Thursday, Jan 17 2019 | Time 14:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लोकप्रिय चैनल ही अस्तित्व बचा पायेंगे : ट्राई प्रमुख
  • लोकप्रिय चैनल ही अस्तित्व बचा पायेंगे : ट्राई प्रमुख
  • केईआई को रिटेल कारोबार में 40 प्रतिशत की वृद्धि की उम्मीद
  • दिल्ली में सुबह ठंड और कोहरा छाया रहा
  • आतंकवादी बनने कश्मीर गया युवक परिवार में लौटा
  • तीन दिवसीय गुजरात दौरे पर पहुंचे मोदी, कई कार्यक्रमाें में करेंगे शिरकत, वाइब्रेंट गुजरात का करेंगे उद्घाटन
  • ममता ने ज्योति बसु को किया याद
  • उत्तर प्रदेश में निजी डॉक्टर के अावास और अस्पतालों पर आयकर के छापे
  • महाराष्ट्र में डांस बार चलाने की सुप्रीम कोर्ट की हरी झंडी
  • पलानीस्वामी ने एम जी रामचंद्रन को दी श्रद्धांजलि
  • दिल्ली विश्वविद्यालय में ठेके पर शिक्षकों की नियुक्ति के विरोध में मार्च
  • कुम्भ में संगमतट पर कोविंद ने परिवार के साथ की पूजा अर्चना
  • कांगो में सामुदायिक हिंसा में एक माह में 890 लोग मरे
दुनिया Share

विदेश 3 के स्थान पर संशोधित

मॉरीशस में पाणिनी भाषा प्रयोगशाला भारतीय विदेश मंत्रालय के सहयोग से स्थापित की गई है। इसमें 35 कम्प्यूटर
के साथ ही भाषा प्रयोगशाला से संबंधित अन्य संसाधन भी उपलब्ध कराये गये हैं। भारत से आये तकनीकी विशेषज्ञों द्वारा
भारतीय भाषाओं के आधुनिक सॉफ्टवेयर लगाये गये हैं, जिसके माध्यम से प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा प्राप्त
करने वाले विद्यार्थियों को शिक्षक की नवीन प्रविधियों से भाषा के चार कौशल श्रवण, उच्चारण, वाचन और लेखन को
सुगम एवं वैज्ञानिक तरीके से सिखाया जाएगा।
श्रीमती स्वराज ने कहा, “हिंदी भाषा बेहद उदार है। हिन्दीभाषी लोग भाषा की अशुद्धियों रिपीट अशुद्धियों पर ध्यान
नहीं देते और गलत बोलने वालों को भी इसे बोलने की इजाजत देते हैं जबकि अन्य भाषा के साथ ऐसा नहीं है। यदि आप
गलत बोलते हैं तो लोग आपको साफ कह देंगे कि आप उस भाषा में नहीं बोल सकते हैं तो न बोलें।” उन्होंने कहा कि
भाषा की शुद्धता जरूरी है लेकिन शुद्धता का अर्थ क्लिष्ठ भाषा नहीं होनी चाहिए। हिन्दी विद्वानों को चाहिए कि वे क्लिष्ठ
भाषा की हठधर्मिता को छोड़, सरल और सहज भाषा को अपनायें, इससे हिंदी का विस्तार होगा।
विदेश मंत्री ने कहा कि डॉ. नरेंद्र कोहली की बात उन्हें अच्छी लगी कि कोई भी भाषा या शब्द तब तक कठिन
लगता है जब तक हम उससे अपरिचित होते हैं। जैसे-जैसे हम शब्द या भाषा से परिचित होते हैं तो वह सरल लगने लगता
है। पत्रकारों ने जब श्रीमती स्वराज को बताया कि मॉरीशस में युवा पीढ़ी हिंदी से दूर हो रही है। इस पर उन्होंने कहा कि
मॉरीशस भी भारत का छोटा भाई है और यहां के लोगों को भी लगता है कि हिंदी पढ़ने से रोजगार नहीं मिलता। लेकिन,
धीरे-धीरे यह भ्रम टूट रहा है। हिंदी बोलने और पढ़ने वाले लोगों की संख्या बड़ी होने के कारण अंग्रेजी की तुलना में सिर्फ
मीडिया के क्षेत्र में ही क्षेत्रीय भाषाओं के अखबार, पत्र-पत्रिकाओं, टीवी चैनलों में रोजगार ज्यादा मिल रहे हैं जबकि अंग्रेजी
मीडिया में रोजगार के अवसर कम हैं।
श्रीमती स्वराज ने कहा कि चीन, जापान, जर्मनी और रूस ने अंग्रेजी के बजाय अपनी भाषा को अधिक महत्व
दिया। वहां के लोग अंग्रेजी नहीं जानते लेकिन इसके कारण उन्हें ऊंचाइयां छूने से कोई नहीं रोक सका। यह साबित करता
है कि अपनी भाषा के बल पर भी मुकाम हासिल की जा सकती है।
शिवा. उपाध्याय
वार्ता
More News

कैमरुन में अगवा किये गये 36 यात्री रिहा

17 Jan 2019 | 11:03 AM

 Sharesee more..
जल्द से जल्द हो चीन-अमेरिका कारोबारी समझौता: वांग

जल्द से जल्द हो चीन-अमेरिका कारोबारी समझौता: वांग

17 Jan 2019 | 10:58 AM

बीजिंग 17 जनवरी (स्पूतनिक) चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा है कि चीन और अमेरिका को जल्द से जल्द कारोबारी समझौता करके दोनों देशों के नागरिकों और दुनिया के अन्य देशों को राहत प्रदान करनी चाहिए।

 Sharesee more..
क्यूबा और ईरान के बीच सहयोग बढ़ाने को लेकर कई समझौते

क्यूबा और ईरान के बीच सहयोग बढ़ाने को लेकर कई समझौते

17 Jan 2019 | 10:51 AM

हवाना 17 जनवरी (शिन्हुआ) क्यूबा और ईरान के बीच सहयोग का दायरा बढ़ाने के लिए बुधवार को कृषि, चिकित्सा एवं जैव प्रौद्योगिकी समेत विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने के लिए कई समझौतों पर हस्ताक्षर किये गये।

 Sharesee more..
थेरेसा नये ब्रेक्जिट पर करेंगी चर्चा शुरु

थेरेसा नये ब्रेक्जिट पर करेंगी चर्चा शुरु

17 Jan 2019 | 10:46 AM

लंदन 17 जनवरी (शिन्हुआ) ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने बुधवार को ब्रिटेन की संसद में उनके खिलाफ पेश किये गये अविश्वास प्रस्ताव को मात देने के बाद कहा कि वह जल्द ही फिर से विपक्ष के नेताओं के साथ नये ब्रेक्जिट समझौते को लेकर चर्चा शुरू करेंगी।

 Sharesee more..
image