Saturday, Jan 19 2019 | Time 15:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भाजपा ने देश को बांटा और हम राष्ट्र की एकजुटता के पक्ष में: नायडू
  • खतरे में है लोकतंत्र: सिन्हा
  • सुस्त जेवराती माँग से सोना टूटा
  • लोकसभा चुनाव की तैयारियों के सिलसिले में पुलिस मुख्यालय ने जारी किये दिशा-निर्देश
  • खतरे में है लोकतंत्र: सिन्हा
  • कश्मीर में बर्फ़बारी से यातायात प्रभावित, लेह हाईवे बंद
  • कार्यकर्ताओं पर हार का ठीकरा फोड़ने पर भूपेश ने भाजपा पर कसा तंज
  • बक्सर में ट्रक से भारी मात्रा में विदेशी शराब बरामद
  • उत्तरी अफगानिस्तान में आईएस का शीर्ष कमांडर गिरफ्तार
  • दिल्ली में धुंध से राहत, खिली धूप
  • कर्नाटक में एक सप्ताह बाद लौटे भाजपा विधायक
  • बाबुल सुप्रियो का तृणमूल कांग्रेस की विशाल रैली पर कटाक्ष
  • कमजोर लोगों पर हमला करता है डिमेंशिया
  • ठेके पर शिक्षकों की नियुक्ति का प्रस्ताव नहीं हो सका पारित
  • कोलकाता में ‘पाखंड शो’: बाबुल सुप्रियो
दुनिया Share

ईरान अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का कर रहा दुरुपयोग : अमेरिका

हेग 28 अगस्त (रायटर) अमेरिका ने मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (सीआईजे)से ईरान की उस याचिका को खारिज करने का अनुरोध किया गया जिसमें डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन की ओर से तेहरान के खिलाफ लगाये गये प्रतिबंधों को खत्म करने का आदेश देने का आग्रह किया गया था।
अमेरिका के वकीलों ने सीआईजे के समक्ष कहा कि ईरान का मूल उद्देश्य 2015 के परमाणु समझौते को फिर से बहाल करना है जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पहले ही खारिज कर दिया है।
मामले की सुनवायी कर रहे सीआईजे के न्यायाधीश ने सुनवाई शुरू होने से पहले अमेरिका से न्यायालय के फैसले काे सम्मान करने की बात कही। कई दशकों से एक दूसरे के बीच वैमनस्य की भावना रखने वाले दोनों देशों ने पूर्व में सीआईजे के कई फैसलों का निरादर किया है।
ईरान ने न्यायालय में दायर अपनी याचिका में कहा है कि अमेरिकी प्रशासन द्वारा लगाये गये प्रतिबंधों से पहले से ही आर्थिक रूप से खास्ता हाल तेहरान की हालत और खराब हो रही है और यह प्रतिबंध दो देशों के बीच मैत्री सहयोग का उल्लंघन है।
ईरान ने दोनों देशों के बीच 1955 में हुए मैत्री सहयोग को हवाला देते हुए सीआईजे में अमेरिका के खिलाफ शिकायत दर्ज की थी। इस समझौते में दोनों देशों में सहमति बनी थी कि वे ऐसा कोई भी कदम नहीं उठायेंगे जिससे दोनों देशों के के सरकारी,अथवा निजी व्यापारिक और आर्थिक हितों को नुकसान पहुंचे। दोंनों देशों में इस बात पर भी सहमति बनी थी कि यदि दोनों पक्ष कूटनयिक माध्यम से मतभेदों को दूर नहीं कर पायेंगे तो मामले को सीआईजे में ले जाया जाएगा।
अमेरिकी विदेश विभाग के कानूनी सलाहकार जेनिफर न्यूस्टेड ने इस मामले में मौखिक तर्क के दूसरे दिन कहा कि 1955 की संधि पर आधारित ईरान की अपील एक कानूनी पैंतरेबाजी है।
संजय आशा
रायटर
More News

कमजोर लोगों पर हमला करता है डिमेंशिया

19 Jan 2019 | 12:59 PM

 Sharesee more..
अमेरिका, उत्तर कोरिया के बीच कार्यकारी स्तर की ‘सार्थक’ बैठक

अमेरिका, उत्तर कोरिया के बीच कार्यकारी स्तर की ‘सार्थक’ बैठक

19 Jan 2019 | 11:28 AM

वाशिंगटन 19 जनवरी (वार्ता) अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और उत्तर कोरिया के शीर्ष जनरल किम योंग चोल के बीच वार्ता के बाद दोनों देशों ने कार्यकारी स्तर की सार्थक बैठक की है।

 Sharesee more..
मेक्सिको में तेल पाइपलाइन में विस्फोट, 20 मरे, 54 घायल

मेक्सिको में तेल पाइपलाइन में विस्फोट, 20 मरे, 54 घायल

19 Jan 2019 | 10:23 AM

मेक्सिको सिटी 19 जनवरी (वार्ता) मेक्सिको के हिडाल्गो प्रांत में शनिवार को एक तेल पाइपलाइन में विस्फोट होने से कम से कम 20 लोगों की मौत हो गयी और 54 अन्य घायल हो गये।

 Sharesee more..
अमेरिका में पुलिसकर्मी को सात साल की सजा

अमेरिका में पुलिसकर्मी को सात साल की सजा

19 Jan 2019 | 9:15 AM

वाशिंगटन 19 जनवरी (वार्ता) अमेरिका में शिकागो की एक अदालत ने एक अश्वेत नाबालिग लड़के की हत्या के मामले में एक पुलिसकर्मी को लगभग सात साल की कैद की सजा सुनायी है।

 Sharesee more..
image