Thursday, Sep 20 2018 | Time 18:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिंधू और श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में
  • संविधान के सम्मान में बसपा की मोटरसाइकिल रैली 24 सितंबर को
  • हरियाणा में पंजाबी हुये एकजुट, समुदाय से जुड़े मुद्दों पर करेंगे रैली
  • राफेल पर एचएएल के पूर्व प्रमुख का बयान सही नहीं
  • कुमारस्वामी को मेरे बारे में बात करने का नैतिक अधिकार नहीं: येद्दियुरप्पा
  • जेट के विमान में बीमार पड़े सभी यात्रियों को अस्पताल से छुट्टी
  • प्रखंड शिक्षा प्रसार पदाधिकारी रिश्वत लेते गिरफ्तार
  • झूठ बोलने वाले ‘मसखरा राजकुमार’ हैं राहुल : जेटली
  • हरियाणा में गांवों को साफ-स्वच्छ बनाने के लिये चलेगा अभियान
  • फिलीपींस में भूस्खलन:12 की मौत, कई मलबे में फंसे
  • फोटाे कैप्शन-पहला सेट
  • खेल मंत्री से न्याय नहीं मिला तो अदालत जाऊंगा: बजरंग
  • खेल मंत्री से न्याय नहीं मिला तो अदालत जाऊंगा: बजरंग
दुनिया Share

राखिने प्रांत में आतंकवाद बड़ा खतरा बना हुआ है: सू की

सिंगापुर 21 अगस्त (रायटर) म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की ने कहा है कि उनके देश के राखिने प्रांत में आतंकवाद का खतरा बना हुआ है जिसके क्षेत्र के लिए गंभीर नतीजे हो सकते हैं।
सुश्री सू की ने सिंगापुर में मंगलवार को एक व्याख्यान में कहा कि राखिने प्रांत में आतंकवादी गतिविधियां, जो मानवीय संकट के शुरुआती कारण के रूप में सामने आयीं, वास्तविक हाेने के साथ ही आज भी बरकरार हैं। इस सुरक्षा चुनौती से जब तक निपटा नहीं जायेगा तब तक साम्प्रदायिक हिंसा का खतरा बना रहेगा। यह ऐसा खतरा है जिसके गंभीर दुष्परिणाम हो सकते हैं जो न केवल म्यांमार बल्कि इस क्षेत्र के अन्य देशों के लिए भी संकट का कारण बनेगा।
नोबेल पुरस्कार से सम्मानित सुश्री सू की को म्यांमार में लोकतंत्र के लिए संघर्ष करने वाली महिला के रूप में जाना जाता रहा है लेकिन उत्तरी राखिने प्रांत में राेहिंग्या मुसलमानों पर सैन्य कार्रवाई को लेकर उनकी काफी आलोचना हुई है। उन घटनाओं को संयुक्त राष्ट्र ने ‘समूह विशेष का सफाया’ करार दिया है।
गौरतलब है कि पिछले वर्ष करीब 700000 रोहिंग्या मुसलमान सुरक्षा चौकियों पर हमले के बाद सेना की जवाबी कार्रवाई के पश्चात पड़ोसी देश बंगलादेश चले गये थे। म्यांमार बौद्ध बहुल देश है। म्यांमार ने हालांकि ‘समूह विशेष का सफाये’ से इन्कार किया है और उसका कहना है कि रोहिंग्या मुसलमानों पर कोई अत्याचार नहीं किये गये। म्यांमार का आरोप है कि रोहिंग्या आतंकवादी हरकतों में शामिल रहे हैं।
श्रवण, यामिनी
रायटर
More News
भारत से औपचारिक जवाब का इंतजार: पाकिस्तान

भारत से औपचारिक जवाब का इंतजार: पाकिस्तान

20 Sep 2018 | 6:05 PM

इस्लामाबाद 20 सितम्बर (वार्ता) पाकिस्तान ने गुरुवार को कहा कि उसे प्रधानमंत्री इमरान खान की आेर से भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे गये पत्र पर उनकी ओर से औपचारिक जवाब का इंतजार है।

 Sharesee more..

पाकिस्तान के साथ संबंध प्रगाढ़ : जिनपिंग

20 Sep 2018 | 1:03 PM

 Sharesee more..
image