Wednesday, Sep 26 2018 | Time 08:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • फिनलैंड में परमाणु ऊर्जा संयंत्र बनाने के लिए शीघ्र मिलेगा लाइसेंस
  • चुनाव कराना राष्ट्रीय हित में नहीं: थेरेसा मे
  • तेलंगाना में रिश्वत लेने के मामले अधिकारी समेत दो गिरफ्तार
  • टाई रहा भारत और अफगानिस्तान का रोमांचक मुकाबला
  • जम्मू निकाय चुनाव के लिए 815 उम्मीदवारों ने भरे पर्चे
  • पश्चिमी पाकिस्तान का शरणार्थी एक प्रतिनिधि मंडल जितेंद्र सिंह से मिला
दुनिया Share

डाॅ. गंभीर ने कहा कि अमेरिका में सभी शैक्षिक विषयों के मानक पाठ्यक्रम तैयार किये गये हैं। विदेशी भाषा शिक्षण के अंतर्गत पांच सी आते हैं। ये हैं कम्यूनिकेशन, कल्चर, कनेक्शन, कम्पेरिजन और कम्यूनिटीज। इन सबको समेकित किया जाता है। उन्होंने कहा कि अमेरिका में लगभग सौ विश्वविद्यालयों में हिन्दी पढ़ाई जा रही है। वहां हिन्दी सीखने की अलग-अलग रूचियां और वर्ग हैं। वहां भाषा ज्ञान मापने का एक परीक्षण भी किया जाता है।
गयाना, त्रिनिदाद, सूरीनाम, मॉरिशस, फ़िजी और अमरीका के प्रवासी भारतीयों की भाषाओं से संबंधित भाषा-विकास और भाषा-ह्रास के विभिन्न पक्षों पर महत्वपूर्ण काम करने वाले डाॅ. गंभीर ने कहा कि विद्यार्थियों को संस्कृति की छोटी-छोटी बातों को बताना पड़ता है। बोलचाल की भाषा और औपचारिक भाषा अलग-अलग होती है। उन्होंने कहा कि वैश्विक परिप्रेक्ष्य में पारस्परिक विनिमय बढ़ा है।
हिन्दी के जानकार आनंद वर्धन ने कहा कि विदेशों में भाषा अध्यापन के रूप सैद्धांतिक और व्यवहारिक हैं। विद्यार्थियों को पहले संस्कृति का व्यवहारिक ज्ञान देना चाहिये और उसके बाद सैद्धांतिक। यह भी आवश्यक है कि विद्यार्थियों को फिल्मों, कविताओं, गीतों और नाटकों के माध्यम से भाषा का ज्ञान कराना चाहये।
जापान में अध्यापक रहे प्रोफेसर हरजेंद्र चंद्र ने कहा कि विदेशियों को भारतीय संस्कृति के बारे में बताना बहुत सरल नहीं है। उन्हें अर्थ समझाना पड़ता है, इस दृष्टि से नाटकों की सहायता ली जा सकती है।
शिवा. उपाध्याय
वार्ता
More News
गरीबी से लडने के भारत के प्रयासाें की ट्रंप ने की सराहना

गरीबी से लडने के भारत के प्रयासाें की ट्रंप ने की सराहना

25 Sep 2018 | 11:19 PM

न्यूयार्क, 25 सितंबर(वार्ता) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंंप ने गरीबी से लडने के भारत के प्रयासाें की जमकर सराहना की है।

 Sharesee more..
किसी को आतंकवाद का समर्थन करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए: सुषमा

किसी को आतंकवाद का समर्थन करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए: सुषमा

25 Sep 2018 | 8:35 PM

न्यूयाॅर्क 25 सितंबर (वार्ता) भारत ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा है कि जब दुनिया कई तरह के संघर्षों का सामना कर रही है तब किसी भी देश को आतंकवाद का समर्थन करने और उसे संरक्षण देने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

 Sharesee more..
image