Tuesday, Jul 23 2019 | Time 10:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • जासूस का किरदार निभायेंगी कंगना रनौत
  • जासूस का किरदार निभायेंगी कंगना रनौत
  • 100 करोड़ क्लब में शामिल हुई सुपर 30
  • 100 करोड़ क्लब में शामिल हुई सुपर 30
  • हरियाणा के कांवड़ यात्री की गंगोत्री धाम में मृत्यु
  • रूसी विमान के अपनी सीमा में घुसने पर द कोरिया ने की गोलीबारी
  • सोनिया ने सूचना के अधिकार संशोधन विधेयक पर की केंद्र की आलोचना
  • कश्मीर पर ट्रंप के विवादित बयान पर अमेरिका ने सुधारी गलती
  • ट्रम्प, इमरान के बीच अफगानिस्तान मुद्दे पर हुई चर्चा
  • भाजपा नेता समेत परिवार के तीन सदस्य की गोली मारकर हत्या ,एक घायल
  • कश्मीर पर ट्रंप के विवादित बयान पर अमेरिका ने सुधारी गलती
  • मैक्रों को रूहानी का पत्र सौंपेंगे अब्बास अरागची
  • उ कोरिया से परमाणु निरस्त्रीकरण पर फिर होगी बातचीत : अमेरिका
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 24 जुलाई)
दुनिया


श्रीमती स्वराज ने कहा, “हिंदी भाषा बेहद उदार है। हिन्दीभाषी लोग भाषा की स्तुतियों पर ध्यान नहीं देते और गलत बोलने वालों को भी इसे बोलने की इजाजत देते हैं जबकि अन्य भाषा के साथ ऐसा नहीं है। यदि आप गलत बोलते हैं तो लोग आपको साफ कह देंगे कि आप उस भाषा में नहीं बोल सकते हैं तो न बोलें।” उन्होंने कहा कि भाषा की शुद्धता जरूरी है लेकिन शुद्धता का अर्थ क्लिष्ठ भाषा नहीं होनी चाहिए। हिन्दी भाषियों को चाहिए कि वे क्लिष्ठ भाषा की हठधर्मिता को छोड़, सरल और सहज भाषा को अपनायें, इससे हिंदी का विस्तार होगा।
विदेश मंत्री ने कहा कि डॉ. नरेंद्र कोहली की बात उन्हें अच्छी लगी कि कोई भी भाषा या शब्द तब तक कठिन लगता है जब तक हम उससे अपरिचित होते हैं। जैसे-जैसे हम शब्द या भाषा से परिचित होते हैं तो वह सरल लगने लगता है।
पत्रकारों ने जब श्रीमती स्वराज को बताया कि मॉरीशस में युवा पीढ़ी हिंदी से दूर हो रही है। इस पर उन्होंने कहा कि मॉरीशस भी भारत का छोटा भाई है और यहां के लोगों को भी लगता है कि हिंदी पढ़ने से रोजगार नहीं मिलता। लेकिन, धीरे-धीरे यह भ्रम टूट रहा है। हिंदी बोलने और पढ़ने वाले लोगों की संख्या बड़ी होने के कारण अंग्रेजी की तुलना में सिर्फ मीडिया के क्षेत्र में ही क्षेत्रीय भाषाओं के अखबार, पत्र-पत्रिकाओं, टीवी चैनलों में रोजगार ज्यादा मिल रहे हैं जबकि अंग्रेजी मीडिया में रोजगार के अवसर कम हैं।
श्रीमती स्वराज ने कहा कि चीन, जापान, जर्मनी और रूस ने अंग्रेजी के बजाय अपनी भाषा को अधिक महत्व दिया। वहां के लोग अंग्रेजी नहीं जानते लेकिन इसके कारण उन्हें ऊंचाइयां छूने से कोई नहीं रोक सका। यह साबित करता है कि अपनी भाषा के बल पर भी मुकाम हासिल की जा सकती है।
शिवा. उपाध्याय
वार्ता
More News
रूसी विमान के अपनी सीमा में घुसने पर द.कोरिया ने की गोलीबारी

रूसी विमान के अपनी सीमा में घुसने पर द.कोरिया ने की गोलीबारी

23 Jul 2019 | 10:51 AM

संजय: सोल 23 जुलाई (शिन्हुआ) दक्षिण कोरिया के लड़ाकू विमानों ने मंगलवार को अपनी वायु सीमा में रूसी सैन्य विमान के घुसने के बाद उसे चेतावनी देने के लिए उस पर गोलीबारी की।

see more..
मैक्रों को रूहानी का पत्र सौंपेंगे अब्बास अरागची

मैक्रों को रूहानी का पत्र सौंपेंगे अब्बास अरागची

23 Jul 2019 | 10:25 AM

मास्को, 23 जुलाई (स्पूतनिक) ईरान के उपविदेश मंत्री अब्बास अरागची राष्ट्रपति हसन रूहानी का एक पत्र फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को सौंपने के लिए पेरिस गये हैं।

see more..
कश्मीर पर ट्रंप के विवादित बयान पर अमेरिका ने सुधारी गलती

कश्मीर पर ट्रंप के विवादित बयान पर अमेरिका ने सुधारी गलती

23 Jul 2019 | 10:18 AM

वाशिंगटन 23 जुलाई (वार्ता) अमेरिकी प्रशासन ने कश्मीर मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच ‘मध्यस्था’ से संबंधित अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के विवादास्पद बयान के कुछ ही घंटों बाद मंगलवार को श्री ट्रंप की गलती सुधारते हुए कहा है कि ‘कश्मीर दोनों देशों का द्विपक्षीय मुद्दा है।’

see more..
ट्रम्प, इमरान के बीच अफगानिस्तान मुद्दे पर हुई चर्चा

ट्रम्प, इमरान के बीच अफगानिस्तान मुद्दे पर हुई चर्चा

23 Jul 2019 | 10:10 AM

संजय: वाशिंगटन 23 जुलाई (शिन्हुआ) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सोमवार को व्हाइट हाउस में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ मुलाकात के दौरान द्विपक्षीय संबंधों और अफगानिस्तान के मसले पर बातचीत की।

see more..
उ. कोरिया से परमाणु निरस्त्रीकरण पर फिर होगी बातचीत : अमेरिका

उ. कोरिया से परमाणु निरस्त्रीकरण पर फिर होगी बातचीत : अमेरिका

23 Jul 2019 | 9:50 AM

संजय: वाशिंगटन 23 जुलाई (स्पूतनिक) अमेरिका को एक-दो सप्ताह के भीतर उत्तर कोरिया के साथ परमाणु निरस्त्रीकरण के मुद्दे पर कार्य स्तर की बातचीत होने की उम्मीद है।

see more..
image