Tuesday, Sep 25 2018 | Time 17:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चुनिंदा खाद्य तेल,गुड़,चने दाल में गिरावट;चने,चीनी और गेहूं में टिकाव
  • अगस्त तक व्यय बजट अनुमान का 43 85 फीसदी रहा
  • विराट और मीराबाई बने खेल रत्न, 20 खिलाड़ी अर्जुन
  • देवोत्थान समिति ने गंगा में विसर्जन के लिए करीब साढ़े सात हजार लावारिस शवों की अस्थियां जुटाई
  • अवीवा लाइफ ने शुरू किया इंश्योरेंस मेड ईजी
  • महिला इंडियन ओपन में 3 50 करोड़ से ज्यादा की पुरस्कार राशि
  • मायावती ही हो सकती है विपक्षी दलों की प्रधानमंत्री पद की सक्षम उम्मीदवार - जोगी
  • ई-कॉमर्स के लिए नीति निर्माण डीआईपीपी के हवाले
  • तीन तलाक अध्यादेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका
  • देवोत्थान समिति ने गंगा में विसर्जन के लिए करीब साढ़े सात हजार लावारिस शवों की अस्थियां जुटाई
  • मानवता कर रही न्याय की मांग: अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय
  • दूरसंचार में तीन साल में पांच गुना बढ़ा विदेशी निवेश : सिन्हा
  • शहरों में प्रबंधन के लिए पेशेवर दृष्टिकोण जरूरी: पुरी
दुनिया Share

ईरान पर दबाव के लिए अमेरिका का एक्शन ग्रुप

वाशिंगटन, 17 अगस्त(रायटर) अमेरिका ने ईरान पर दबाव बनाने और उसके व्यवहार में बदलाव लाने के लिए ईरानी एक्शन ग्रुप (आईएजी) के गठन की घोषणा की है। यह समूह ईरान के खिलाफ अमेरिकी रणनीति को क्रियान्वित करेगा।
अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने गुरुवार को कहा कि यह समूह ईरान से संबधित सभी तरह की गतिविधियों की समीक्षा, निर्देशन और समन्वयन करेगा। उन्होंने कहा कि यह समूह इस संदर्भ में पूरी रिपोर्ट सीधे उन्हें सौंपेगा।
अमेरिका विदेश मंत्रालय में नीति नियोजन के निदेशक ब्रायन हुक इस समूह की अगुवाई करेंगे जिसका औपचारिक नाम ‘ईरान के लिए विशेष प्रतिनिधि’ होगा।
श्री पोम्पियो ने कहा कि ईरान पिछले चालीस वर्षों से अमेरिका और उसके सहयोगी देशों के विरुद्ध हिंसात्मक और अस्थिर करने संबंधी गतिविधियाें में लगा हुआ है। लेकिन हम भी ईरान के इस व्यवहार में बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।
उन्होंने कहा कि आईएजी यह सुनिश्चित करेगा कि विदेश विभाग अंतर एजेंसी साझेदारों के साथ घनिष्ठ रूप से मिलकर काम करेगा।
गाैरतलब है कि अमेरिका ने मई में ईरान के परमाणु समझाैते से अपना हाथ खींचते हुए कहा था कि वह ईरान पर फिर से प्रतिबंध लगाएगा जिन्हें इस समझौते के तहत हटा लिया गया था।
श्री पोम्पियो ने कहा कि अमेरिका ने 21 मई को ईरान के बारे में नई रणनीति बनाई थी, जिसमें उसने 12 बिन्दुओं का खाका तैयार किया था। उन्होंने कहा कि जरूरी है कि ईरान उन बिन्दुओं का अनुसरण कर अपने व्यवहार में बदलाव लाए।
ट्रंप प्रशासन ने सात अगस्त को ईरान पर गैर उर्जा क्षेत्रों में फिर से प्रतिबंध लगा दिए थे और बाकी प्रतिबंध नवंबर में लगाने की बात कही थी जिसमें उर्जा, जहाजरानी एवं बंदरगाह शामिल है।
अमृता जितेन्द्र
वार्ता
More News
इमरान भारत के साथ बातचीत कैसे कर सकते हैं: विपक्षी दल

इमरान भारत के साथ बातचीत कैसे कर सकते हैं: विपक्षी दल

25 Sep 2018 | 3:21 PM

इस्लामाबााद 25 सितम्बर (वार्ता) पाकिस्तान में विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री इमरान खान की भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से द्विपक्षीय वार्ता करने के प्रस्ताव को लेकर कड़ी आलोचना की है।

 Sharesee more..
image