Friday, Sep 21 2018 | Time 18:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तेलंगाना में आप सभी 119 सीटों पर लड़ेगी चुनाव: भारती
  • अब जियो टीवी पर देख सकेंगे क्रिकेट मैच
  • हुड्डा ने की बीएसएफ जवान के परिवार को सहायता देने की मांग
  • दीपावली पर दस हजार परिवारों के घर का सपना होगा पूरा
  • भारत-श्रीलंका महिला टीमों का दूसरा मैच धुला
  • बिहार के किसानों को अब फीडर से मिलेगी बिजली
  • जीप एवं मिनी ट्रक टकराने से सात लोगों की मौत-आठ घायल
  • निलम्बन के खिलाफ दलाल जाएंगे अदालत, राज्यपाल से हस्तक्षेप की मांग
  • एनएसई का लंदन स्टाॅक एक्सचेंज से करार
  • नहीं किया ट्रंप के साथ बैठक का आग्रह: ईरान
  • केजरीवाल ने शहीद के परिजनों को आर्थिक सहायता देने का दिया आश्वासन
  • सचिन ने दी लिट लेने से किया इंकार
  • सचिन ने दी लिट लेने से किया इंकार
  • तमाम उपलब्धियों के साथ तीन देशों की यात्रा से लौटे वेंकैया
  • भारत-पाकिस्तान वार्ता का कोई मतलब नहीं : कांग्रेस
दुनिया Share

हिन्दी को उचित सम्मान दिलाने के संकल्प के साथ विश्व हिन्दी सम्मेलन का समापन

मॉरीशस 20 अगस्त (वार्ता) हिन्दी को विश्व के अग्रणी भाषाओं में उचित सम्मान दिलाने और संयुक्त राष्ट्र संघ से आधिकारिक भाषा के तौर पर स्थापित कराने के संकल्प के साथ 11वें हिन्दी विश्व सम्मेलन ने अपना आखिरी पड़ाव पार कर लिया।
लगभग दो हजार हिन्दी विद्वानों के बीच स्वामी विवेकानंद अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन केन्द्र में तीन दिनों तक चले मंथन में हिन्दी के अबतक के विश्वव्यापी सफर पर संतोष व्यक्त किया गया और उसे जन-जन की भाषा बनाने के लिए सामूहिक प्रयास निरंतर जारी रखने का संकल्प लिया गया। सम्मेलन के दौरान हिन्दी के प्रसार के लिए कई अनुशंसाएं की गयी। तकनीक के माध्यम से हिंदी के विकास को लेकर कई सुझाव आए जिसमें हिंदी से जुड़े सॉफ्टवेयर को लांच करने और इसके लिए टेक कंपनियों से बातचीत करने की अनुशंसा की गई। साथ ही हिंदी शब्दों के विस्तार के लिए सॉफ्टवेयर की मदद से 10 हज़ार शब्दों की ऑनलाइन शब्दकोष बनाने की अनुशंसा भी की गयी। हिंदी में तकनीक को बढ़ाने के उद्देश्य से शोध के लिए और फंड देने की अनुशंसा की गई।
सम्मेलन के दौरान अमेरिका में भाषा और संस्कृति के प्रसार के लिए किये गये प्रयासों के अनुरूप दूसरे देशों में भी ऐसा ही प्रयास करने की आवश्यकता पर बल दिया गया। भारतीय भाषा के लिए एक मापदंड बनाने पर भी सहमति बनी। भाषा को संस्कृति से जोड़ने के लिए सभी देशों में रामायण और रामचरित मानस के पाठन की अनुशंसा की गई। प्रवासी भारतीयों के बीच भाषा के विकास के लिए युवाओं से अधिक से अधिक संवाद करने के लिए बहुआयामी प्लेटफार्म बनाने की भी अनुशंसा की गई।
शिवा उपाध्याय सतीश
जारी वार्ता
More News
तंजानिया नौका हादसे में मृतकों की संख्या 86 हुई

तंजानिया नौका हादसे में मृतकों की संख्या 86 हुई

21 Sep 2018 | 6:13 PM

दार अस सलाम 21 सितंबर (रायटर) तंजानिया की विक्टोरिया झील में गुरुवार को नौका हादसे में कम से कम 86 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो गई है और लापता अन्य लोगों की तलाश जा रही है।

 Sharesee more..
तंजानिया नौका हादसे में 44 लोगों के मारे जाने की पुष्टि

तंजानिया नौका हादसे में 44 लोगों के मारे जाने की पुष्टि

21 Sep 2018 | 5:28 PM

दार ए सलाम , 21 सितंबर (रायटर) तंजानिया की विक्टोरिया झील में गुरुवार को नौका हादसे में कम से कम 44 लोगों के मारे जाने की पुष्टि हो गई है और लापता अन्य लोगों की तलाश जा रही है। पुलिस सूत्रों ने यह जानकारी दी है।

 Sharesee more..

वियतनाम के राष्ट्रपति का निधन

21 Sep 2018 | 1:06 PM

 Sharesee more..
image