्ट्र निर्माण में योगदान की अनदेखी अस्वीकार्य
  • मलिक ने राजौरी सड़क हादसे पर जताया शोक
  • अफगानिस्तान में 78 तालिबानी आतंकवादी मारे गये
  • 21 जुलाई को होगा जूनागढ़ मनपा का चुनाव
  • मेहुली 10 मी राइफल और चिंकी 25 मी पिस्टल में जीतीं
  • चिकित्सा सेवा कर्मियों की सुरक्षा के लिए पंजाब का कानून चंडीगढ़ यूटी में लागू होगा
  • जल्द ही ई-चिप वाले पासपोर्ट जारी होंगे
  • मंगोलिया में पांच लोगों की नदी में डूबने से मौत
  • राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बने रहना चाहिए: खूंटिया
  • स्लो ओवर रेट के लिए न्यूजीलैंड टीम पर जुर्माना
  • स्लो ओवर रेट के लिए न्यूजीलैंड टीम पर जुर्माना
  • शाहजहांपुर में युवक की हत्या,गुस्साये परिजनों ने हत्यारोपी के भाई को मार दिया
  • अफगानिस्तान में आठ तालिबानी आतंकवादी ढेर
  • सोने से बनायी गयी सूक्ष्म विश्वकप ट्रॉफी
दुनिया


चंदननगर में पश्चिम बंगाल सरकार लाइटिंग हब की स्थापना करेगी

कोलकाता, 10 अगस्त(वार्ता) पश्चिम बंगाल सरकार ने हुगली जिले के चंदननगर में प्रस्तावित लाइटिंग हब की स्थापना के लिए 11़ 5 करोड़ रूपए की राशि के प्रावधान की घोषणा की है।
यह क्षेत्र बिजली बल्वों और ट्यूब लाइट से मनोहारी प्रकाश व्यवस्था तथा सजावट के लिए विख्यात है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पिछले वर्ष प्रशासनिक समीक्षा बैठक में इस आशय की घोषणा की थी।
चंदननगर में जगाधात्री पूजा और कोलकाता में दुर्गा पूजा के दौरान एेसे कारीगरों की काफी मांग रहती है और ये काफी पहले से ही अपने हुनर का प्रदर्शन करने लगते हैं। इनकी मांग राज्य के बाहर भी हो रही है अौर अब राज्य सरकार ने इस उद्याेग को बढ़ावा देने के लिए एक विशेष प्रकोष्ठ की स्थापना की है।
इस क्षेत्र में राज्य सरकार की विशेष भूमिका रहेगी और बिजली टेक्नीशियनाें को इस बारे में प्रशिक्षण के अलावा उन्हें अपने उत्पादों के प्रचार प्रसार में भी मदद दी जाएगी। उन्हें मिलने वाले बडे ठेकों की जानकारी राज्य सरकार को होगी और इस बात का पूरा ध्यान रखा जाएगा कि उन्हें पूरा पारिश्रमिक मिल सके। इससे न केवल उनके लिए राेजगार के नए अवसर खुलेंगे बल्कि उन्हें देश के विभिन्न हिस्सों में भी अपनी पहचान बनाने में सफलता मिलेगी।
राज्य सरकार इससे पहले मिस्ठी हब, मस्लिन हब की स्थापना में अहम भूमिका अदा कर चुकी है। इनसे पांरपरिक कारीगरों और लघु उद्याेगों को काफी बढ़ावा मिलता है और उनकी आमदनी का एक निश्चित जरिया भी बनता है।
जितेन्द्र
वार्ता
image