Monday, Sep 24 2018 | Time 07:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • क्यूबा के नए राष्ट्रपति अमेरिकी प्रतिबंध का करेंगे विरोध
  • मैक्रों की लोकप्रियता में आैर गिरावट : सर्वे
  • स्विट्जरलैंड के दूसरे प्रांत में भी बुर्का पर लगा प्रतिबंध
  • अपहृत नौका चालक दल के सदस्यों की हुई पहचान
  • मालदीव के राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार सोलिह जीते
  • मालदीव राष्ट्रपति चुनाव में विपक्षी उम्मीदवार की जीत
  • गब्बर और हिटमैन ने पाकिस्तान को धो डाला, भारत फाइनल में
  • अफगानिस्तान बाहर, बंगलादेश-पाकिस्तान में होगा सेमीफाइनल
  • कांगो में विद्रोहियों के हमले में 14 नागरिक मारे गये
  • हिमाचल में सड़क हादसों में छह की मौत,38 घायल
  • भाजपा के शीर्ष नेताओं में पर्रिकर से इस्तीफा मांगने का साहस नहीं : कांग्रेस
दुनिया Share

केरल बाढ़: चंदा के लिए जेनेवा पहुंचे थरूर

जेनेवा 20 अगस्त (वार्ता) कांग्रेस सांसद एवं संयुक्त राष्ट्र (संरा)के पूर्व अवर महासचिव शशि थरूर संरा के अधिकारियों और अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार एजेंसियों से प्रलयकारी बाढ़ से जूझ रहे केरल के लिए मदद की मांग को लेकर सोमवार को जेनेवा पहुंचे।
श्री थरूर ने अपने मार्गदर्शक एवं संरा के पूर्व महासचिव कोफी अन्नान के निधन पर उनके परिजनों से मिलने और केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए चंदा इकत्र करने के लिए अदालत से जेनेवा जाने की इजाजत मांगी थी।
श्री थरूर ने ट्वीट किया,“ यूएन और अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार एजेंसियों से बाढ़ की विभीषिका से जूझ रहे केरल के लिए मदद के संबंध में बात करने के लिए जेनेवा पहुंच गया हूं।” उन्होंने कहा कि हालांकि केरल के लिए मदद की मांग के संबंध में कदम उठाना भारत सरकार के अधिकार क्षेत्र में आता है। लेकिन केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन से बातचीत के बाद वह इस आपदा की घड़ी में केरल की मदद में हर संभव सहायता की संभावना तलाशने के लिए यहां पहुंचे हैं।
दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने श्री थरूर को केरल के लिए अंतरराष्ट्रीय मदद मांगने और श्री अन्नान के निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए जेनेवा जाने की इजाजत दी थी।
उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस ने हाल ही में श्री थरूर को उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में पटियाला हाउस कोर्ट में आरोपपत्र दाखिल किया था। सुनंदा की मौत के मामले में उन्हें एकमात्र आरोपी बनाया गया है। श्री थरूर पर सुनंदा को आत्महत्या करने के लिए उकसाने और प्रताड़ित करने का आरोप लगाया गया है।
श्री थरूर जमानत पर हैं और उन्हें अदालत की इजाजत के बिना विदेश जाने की अनुमति नहीं है।
नोबेल पुरस्कार से सम्मानित श्री अन्नान का शनिवार को स्विट्जरलैंड में निधन हो गया था। उनका जन्म घाना के कुमसी में आठ अप्रैल 1938 को हुआ था।
आशा वार्ता
image